Loading...

एक पंखा जिससे लटककर सुसाइड नहीं कर सकते (VIDEO) | JABALPUR NEWS

ज्यादातर आत्महत्याएं पंखे से लटककर की जातीं हैं। सीलिंग फेन सुसाइड का सबसे बड़ा जरिया बन गया है। विशेषज्ञों का मानना है कि यदि व्यक्ति के पास सरल विकल्प ना हों तो वो आत्महत्या का मूड बदल देता है। जहरीली दवाओं की बिक्री पर प्रतिबंध इसी सिद्धांत के चलते लगाया गया और इसका फायदा भी हुआ लेकिन लोगों ने सीलिंग फेन को सुसाइड कर जरिया बना लिया परंतु अब ऐसा नहीं होगा। 

जबलपुर के एक डॉक्टर ने ऐसा पंखा बनाया है जिस पर लटक कर खुदकुशी करने की कोशिश करने पर मौत नहीं होगी। जबलपुर के हृदय रोग विशेषज्ञ और मेडिकल यूनिवर्सिटी के कुलपति डॉ. आर.एस. शर्मा ने एक ऐसे यंत्र का आविष्कार किया है जिसे पंखे में लगाने से पंखे से लटकने वाले शख्स की मौत नहीं हो पाएगी।

फांसी पर झूलते ही पंखा नीचे आ जाएगा

डॉ. आर.एस. शर्मा के यंत्र को भारत सरकार के इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी एक्ट के तहत पेटेंट मिल गया है। एम्स नई दिल्ली से प्रदेश के पहले डीएम ऑडियोलॉजिस्ट डॉ. शर्मा ने करीब 6 साल पहले इस यंत्र को डिजाइन किया था जिसमें ऐसे फीचर मौजूद हैं कि सीलिंग फैन के सहारे फांसी पर झूलते ही पंखा नीचे आ जाएगा और फांसी लगाने वाले शख्स के पैर जमीन पर आ जाएंगे। इससे असमय मौत को टाला जा सकेगा।

आत्महत्या के आंकड़े लगातार बढ़ रहे हैं

पिछले कुछ सालों में आत्महत्या के आंकड़े लगातार बढ़ रहे हैं। जबलपुर जिले की बात करें तो रोजाना औसत 2 लोग आत्महत्या कर रहे हैं। आत्महत्या का सबसे प्रचलित तरीका फांसी है। हॉस्टल, घर, होटल के कमरे, खेतों में या फिर कहीं भी फांसी लगाकर आत्महत्या के मामले ज्यादा देखने को मिलते हैं। अब ऐसे में डॉक्टर शर्मा का आविष्कार आने वाले समय में कई लोगों को मौत के मुंह से बाहर ला सकता है।