Loading...

JNU की पासआउट छात्रा शेहला रशीद देशद्रोह की आरोपी, मामला दर्ज

नई दिल्ली। दिल्ली पुलिस ने जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी (JNU) की पूर्व छात्रा शेहला रशीद के खिलाफ देशद्रोह का केस दर्ज किया है। शेहला रशीद पर सेना के खिलाफ भ्रम फैलाने का आरोप लगा है। देशद्रोह का केस तीन सितंबर को दर्ज किया गया है। शेहला के खिलाफ दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने आईपीसी (IPC) की धारा 124A, 153A, 153, 504 और 505 के तहत मामला दर्ज किया है। सुप्रीम कोर्ट के वकील अलख आलोक श्रीवास्तव की शिकायत पर ये मुकदमा दर्ज किया गया है।

सेना के खिलाफ झूठी खबरें फैलाने का आरोप

शेहला रशीद पर आरोप है कि 18 अगस्त को उन्होंने जम्मू-कश्मीर और सेना को लेकर एक के बाद एक कई ट्वीट किये थे। शेहला ने भारतीय सेना पर कश्मीर के लोगों के साथ अत्याचार करने का आरोप लगाया था। सेना ने शेहला के आरोपों का खंडन करते हुए इसे झूठ करार दिया था।

शेहला के ट्वीट के कारण अंतरराष्ट्रीय मीडिया में गलत खबरें चलीं

आरोप है कि शेहला के इस ट्वीट को लेकर अंतरराष्ट्रीय मीडिया में भारत और सेना के खिलाफ खबर चली। ऐसे में देश और सेना की छवि को धूमिल करने की कोशिश की गई है। शिकायत में कहा गया है कि शेहला रशीद ने हिंसा भड़काने के इरादे से जानबूझकर देश के खिलाफ खबरें फैलाई। 

कश्मीर में अशांति पैदा करने की कोशिश की

आरोप है कि शेहला ने ट्वीट से कश्मीर में अशांति पैदा करने की कोशिश की। अलख आलोक श्रीवास्तव ने पुलिस से मांग की थी कि शेहला ने भारतीय सेना और सरकार के खिलाफ झूठी खबरें फैलाई, इसलिए उनके खिलाफ मामला दर्ज करके गिरफ्तार करना चाहिए। 

जम्मू-कश्मीर सरकार ने आरोपों का किया था खंडन

शेहला रसीद की ट्वीट के बाद जम्मू-कश्मीर सरकार ने भी बयान जारी कर आरोपों का खंडन किया था। जम्मू-कश्मीर की सूचना जनसंपर्क विभाग की निदेशक सईद सेहरिश असगर ने स्पष्ट किया था कि घाटी में कानून व्यवस्था से संबंधित कोई अप्रिय घटना नहीं हुई है।

शेहला ने किया था ये ट्वीट

18 अगस्त को शेहला रशीद ने कश्मीर के मौजूदा हालात को लेकर 10 ट्वीट किए थे। इन ट्वीट्स में दावा किया गया था कि वहां हालात बेहद खराब है। शेहला रशीद इन दावों को आधार बनाते हुए अंतरराष्ट्रीय मीडिया में सेना और सरकार के खिलाफ खबरें चली थीं। 

शेहला की गिरफ्तारी की मांग

इसके बाद सुप्रीम कोर्ट के वकील अलख आलोक श्रीवास्तव ने शेहला रशीद के खिलाफ आपराधिक शिकायत कराई थी। कथित तौर पर भारतीय सेना और भारत सरकार के खिलाफ फर्जी खबर फैलाने के आरोप में उनकी गिरफ्तारी की मांग की गई है।

पहले भी मामला दर्ज हो चुका है

इससे पहले भी शेहला राशिद पर विवादित बयान देने के आरोप लगते रहे हैं। फरवरी 2019 में उन्होंने देहरादून में कश्मीरी छात्रों को बंधक बनाने को लेकर उन्होंने कथित तौर पर झूठी टिप्पणी की थी। इस बयान के बाद देहरादून पुलिस ने शेहला के खिलाफ सांप्रदायिक सौहार्द फैलाने और धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने की धाराओं में केस दर्ज किया गया था।