Loading...

लिपिकों को दिए वचन से विधानसभा में मुकर गई कमलनाथ सरकार | MP LIPIK VETAN VISANGATI

भोपाल। कांग्रेस ने विधानसभा चुनाव के समय वचन पत्र में लिपिकों की वेतन विसंगति दूर करने का वादा किया था लेकिन विधानसभा सत्र में जीएडी मंत्री ने जो आधिकारिक जवाब दिया है कि इस तरह का कोई प्रस्ताव प्रक्रिया में ही नहीं है।

कांग्रेस के वचन-पत्र में कर्मचारियों के लिए जो वादे किए गए थे, उसमें उनको शिक्षकों के समान वेतनमान व ग्रेड पे देने की बात कही गई थी। विधानसभा में वीरेंद्र रघुवंशी ने सहायक ग्रेड-3 को 1900 रुपए के स्थान पर ग्रेड पे 2400 रुपए करने के बारे में सवाल पूछा था। इसके जवाब में जीएडी मंत्री गोविंद सिंह ने बताया है कि सहायक ग्रेड-3 की ग्रेड पे 1900 से बढ़ाकर 2400 रुपए करने का प्रस्ताव अमान्य कर उसे यथावत रखने की अनुशंसा की है, इसलिए इस संबंध में आदेश जारी करने का प्रश्न ही नहीं उठता। इस उत्तर के बाद मंत्रालयीन कर्मचारी संघ सक्रिय हो गया है।

समिति ने की थी अनुशंसा 

लिपिकों की वेतन विसंगति को लेकर कर्मचारी आंदाेलन कर चुके हैं। इसे लेकर पिछली सरकार ने रमेशचंद्र शर्मा की अध्यक्षता में समिति गठित की थी। समिति ने सहायक ग्रेड-3 की ग्रेड पे 2400 रुपए, प्रथम समयमान ग्रेड पे 2800 रुपए, द्वितीय समयमान ग्रेड पे 3200 रुपए और तृतीय समयमान ग्रेड पे 3600 रुपए करने की अनुशंसा की थी। अनुशंसा पर विचार करने के लिए वित्त के प्रमुख सचिव की अध्यक्षता में दो सदस्यीय समिति बना दी गई। इस समिति ने प्रस्ताव अमान्य कर दिया।