Loading...

हनी ट्रैप: आरती दयाल ने स्वीकारा, श्वेता जैन के लिए काम करती थी | HONEY TRAP LATEST

इंदौर। रिमांड के आखरी दिन आरती दयाल ने स्वीकार कर लिया कि वो श्वेता जैन के लिए काम करती थी और उनका रैकेट अधिकारियों को ब्लैकमेल करने का काम करता था। इससे पहले आरती दयाल की साथी मोनिका यादव ने आरती दयाल पर आरोप लगाया था कि 'उसे सरकारी नौकरी और अच्छी जिंदगी का लालच देकर इस दलदल में खींच लिया था।' आरती ने बताया कि हरभजन सिंह ने खुद ही करोड़ों के ठेके और मोनिका को नौकरी का वादा किया था। जब पूरा नहीं किया तो 3 करोड़ में सेटलमेंट की बात की गई। 

आरती दयाल ने बताया वो श्वेत जैन के लिए काम कर रही थी

एसएसपी रुचि वर्धन मिश्र के अनुसार आरती दयाल उर्फ आरती सिंह उर्फ ज्योत्सना सिंह और मोनिका यादव उर्फ सीमा सोनी का शुक्रवार को रिमांड समाप्त हो रहा है। आरती अभी तक बीमारी का बहाना बना कर पूछताछ में सहयोग नहीं कर रही थी। गुरुवार को एसआईटी सदस्य एसपी साइबर विकास शहवाल, क्राइम ब्रांच एएसपी अमरेंद्रसिंह, सीआईडी निरीक्षक मनोज शर्मा की टीम पूछताछ करने महिला थाने पहुंची। आरती ने पहले आनाकानी की लेकिन जैसे ही उसे पुख्ता सबूत दिखाए, वह टूट गई। उसने स्वीकार कर लिया कि श्वेता जैन के गिरोह से जुड़ कर अधिकारी, नेता और कारोबारियों को ब्लैकमेल कर रही थी। एसएसपी के अनुसार आरती से कई बैंक खातों की जानकारी मिली है। पुलिस ने खाते सीज करने के लिए बैंकों को पत्र जारी किए हैं।

मोनिका यादव ने पुलिस को हर ठिकाने की जानकारी दी

उधर पलासिया थाना टीआई शशिकांत चौरसिया मोनिका यादव को लेकर भोपाल पहुंचे और आरती, श्वेता के ठिकानों पर छानबीन की। मोनिका ने उन स्थानों की जानकारी भी दी, जहां दोनों बैठक करती थीं। पुलिस ने आरती के घर से कुछ सामग्री भी जब्त की लेकिन उसका खुलासा नहीं किया।

पूछताछ और बयानों के लिए हरभजन को नोटिस जारी

पुलिस ने फरियादी इंजीनियर हरभजनसिंह को भी नोटिस जारी कर दिया है। बताया जाता है पुलिस मानव तस्करी का केस दर्ज करने के बाद हरभजन से पूछताछ करना चाहती है। एसएसपी ने नोटिस देने की पुष्टि की और कहा कि पुलिस कोर्ट में धारा 164 के तहत बयान करवाना चाहती है।

आरती-श्वेता के मोबाइल को decode करने में जुटी SIT

आरती और श्वेता को फोन में कई मैसेज और नंबर कोडवर्ड में मिले हैं। गुरुवार को साइबर एसपी विकास शहवाल और निरीक्षक मनोज शर्मा पलासिया थाने पहुंचे और आरोपितों के फोन को डिकोड करना शुरू किया। सूत्रों के अनुसार संदेही नामों की जानकारी मिलने पर पूछताछ करने की तैयारी कर रही है।