Loading...

MPPSC 2019 की तैयारियां शुरू कर दीजिए, चेयरमैन ने कहा है: जीरो ईयर नहीं जाने देंगे

भोपाल। मप्र लोक सेवा आयोग की राज्य सेवा परीक्षा-2019 (MPPSC CIVIL SERVICE EXAM-2019) का इंतजार कर रहे उम्मीदवारों को तैयारियां शुरू कर देनी चाहिए क्योंकि पीएससी के चेयरमैन डॉ. भास्कर चौबे का कहना है कि (CHAIRMAN Dr BHASKAR CHOUBEY STATEMENT) जीरो ईयर नहीं जाने देंगे यानी इसी साल अधिसूचना (NOTIFICATION) जारी हो जाएगी। बता दें कि यह अधिसूचना जनवरी 2019 में जारी होनी थी लेकिन अगस्त तक नहीं हुई। 

मध्य प्रदेश सहित देश भर में लाखों अभ्यर्थी मप्र लोक सेवा आयोग की राज्य सेवा परीक्षा-2019का इंतजार कर रहे हैं। आयोग के शेड्यूल के मुताबिक जनवरी में नोटिफिकेशन आ जाना था। अप्रैल में प्रारंभिक परीक्षा, जुलाई में मुख्य परीक्षा और नवंबर तक इंटरव्यू हो जाना थे, लेकिन कुछ नहीं हुआ। अब पीएससी के चेयरमैन डॉ. भास्कर चौबे का कहना है कि जीरो ईयर नहीं जाने देंगे, दिसंबर तक विज्ञापन निकाल देंगे। 

कहीं दिग्विजय सिंह सरकार के जैसा हाल तो नहीं होगा

वहीं जो लंबे समय से परीक्षा की तैयारी कर रहे वे इस बात से डरे हैं कि कहीं पिछली कांग्रेस सरकार के समय जैसे पीएससी परीक्षा पर रोक सी लग गई थी, वैसा तो नहीं होगा। हालांकि चेयरमैन के दिलासे से अभ्यर्थियों में उम्मीद जरूर बंधी है। 

पदों की डिमांड देरी से आई तो भी विज्ञापन निकाल देंगे

चेयरमैन चौबे ने कहा कि पहले लोकसभा चुनाव की आचार संहिता, इसके बाद अब सवर्णों के लिए लागू हुआ आरक्षण और ओबीसी आरक्षण के कारण देरी हुई। अब रोस्टर में बदलाव करके विभाग जल्दी से जल्दी हमें डिमांड भेज देंगे। जानकारी आने के बाद हम परीक्षाओं की तैयारियां शुरू कर देंगे। सरकार से भी बात चल रही है। पदों की डिमांड देरी से आई तो भी हम विज्ञापन निकाल देंगे, जिससे जीरो ईयर घोषित नहीं होगा। वहीं, उन्होंने असिस्टेंट प्रोफेसर के मामले में कहा कि पदों की रिवाइज लिस्ट निकाली है, कोर्ट के कुछ आदेश थे। 

एमपीपीएससी का मॉडल अन्य राज्य अपनाते हैं 

पीएससी चेयरमैन ने कहा कि हमारा सिस्टम अच्छा है। इसमें पारदर्शिता है। दूसरे राज्य भी हमसे मदद लेते हैं। 2012 की परीक्षा में पेपर लीक हुआ था? इस सवाल पर उन्होंने कहा कि परीक्षा निरस्त हुई थी, वो माना। हालांकि उस समय पेपर लीक नहीं था।