मप्र: 8 जिलों में मूसलाधार, 28 जिलों में भारी बारिश की चेतावनी | MP WEATHER FORECAST

भोपाल। मौसम विशेषज्ञों ने मध्य प्रदेश में लगातार बारिश की चेतावनी जारी की है। प्रदेश के 8 जिलों में आम जनजीवन को प्रभावित करने वाली मूसलाधार बारिश का अनुमान लगाया गया है जबकि 28 जिलों में भारी बारिश होगी। नदी-नाले पहले से ही उफान पर हैं। आधा दर्जन से ज्यादा बांधों के गेट खोले जा चुके हैं। निचले इलाकों में पानी भरा हुआ है। लोग राहत शिविरों में भी हैं। 

36 ज़िलों के लिए अलर्ट
मौसम विभाग ने अभी पूरे प्रदेश में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है। 36 जिलों में भारी से भारी बारिश की चेतावनी दी है। पूर्वानुमान के मुताबिक सीहोर, होशंगाबाद, सागर, छिंदवाड़ा, दमोह, टीकमगढ़, बड़वानी, मंदसौर सहित कई जिलों में भारी से भारी बारिश हो सकती है।

गुना-आसमान से बरसी आफत
गुना में भारी बारिश जारी है। इस वजह से इलाके के जलाशय लबालब हो गए हैं। यहां गोपीकृष्ण सागर बांध के सभी गेट खोलने पड़े। इसी के साथ राजीव सागर बांध, रामपुर तालाब, सिंहवासा तालाब, भुजरिया तालाब भी ओवरफ्लो हो रहे हैं। बारिश के कारण निचली बस्तियों में पानी भर गया है और फतेहगढ़-राजस्थान मार्ग पर आवाजाही बंद हो गयी है। प्रशासन ने हाईअलर्ट जारी किया है।

श्योपुर-चंबल-पार्वती उफान पर
श्योपुर में भी बाढ़ आ गयी है। झमाझम बारिश के कारण यहां चंबल और पार्वती नदी उफान पर हैं। श्योपुर का राजस्थान के कोटा, बारां और खातौली से सड़क सम्पर्क टूट गया है। सुंडी और सांढ़ गांव बाढ़ के कारण टापू बन गए हैं। कुंहाज़ापुर के कई घरों में भरा पानी भर गया है।

शिवपुरी-पुल पर 10 फुट पानी
शिवपुरी में सिंध नदी में इतनी बाढ़ आ गयी है कि यहां पचावली पुल पर 10 फुट ऊपर तक पानी बह रहा है। बदरवास विकासखण्ड में बाढ़ के कारण गांव वाले रात भर परेशान रहे लेकिन प्रशासनिक अमला नदारद था।

शाजापुर-स्कूल आज बंद
शाजापुर में बारिश से थोड़ी रातह मिली लेकिन नदी-नाले फिर भी उफान पर हैं। यहां फिलहाल रुक रुक कर बारिश और बूंदाबांदी जारी है लेकिन पहले ही इतनी बारिश हो चुकी है कि नदी- नालों में तेज़ बहाव जारी है। चिलर डेम ओवरफ़्लो हो रहा है। गांवों का ज़िला मुख्यालय से सड़क संपर्क टूटा हुआ है। भारी बारिश और बाढ़ को देखते हुए आज भी ज़िले में स्कूल बंद हैं। मदाना गांव में निचली बस्तियों में पानी घुसने के बाद कल शाम होमगार्ड रेस्क्यू टीम ने लोगों को वहां से निकाल कर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया था।

नदी में फंसे मछुआरों को बचाया
टीकमगढ़ में बीच नदी में फंसे तीन मछुआरों को रेस्क्यू कर निकाल लिया गया है। ये तीनों रातभर नदी के बीच में फंसे रहे। तीनों मछुआरे, काठिन और धसान नदी के बीच मछली पकड़ने गए थे उसी दौरान नदी में बाढ़ आ गयी। तीनों कुडीला गांव के रहने वाले हैं।

नीमच-लैंड स्लाइडिंग
नीमच में गांधीसागर के समीप चट्टान गिरने से नीमच- झालावाड़ मार्ग बंद कर दिया गया है। इलाके में बारिश के कारण डैम में पानी का स्तर तेज़ी से बढ़ रहा है। अगर यही हालात रहे तो आज शाम तक डैम के गेट खोले जा सकते हैं।

जबलपुर में थमी बारिश
जबलपुर में लोगों ने थोड़ी राहत की सांस ली है। यहां बारिश अभी थमी हुई है। हालांकि बरगी इलाके में बारिश जारी है। वहां डेढ़ मीटर तक डैम के गेट खोले गए थे।