Loading...

JABALPUR NEWS : मोटी रकम देकर शादी की, 2 घंटे बाद दुल्हन फरार

जबलपुर। शादी की उम्मीद से एक युवक ने हजारों सपने देखे। तारीख तय हुई। शादी का उत्साह इस युवक को इतना अधिक था कि दुल्हन के परिवार को मदद के नाम पर ढाई लाख रुपए की मोटी रकम भी थमा दी। शादी के बाद दुल्हन को घर ले जाता, इसके पहले ही उसके अरमानों पर पानी फिर गया। कुछ लोग आए और धमकाकर दुल्हन को साथ ले गए। युवक ने निराश होकर पुलिस को शिकायत की। 

इस पूरे घटनाक्रम में मंगलवार को राजस्थान पुलिस ने शहर से आरोपित दुल्हन और दो युवकों को हिरासत में लिया है। दरअसल, यह पूरा मामला रुपए लेकर विवाह करवाने का है। पुलिस ने बताया कि राजस्थान के प्रतापगढ़ जिले के हथुनिया पुलिस थाने के सहायक उपनिरीक्षक शिवलाल जोगी ने बताया कि प्रतापपुर के विष्णु पाटीदार की शिकायत पर वे उन्हें साथ लेकर पिछले दो दिन से खरगोन में सर्चिंग कर रहे हैं।

खरगोन कोतवाली के टीआई ललितसिंह डागुर के समन्वय से सुनीता (26) व इकराम (32) को हिरासत में लिया है। उन्हें पूछताछ के लिए टीम राजस्थान ले गई। इसी मामले में पुलिस ने मध्यस्थता करने के आरोपित सुनील मीणा को राजस्थान के बांसवाड़ा से हिरासत में लिया है।

खरगोन कोतवाली टीआई डागुर ने बताया कि भगवानपुरा थाने के सिरवेल महादेव निवासी सुनीता कुछ साल पहले पति को छोड़कर बहन सोनू के साथ रह रही थी। यहां सोनू के पति इकराम ने बांसवाड़ा के सुनील मीणा को सुनीता के लिए लड़का देखने की बात कही थी।

इसके बाद सुनील ने फरियादी विष्णु को शादी के लिए सुनीता से संपर्क करवाया। आरोपितों ने विवाह के बदले ढाई लाख रुपए सहयोग करने की बात कही। फरियादी विष्णु ने बताया कि फरवरी में उसकी सुनीता से सगाई हुई थी। इस दौरान उन्होंने 50 हजार रुपए सुनीता के रिश्तेदार को दिए थे। इसके बाद 23 मार्च 2019 को परिवार सहित दो दोस्तों के साथ विष्णु खरगोन पहुंचा।

यहां संतोषी माता मंदिर में सुनीता के साथ उसकी शादी हुई। विष्णु शादी के बाद सुनीता को वापस अपने साथ ले जा रहा था। विदा होने के एक घंटे बाद उनके वाहन के सामने तीन लोग मुंह पर कपड़ा बांधकर आए और विष्णु को धमकाकर सुनीता को साथ ले गए। विष्णु ने बताया कि उन्होंने ढाई लाख रुपए शादी के लिए मदद के रूप में सुनीता के परिजन को दिए थे।

पीड़ित युवक सहित परिजन ने राजस्थान के हथुनिया थाने पर शिकायत दर्ज कराई थी। हथुनिया थाने के सहायक उपनिरीक्षकण जोगी ने बताया कि इस मामले में उन्होंने मध्यस्थता करने वाले सुनील मीणा को बांसवाड़ा से पूछताछ के लिए हिरासत में लिया था। इसके बाद सुनील और फरियादी विष्णु को लेकर पुलिस खरगोन पहुंची।

सोमवार सुबह से हथुनिया थाने की पुलिस खरगोन पुलिस के साथ आरोपितों की सर्चिंग कर रही थी। इसी दौरान खरगोन से ही आरोपित इकराम और सुनीता को हिरासत में लिया गया। जोगी ने बताया कि पुलिस थाने में आरोपितों से पूछताछ की जाएगी। बताया जाता है कि बांसवाड़ा के आरोपित सुनील ने इसके पहले भी यहां की कुछ युवतियों की शादी में मध्यथता की है।

पुलिस इस पूरे मामले की जांच करेगी। इधर, फरियादी विष्णु ने उनके रुपए वापस दिलवाने की मांग की। फरियादी विष्णु दिव्यांग है। वह अपने गांव में ही खेती करता है। गौरतलब है कि यह कोई पहला मामला नहीं है। इसके पहले भी रुपए लेकर शादी कराने और दुल्हन के भाग जाने के मामले सामने आ चुके हैं।

इनका कहना है

शादी के नाम पर युवक से रुपए लेने के मामले में राजस्थान के हथुनिया थाने की पुलिस पहुंची थी। युवती व उसके रिश्तेदार को पुलिस हिरासत में लेकर पूछताछ के लिए राजस्थान ले गई है। वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देश पर आरोपितों को हिरासत में लेने के लिए स्थानीय पुलिस ने मदद की। 
-ललितसिंह डागुर, टीआई, खरगोन कोतवाली