Loading...

हनी ट्रैप | आरती ने मोनिका का ब्रेनवॉश किया था, पक्की नौकरी और अच्छी जिंदगी का लालच | MP NEWS

भोपाल। मध्य प्रदेश के हाई प्रोफाइल हनी ट्रैप मामले में गिरफ्तार की गई मोनिका यादव एक तरह से पीड़ित भी नजर आ रही है। पक्की नौकरी और अच्छी जिंदगी के लालच में मोनिका यादव इस दलदल में फंस गई। पुलिस का दावा है कि आरती ने मोनिका का ब्रैनवॉश किया था। आरती ने और भी कई लड़कियों का इसी तरह ब्रेनवॉश किया होगा। मोनिका के माता पिता को तो सोमवार तक पता ही नहीं था कि उनकी बेटी ने यह सब क्या और क्यों कर डाला। 

एसएसपी को देखते बेहोशी का नाटक करने लगी

आरती दयाल और मोनिका यादव सोमवार सुबह हवालात में हंसकर बातें कर रही थीं। 10 बजे जैसे ही एसएसपी पूछताछ के लिए पहुंची तो आरती की बोलती बंद हो गई। वह बेसुध हो गई। उसे तत्काल एमवायएच पहुंचाया, जहां उसे इलाज के बाद शाम को थाने भेज दिया। पुलिस का कहना है कि आरती दयाल भोपाल, छतरपुर जाना नहीं चाहती है। इसलिए बीमारी का बहाना बनाकर अस्पताल पहुंची है। वह रविवार को भी खुद को प्रेगनेंट बताकर बचना चाहती थी, लेकिन प्रेग्नेंसी टेस्ट में इसकी पुष्टि नहीं हुई। 

मोनिका यादव को भोपाल लाया गया

आरती के अस्पताल जाने के बाद मोनिका को लेकर पुलिस टीम भोपाल रवाना हो गई। इंदौर पुलिस सोमवार शाम करीब 7:30 बजे आरोपी मोनिका यादव को लेकर भोपाल के अयोध्या नगर बाइपास स्थित सागर लैंडमार्क पहुंची। यहां मोनिका पिछले चार महीने से आरती दयाल की रूम पार्टनर बनकर रह रही थी। 

मोनिका के राजगढ़ वाले घर पहुंची पुलिस

पुलिस ने घर की तस्दीक ही और राजगढ़ के लिए रवाना हो गई। फिर रात करीब 10:30 बजे राजगढ़ जिले के संवासी गांव (नरसिंहगढ़ के पास) पहुंची। वहां सरपंच प्रतिनिधि के जरिए माेनिका के पिता काे बुलवाया और उन्हें कार में बैठाकर पूछताछ अपने साथ ले गई। पुलिस का कहना है कि इससे माेनिका काे अपना पक्ष रखने में सहायता मिलेगी।

भोपाल के न्यू मार्केट में बनते हैं फर्जी आधार कार्ड

टीआई शशिकांत चौरसिया ने बताया कि गैंग से कुछ पुरुषों के जुड़ने की बात भी सामने आई है। उनके बारे में पता कर रहे हैं। आरती ने बताया कि फर्जी आधार कार्ड श्वेता और बरखा ने भोपाल के न्यू मार्केट में एक दुकान से बनवाए थे। 

आरती दयाल ने मोनिका का ब्रैनवॉश किया, घरवालों को गुमराह किया

पुलिस का कहना है कि आरती दयाल ने मोनिका और उसके घर वालों को गुमराह किया। मोनिका का इतना ब्रैनवॉश कर दिया कि उसने भोपाल जाने के लिए आठ दिन भोजन नहीं किया था। इसके बाद वह मोनिका को अच्छी नौकरी और आलीशान जिंदगी दिलाने का बोलकर भोपाल ले गई थी। वहां आरती ने मोनिका को श्वेता और गैंग से मिलवाया था। शंका है कि उसने मोनिका जैसी कई लड़कियों को शिकार बनाकर कई लोगों के वीडियो बनाए होंगे।

बहुत बुरी हालत में है मोनिका का घर

गांव में माेनिका के घर की हालत बहुत खराब है। घर तक पहुंचने की संकरी गली कीचड़ से भरी है और पूरा घर कच्चा है। जब टीम रात काे उसके घर पहुंची ताे दालान में उसकी मां मुंह ढांके बैठी राे रही थी।