Loading...

16 सितम्बर : असतो मा सद्गमय | EDITORIAL by Rakesh Dubey

भोपाल। जीवन के साठ बरस बीत गये | उनका कैसे आभार मानूं ,जिनके कारण मेरा अस्तित्व इस पायदान तक पहुंचा है | उनके उपकार को चुकाने के लिए मेरा शब्दकोष, कोई शब्द नहीं सुझा रहा है | नतमस्तक हूँ, निशब्द हूँ | आत्मा के अस्तित्व का हामी हूँ | मम्मीजी- पापाजी सहित वे सभी पूर्वज आगे भी अपनी कृपा ऐसे ही बरसाते रहेंगे | साठ के बाद की डगर कठिन होती है, परिवार के बाहर के कई और परिवार के एक दो अनुभव मनसा- वाचा- कर्मणा में संतुलन की शिक्षा दे रहे हैं | प्रभु कृपा करना आगे का जीवन संतुलित रहे | इस पायदान पर खड़े होकर जब पीछे देखता हूँ, तो वो सब याद आते हैं , जो इस यात्रा में मेरे प्रकाश स्तम्भ रहे हैं, और आगे भी मार्गदर्शन कर रहे हैं |

बड़ी बहिन का निरंतर जारी संघर्ष, छोटे भाईयों का जाना, निरंतर संदेश देता है काश तुम कुछ और अच्छा कर पाते | जो बन सका किया और आगे भी शुभ सोचने और करने का संकल्प | असली जीवन और संघर्ष घर के बाहर की दुनिया में होता है | स्कूल में ही स्व. श्री हजारीलाल जी वोहरा ने सिखा दिया था कि “ अभाव से स्वभाव का निर्माण होता है, बहुत बारीक़ सी लाइन होती है जिसके इस पार श्रम और कष्ट होता है और उस पार बैगेरती और भ्रष्टाचार | इस पार ही रहना |” कष्ट सहे, परिवार को कष्ट में रखा | पूर्वजों और गुरु का आशीर्वाद फलीभूत हुआ, अब आनन्द है | इस उम्र में जितना स्वस्थ होना चाहिए, उससे अधिक स्वस्थ हूँ | बेटे बेटी सब स्वस्थ, अपने-अपने कामों में लगे हुए |

लिखने- पढने के संस्कार बचपन से ही मिल गये थे, वे बचपन समाप्त होने से पहले ही वृत्ति में बदल गये | स्कूल में ताली बजाकर मेरा उत्साह बढ़ाते दोस्त संतोष गर्ग, डॉ प्रमोद अग्रवाल, दिनेश नेमा आज भी उसी भाव से साथ हैं | जब हम मिलते हैं, उस दिन उम्र, वहीँ पहुँच जाती है, जहाँ से हम जुड़े हैं | कोशिश करता हूँ, मेरे बाल सखा मेरे हर अच्छे-बुरे से जुड़े रहें | महाविद्यालयीन साथी परिचित बने दोस्त नहीं | मैं नियमित छात्र होते हुए भी परिवार को सहारा देने में अधिक समय जीविका को देता था | फिर भी विधि स्नातक साथ- साथ हो गया |

पत्रकारिता 1975 के दशक में वैसे भी अनुभव और वरिष्ठों की कृपा से सीखी जाती थी | मध्यप्रदेश के सागर वि वि में पहला पत्रकारिता अध्ययन विभाग में 1983 में ही खुला | तब तक क्रियात्मक पत्रकारिता में स्व. भाई रतन कुमार, स्व गंगा प्रसाद ठाकुर, स्व. मायाराम सुरजन, स्व. त्रिभुवन यादव, स्व के पी नारायणन से बहुत कुछ समझा सीखा | बड़े भाई की भांति स्व. राजेन्द्र नूतन और पद्म श्री विजय दत्त श्रीधर ने बारीकियां सिखाई | स्वदेश में स्व.सूरज पोतदार ने लिखने का निर्बाध मौका दिया, खबरें चमकने लगी | दैनिक जागरण ने राजनीतिक समझ का विकास किया |

90 का दशक भोपाल में पत्रकारिता के वेतन और परिवार के खर्चों के बीच असंतुलन रहने लगा | एक विचित्र स्थिति बनने लगी तो देश की राजधानी नई दिल्ली का सहारा लिया | स्व. रज्जू बाबू [राजेन्द्र माथुर ] ने स्वतंत्र लेखन का मन्त्र दिया | भोपाल और दिल्ली के बीच काम करते हुए कैसे संतुलन बनाये की दीक्षा स्व. प्रभाष जोशी ने दी | स्व. एन राजन भोपाल से सहारा देते रहे | श्री महेश श्रीवास्तव की तो अनुजों पर हमेशा कृपा रही है, मुझ पर कुछ ज्यादा रही और है |

यायावरी पत्रकारिता का यह दौर भारत भ्रमण करा ही रहा था | साथ यह भी अहसास दिलाता था, कुछ अपूर्ण है | पत्रकारिता में स्नातकोत्तर की डिग्री करने का मन सालों से था | 2012 में वह भी कर डाला | दिल्ली में रहने का ठिकाना के एन गोविन्दाचार्य जी का कार्यालय था | विद्यार्थी काल में उनसे हुआ सम्पर्क मेरे लिए “छत” बन गया था | रैन बसेरे तो साउथ एवेन्यू और नार्थ एवेन्यू में सांसद सुरेन्द्र सिंह ठाकुर और सांसद सुरेश पचौरी के घर भी कभी- कभी रहे | गोविन्द जी का आज तक घर नहीं है, वे जहाँ भी रहते हैं उसे कार्यालय कहते हैं, पर वह स्थल होता विश्वविद्यालय है | विश्व को सही और पूरी तरह देखने समझने की दीक्षा गोविन्दजी के साथ , उनके यहाँ निरंतर आने वाले श्री राम बहादुर राय, श्री अच्युतानंद मिश्र जैसे मूर्धन्य पत्रकारों के साथ अनेक विद्वतजनों से मिली | सबका कृतग्य हूँ | 

आप पूछ सकते हैं, 2015 से निरंतर लिखा जा रहा “प्रतिदिन” आज अलग क्यों है ? आज इसका विषय “मैं” खुद क्यों हूँ ? इसमें में हाई स्कूल के एक शिक्षक श्री कुरैशी जी की कृपा है | उन्होंने मेरी जन्मतिथि कुछ आगे खिसका दी थी | जिससे मैं दो बरस बाद आज प्रमाणित रूप से साठ साल का हुआ हूँ | आज 16 सितम्बर है, सरकारी तौर पर साठ साल का | सबको प्रणाम करता हूँ और ईश्वर से प्रार्थना अगला मार्ग सद्मार्ग बनाना | फिर एक बार इस यात्रा में मेरे मार्गदर्शन के लिए वरिष्ठ जनों का, साथ चले सहभागियों का, परिजनों का आभार| जिनके सहयोग के बिना यह यात्रा इस मुकाम तक पहुंचना मुश्किल थी |
देश और मध्यप्रदेश की बड़ी खबरें MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए (यहां क्लिक करेंया फिर प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com
श्री राकेश दुबे वरिष्ठ पत्रकार एवं स्तंभकार हैं।
संपर्क  9425022703        
rakeshdubeyrsa@gmail.com
पूर्व में प्रकाशित लेख पढ़ने के लिए यहां क्लिक कीजिए
आप हमें ट्विटर और फ़ेसबुक पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं