Loading...

दिवाली की भाईदौज पर रक्षबंधन जैसा मौसम रहेगा | MP WEATHER FORECAST

भोपाल। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में त्यौहार बदल रहे हैं परंतु मौसम बदलने का नाम ही नहीं ले रहा। बादल तो ऐसे ​डटे हैं जैसे इंद्रदेव ने 24X7 की ड्यूटी लगाकर भेजा था और वापस कॉल करना भूल गए। तो खबर यह है कि दिवाली की दौज वाले दिन भी मौसम ठीक वैसा ही रहेगा जैसा रक्षाबंधन वाले दिन था। परिवहन के इंतजाम, बारिश से बचने के लिए उपकरण साथ रखें और खाने का मैन्यू भी रक्षाबंधन वाला ही रखें। दहीबड़े बनाए तो भैया को कोल्ड एंड कफ पक्का। 

प्रदेश में बीते दो दिन से हो रही बारिश ने दीपावली की रंगत थोड़ी फीकी कर दी। दीपावली की रात राजधानी सहित प्रदेश के अधिकांश जिलों में जोरदार बारिश हुई। सबसे ज्यादा बारिश बैतूल जिले के भैसदेही में 88.1 मिली मीटर बारिश दर्ज की गई है। यहां भारी बारिश से नदी-नाले एक बार फिर उफान पर आ गए। 

पूरे प्रदेश में मौसम का मिजाज शनिवार रात से ही बदला हुआ है। रविवार को दिनभर हल्की बारिश होती रही। रात करीब सात बजे के करीब बारिश ने रफ्तार पकड़ी और दो घंटे तक प्रदेश के अधिकांश जिलों में जोरदार बारिश हुई। मौसम विभाग से मिली जानकारी के अनुसार अरब सागर में ओमान के आसपास तूफान के कारण आ रही नमी से यह वर्षा हो रही है। राजधानी भोपाल में कल अलसुबह नमी से वर्षा की रिमझिम शुरू हुई जो देर रात तक जारी रही।

बारिश के दौरान ही रात्रि में पटाखों के धमाके एवं आवाजें गूंजती रही, लेकिन आकाश में बहुत नीचे तक बादल छाये रहने से पटाखों एवं आतिशबाजी का धुंआ भी काफी ऊपर ते नहीं जा पाने से वातावरण में धुंध एवं सर्द हवाओं से कोहरा व्याप्त हो गया। इससे प्रदूषण की स्थिति पैदा हो गई और कुछ लोगों को श्वास लेने में तकलीफ पैदा हो गई, तो कुछ को एलर्जी की शिकायत और खुजली होने लगी और बीमारों को अस्पताल जाना पड़ा। लेकिन आज सुबह 10 बजे के आसपास यहां बादल छँटने लगे। पांच दिन बाद चमकीली तेज धूप खिली तो लोगों ने बिगड़े मौसम से राहत की सांस ली पर शाम को चार बजे बादल फिर घिर आये। भोपाल में 8.1 मिमी वर्षा हुई।

प्रदेश में पिछले चौबीस घंटों में आज सुबह साढ़े आठ बजे तक सबसे ज्यादा 88.1 मिमी वर्षा भैसदेही (बैतूल) में हुई है। इसके साथ ही सिवनी में 34 मिमी, बैतूल 31 मिमी, छिंदवाड़ा में 30.4 मिमी, खंड़वा में 24 मिमी, ठीकरी में 16.1 मिमी, धार में 10 मिमी, पचमढ़ी में 8 मिमी, जोबट (अलीराजपुर) में 4.6 मिमी, इंदौर में 3.5 मिमी, जबलपुर में 1.4 मिमी, रायसेन में 1.2 मिमी, बड़वानी में 0.5 मिमी, सागर एवं होशंगाबाद में 0.4 मिमी तथा उज्जैन एवं राजगढ़ में बूंदाबांदी हुई। 

मौसम विभाग के अनुसार अगले चौबीस घंटों के दौरान भी प्रदेश में कहीं कहीं वर्षा या बूंदाबांदी हो सकती है। इनमें बालाघाट, छिंदवाड़ा, सिवनी, जबलपुर, कटनी, मंडला, नरसिंहपुर, अलीराजपुर, झाबुआ, खंड़वा, खरगोन, बैतूल, हरदा, होशंगाबाद, भोपाल, सीहोर और रायसेन जिलों में कहीं कहीं वर्षा हो सकती है। प्रदेश के शेष स्थानों पर मौसम शुष्क रहने की संभावना है। विभाग ने 31 अक्टूबर तक मौसम का हाल लगभग ऐसे ही बने रहने का अनुमान व्यक्त किया है। भोपाल में मानसून सीजन 30 सितंबर को समाप्त होने के बाद एक अक्टूबर से अब तक 56़ 6 मिमी वर्षा हुई है जो सामान्य से 18.9 मिमी अधिक है।

बैतूल में एंबुलेंस में कराया प्रसव

दीपावली पर शाम से हो रही तेज बारिश से नदियों में बाढ़ आ गई। बाढ़ के चलते गर्भवती महिला को एम्बुलेंस में डिलेवरी करानी पड़ी। ग्राम जुनवानी में रामकली पति हरिदास को प्रसव पीड़ा हुई  सूचना पर बैतूल से 108 मौके पर पहुची। प्रसव पीड़ा तेज होने पर 108 के कर्मचारियों ने बैतूल बाजार के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र ले जाने का निश्चय किया। तेज बारिश के कारण रास्ते मे बघोली के पास की पुलिया में बाढ़ आ गई जिसके चलते महिला का प्रसव एंबुलेंस में ही कर्मचारी द्वारा कराया गया। करीब दो घंटे बाद पुल पर पानी कम होने के बाद महिला को अस्पताल पहुंचाया गया।