Loading...

सिंहस्थ घोटाला: फाइल कमलनाथ ने दबा रखी है, बदनाम जयवर्धन हो गए, ये रहा प्रमाण | MP NEWS

भोपाल। कांग्रेस में इन दिनों खो-खो का खेल चल रहा है। डॉ. गोविंद सिंह ने सिंधिया को खो किया तो एक मंत्री ने गोविंद सिंह को धप्पा कर दिया। दिग्विजय सिंह ने मंत्रियों को खो किया तो सिंघार ने दिग्विजय सिंह को धप्पा और जयवर्धन सिंह को खो कर दिया। जयवर्धन सिंह ने 24 घंटे भी नहीं बिताए और सीएम कमलनाथ को खो कर दिया। 

संक्षिप्त में समझिए कहानी कहां से शुरू हुई

दिग्विजय सिंह गुट के विधायक एवं मंत्रियों ने ज्योतिरादित्य सिंधिया की टीम के मंत्रियों को टारगेट करके बयानबाजी शुरू की। मंत्री डॉ. गोविंद सिंह ने अपने क्षेत्र में अवैध उत्खनन का मुद्दा उठाया। लोगों ने लगा कि वो कमलनाथ सरकार की पोल खोल रहे हैं, परंतु असल में वो ज्योतिरादित्य सिंधिया पर हमला कर रहे थे। सिंधिया के सिपहसालारों ने भी मंत्री डॉ. गोविंद सिंह पर जवाबी हमले किए। 

दिग्विजय सिंह ने चिट्ठी बम फोड़ा

तमाम तनाव के बीच पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने चिट्ठी बम फोड़ दिया। ना केवल चिट्ठी लिखी, बल्कि सोशल मीडिया पर लीक भी करवाई। मीडिया ने कहा कि राजा साहब ने अपनी ही पार्टी के मंत्रियों पर हमला किया है परंतु असल में यह भी सिंधिया की टीम को कसरे की कसरत थी। इस मामले में मोर्चा वनमंत्री उमंग सिंघार ने संभाला और दिग्विजय सिंह पर हमला कर दिया। सोनिया गांधी को चिट्ठी लिखी और आरोप लगाया कि दिग्विजय सिंह सिंहस्थ घोटाला पर कोई चिट्ठी क्यों नहीं लिखते। 

जयवर्धन सिंह ने नोटशीट वायरल करवा दी

जयवर्धन सिंह ने वनमंत्री उमंग सिंघार के आरोप का तत्काल जवाब दिया और देर रात अपने एक परिचित के हाथों वो नोटशीट भी वायरल करवा दी जिससे प्रमाणित होता है कि सिंहस्थ घोटाला की फाइल सीएम सचिवालय में दबा ली गई है। हालांकि उन्होंने कोई रिमांडर नहीं लिखा परंतु जयवर्धन सिंह निर्दोष हैं।