Loading...

देश भर के शिक्षकों का मूल्यांकन करेगी केंद्र सरकार | Central government will evaluate all teachers of India

नई दिल्ली। मानव संसाधन विकास मंत्रालय नई दिल्ली की ओर से पूरे देश के कक्षा 1 से 8 तक के सरकारी स्कूलों की कुंडली तैयार की जाएगी। इसके लिए एक निर्धारित ऑनलाइन प्रपत्र तैयार कर राज्य सरकार को भिजवाया गया है।

शिक्षकों और संस्थाप्रधानों के कार्याे का स्व-मूल्याकंन किया जाएगा

राज्य परियोजना निदेशक ने समग्र शिक्षा अभियान के परियोजना समन्वयक को आदेश जारी किया है। वार्षिक कार्ययोजना में शिक्षक मूल्यांकन की प्रक्रिया फिर शुरू की जाएगी। इसके लिए राज्य सरकार की ओर से सभी प्राथमिक और उच्च प्राथमिक स्कूलों में कक्षा 1 से 8 तक के बच्चों को अध्यापन कराने वाले शिक्षकों और संस्थाप्रधानों के कार्याे का स्व-मूल्याकंन किया जाएगा। 

विशेष गाइड लाइन तैयार कर राज्य सरकार को भेजी गई

इस स्व-मूल्यांकन का मुख्य उद्देश्य शिक्षकों को पढ़ाई कराने के दौरान आने वाली कठिनाइयों और चुनौतियों के आंकलन किया जाएगा। शिक्षक प्रशिक्षणों का डेटाबेस तैयार किया जाएगा। इसके लिए विशेष गाइड लाइन तैयार कर राज्य सरकार को भेजी गई है। परियोजना समन्वयक को गाइडलाइन के अनुसार शाला दर्पण पोर्टल के आधार पर मूल्यांकन ऑफलाइन और ऑनलाइन भरा जाएगा।

ये सूचनाएं भरनी होंगी शिक्षकों को

शिक्षकों को अपनी शैक्षणिक योग्यता, एम्पलाई आईडी, एसआई नंबर, एनवाईसी आईडी और अन्य व्यक्तिगत सूचनाएं भरनी होगी। शिक्षक और संस्था प्रधान की ओर से विगत 6 माह की औसत उपस्थिति और शैक्षणिक, गैर शैक्षणिक कार्य के लिए विभाग में प्रतिनियुक्ति पर रहे। कुल दिवसों की संख्या भरनी होगी। इसे संस्था प्रधान और पीईईओ पुष्टि करेगा। शिक्षक को ब्लॉक, जिला, राज्य और राष्ट्र स्तरीय पुरस्कार मिला है। तो उसका भौतिक विकास में योगदान, सहशैक्षणिक गतिविधियों का संचालन और योगदान का संपूर्ण ब्यौरा देना होगा।

यह है मूल्यांकन का प्रारूप, इससे तय होगी कुंडली

शिक्षक मूल्यांकन प्रपत्र में प्रत्येक छह माह में शिक्षक स्वयं भरेगा। मानव संसाधन एंव विकास मंत्रालय की ओर से वार्षिक कार्ययोजना तैयार की जाएगी।
शिक्षक मूल्यांकन में कक्षा 1 से 8 तक के सभी शिक्षकों को भरना अनिवार्य होगा।
शिक्षक मूल्यांकन प्रपत्र शिक्षकों, संस्थाप्रधानों की ओर से स्कूल, शिक्षक लॉगिन से समग्र शिक्षा इंट्रीग्रेटेड पोर्टल पर शिक्षक स्वयं भरेंगे।
शिक्षक मूल्यांकन प्रपत्र पहला जनवरी से जून तक होगा। वहीं दूसरा प्रपत्र जुलाई से दिसंबर तक होगा।
शिक्षक मूल्यांकन प्रपत्र भरने के बाद नियंत्रणा अधिकारी की ओर से टिप्पणी किए जाने के बाद उसकी प्रिंट निकालने की सुविधा होगी। इस प्रिंट का रिकॉर्ड शिक्षक अपने पास रखेगा।