Loading...

GWALIOR NEWS: बेटी को इंसाफ दिलाने थाने के चक्कर काट रहे पिता ने किया सुसाइड

ग्वालियर। एक साल से बेटी को इंसाफ दिलाने महिला थाना के चक्कर काट रहे पिता ने आखिरकार फांसी लगाकर जान दे दी। महिला थाना पुलिस मामला दर्ज नहीं कर रही थी। हर बार पीड़िता परिवार को सुनवाई के लिए नई तारीख देकर मामले को टाल रही थी। जबकि इस मामले में एसपी ग्वालियर ने भी मामला दर्ज करने के निर्देश दिए थे। घटना सोमवार रात सत्य नारायण की टेकरी जनकगंज की है। पुलिस ने शव को निगरनी में लेकर डेड हाउस में रखवा दिया है। 

जनकगंज थानाक्षेत्र स्थित सत्य नारायण टेकरी निवासी 60 वर्षीय ब्रह्मजीत शर्मा (Brahmajit Sharma) व उनकी पत्नी सिलाई का काम करते हैं। उनके तीन बेटी व एक बेटा है। फरवरी 2018 में उन्होंने बेटी दिव्या शर्मा (Divya Sharma) की शादी आगरा में योगेश शर्मा (Yogesh Sharma) से की थी। पर शादी के बाद से ही दिव्या को उसका पति व ससुराल पक्ष परेशान करने लगा। करीब एक साल पहले दिव्या को मारपीट कर घर भेज दिया। तभी दिव्या अपने पिता के साथ महिला थाना पहुंची और शिकायत की। उस समय एसपी ग्वालियर को भी FIR के लिए आवेदन दिया। पर इस मामले में अभी तक कोई मामला दर्ज नहीं हो सका। बेटी की स्थिति को देखकर ब्रह्मजीत शर्मा दुखी थे। सोमवार को उन्होंने परिवार से नजर बचाकर खुद को कमरे में बंद किया और फांसी लगाकर जान दे दी।

मृतक के बेटे पारस शर्मा ने बताया कि एक साल पहले एसपी ग्वालियर को शिकायत की। एसपी ने महिला थाना प्रभारी को मामला दर्ज करने के लिए कहा। महिला थाना पुलिस ने मामला दर्ज नहीं किया। जब भी पिता बेटी को लेकर थाना जाते थे तो महिला थाना प्रभारी एफआइआर करने के बदले एक या डेढ़ महीने आगे की तारीख थमा देती थी। जिससे बेटी का पिता खुद के अपमानित महसूस कर रहा था।

महिला थाना में शिकायत करने के बाद पुलिस हर बार नई तारीख यह कहते हुए देती थी कि दूसरे पक्ष को भी बुलाया जाएगा। पर पूरे एक साल में सिर्फ महिला थाना प्रभारी ने एक बार ही दूसरे पक्ष केा बुलाया। उनसे भी खुद बात की और पीड़ित परिवार को नई तारीख थमा दी।