Loading...

JAPAN STORM: 73 लाख लोग प्रभावित, 1000 से ज्यादा विमान फंसे, कई शहरों में तबाही

जापान में 60 साल के सबसे विनाशकारी तूफान ने भारी तबाही मचा दी है। वैज्ञानिकों ने इसे 'हगिबीस' नाम दिया है। अब तक 73 लाख लोग प्रभावित हुए हैं। सरकार ने उनसे अपील की है कि वो किसी सुरक्षित स्थान की तरफ चले जाएं। हजारों करोड़ रुपए की संपत्ति तबाह हो रही है। करीब 1000 से ज्यादा विमान तूफान की चपेट में आने की संभावना है। 

60 साल की सबसे भीषण तबाही, उजड़ गया सब कुछ


हगिबीस के चलते जापान में सर्वोच्च स्तर की चेतावनी जारी की गई है। जापान सरकार का कहना है कि अब तक 25 शवों की शिनाख्त हो चुकी है जबकि 100 से ज्यादा घायल सरकारी अस्पतालों में हैं। तूफान हगिबीस ने शनिवार को जापान में दस्तक दी है। फंसे लोगों को बचाने के लिए रविवार को बड़े पैमाने पर बचाव अभियान शुरू किया गया।

पिछले बार 1200 लोगों की मौत रिकॉर्ड में दर्ज की गई थी


माना जा रहा है पिछले 60 सालों में यह सबसे विनाशकारी तूफान है। साल 1958 में कान्टो और इजू क्षेत्र में इसी तरह का विनाशकारी तूफान आया था। सरकारी रिकॉर्ड में 1200 लोगों की तूफान के कारण मौत दर्ज की गई थी। 

तूफान की स्पीड 225 किलोमीटर प्रतिघंटा

तूफान और भारी बारिश की वजह से भूस्खलन भी हुआ है। ये तूफान फिलहाल 225 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से देश के पूर्वी तट की ओर बढ़ रहा है। जापानी मौसम विज्ञान एजेंसी के अधिकारियों ने तूफान हगिबीस को 'बेहद शक्तिशाली' कहा है। अब यह तूफान होंशू की ओर से प्रशांत महासागर के ऊपर से उत्तरी क्षेत्र की ओर बढ़ रहा है।

प्रभावित इलाकों मेें ब्लैकआउट, हजारों विमान तूफान में फंसे

एजेंसी ने टोक्यो, इजू और शिलुओका प्रांत में भूस्खलन के लिए एक आपातकालीन चेतावनी जारी की है। जापान में तूफान की वजह से ट्रेन सेवाएं बाधित हुई हैं, एक हजार से अधिक विमान हवाई अड्डों पर खड़े हैं। जबकि बिजली नहीं होने की वजह से हजारों घर अंधेरे में डूबे हुए हैं।

उधर प्रशासन ने 73 लाख से अधिक लोगों को सुरक्षित जगह जाने की सलाह दी है। अधिकारियों ने भीषण बाढ़ और भूस्खलन की कई घटनाओं की रिपोर्ट दी है। इस आपदा से निपटने के लिए सरकार सक्रिय हो चुकी है। पुलिस और सैन्य कर्मी बड़े बचाव कार्य के लिए मुस्तैद हैं।