Loading...

मंत्री सिंघार ने दोहराया: गर जिंदा हो तो फिर जिंदा नजर आना जरूरी है | MP NEWS

भोपाल। सीएम कमलनाथ से मुलाकात के बाद उमंग सिंघार ने दिग्विजय सिंह के खिलाफ कोई बयान नहीं दिया लेकिन दिग्विजय सिंह समर्थकों ने उनके बंगले के सामने उनका पुतला जलाया और विधायक एंदल सिंह कंसाना ने 'कौए को मारकर टांगना जरूरी है' कहा। इधर सिंघार ने अपनी बात रखते हुए दोहराया 'गर जिंदा हो तो फिर जिंदा नजर आना जरूरी है'

मंत्री उमंग सिंघार ने वसीम बरेलवी की पंक्तियां शेयर की हैं। उन्होंने लिखा है ' उसूलों पर जहाँ आँच आये टकराना जरूरी है। जो गर जिंदा हो तो फिर जिंदा नजर आना जरूरी है। सत्यमेव जयते! बता दें कि पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने मंत्रियों के नाम एक पत्र लिखा था। उमंग सिंघार ने उस पत्र को 'डर्टी पॉलिटिक्स' बताया और फिर दोनों के बीच संघर्ष शुरू हो गया। 

सिंधिया भी सिंघार के साथ

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने ग्वालियर में पत्रकारों से बातचीत में कहा कि राज्‍य सरकार को स्वतंत्र होकर काम करना चाहिए। इसमें किसी का भी हस्तक्षेप नहीं होना चाहिए। वनमंत्री उमंग सिंघार की दिग्विजय पर लगाए गए आरोप पर सिंधिया ने कहा कि कमलनाथजी को उमंग सिंघार की बात सुनना चाहिए। यदि आरोप गंभीर हैं तो इनकी जांच होनी चाहिए।