Loading...

पुलिस वालों ने APPLE HOSPITAL में डॉक्टरों को पीटा, तोड़फोड़ की | BURHANPUR MP NEWS

बुरहानपुर। बीती देर रात APPLE HOSPITAL BURHANPUR में आरक्षक की मौत के बाद गुस्साए पुलिसकर्मियों ने अस्पताल के स्टाफ और डॉक्टरों से मारपीट कर दी। जिसके खिलाफ डॉक्टर सड़क पर उतरे और पुलिस प्रशासन के खिलाफ मुर्दाबाद के नारे लगाए। डॉक्टरों ने चेतावनी दी है कि यदि शाम 5 बजे तक प्रोटेक्शन एक्ट के तहत कार्रवाई नहीं होती है, तो शनिवार को पूरे मध्यप्रदेश और महाराष्ट्र के अनिश्चितकालीन हड़ताल पर रहेंगे।

डॉ. आसिफ अहमद ने बताया रात 11 बजे पुलिस का वाहन आरक्षक जितेंद्र को लेकर अस्पताल आया था। जांच करने पर पता चला उसकी पहले ही मौत हो चुकी है। पुलिस जवानों को शव को सरकारी अस्पताल ले जाने के लिए कहा था। जवानों ने कहा- कोतवाली थाना प्रभारी रंजीतसिंह बघेल आ रहे हैं। उसके बाद हम अस्पताल चले जाएंगे लेकिन रात 11 बजे टीआई के आने के बाद उनके साथ आए पुलिस जवानों ने स्टाफ के साथ मारपीट शुरू कर दी। पुलिस जवानों का कहना था कि आरक्षक को गाड़ी से बाहर भी नहीं निकाला और ना ही उसका उपचार किया। आरक्षक की मौत के लिए अस्पताल स्टाफ जिम्मेदार है। मारपीट में 50 से 60 पुलिस जवान शामिल थे और सभी बिना वर्दी के अस्पताल में आए थे। 

रात 1 बजे : स्टाफ ने एएसपी को बताई आपबीती 

मामले की सूचना मिलने के बाद एडिशनल एसपी सुनील पाटीदार रात 12.45 बजे अस्पताल पहुंचे। रात 1.30 बजे के बाद तक डॉक्टर स्टाफ से घटना को लेकर पूछताछ करते रहे। उनके साथ आरआई ईनोद रंधावा भी थे। एडिशनल एसपी के पहुंचने की करीब आधे घंटे बाद क्षेत्र के जिम्मेदार लालबाग थाना प्रभारी विक्रमसिंह बामनिया अस्पताल पहुंचे। घटना को लेकर अस्पताल प्रबंधन सहित कर्मचारियों ने जमकर विरोध जताया। 

जहां पर नहीं लगे थे कैमरे वहां ले जाकर मारा 

ड्यूटी डॉ. मधुकर महाजन और सुपरवाइजर फूलचंद चौहान ने बताया पुलिस जवानों ने अस्पताल के स्टाफ को बुरी तरह मारा। अस्पताल में जहां कैमरे नहीं लगे थे वहां कर्मचारियों को ले जाकर पिटाई की। स्टाफ नर्स के साथ भी दुर्व्यवहार किया। 

कार्रवाई नहीं तो निजी अस्पतालों में नहीं करेंगे उपचार 

अस्पताल के डॉ. सुमित बोरले ने बताया पुलिस द्वारा पूरे स्टाफ के साथ मारपीट की गई है। जिन पुलिस अधिकारी-कर्मचारियों द्वारा मारपीट की गई है, उन पर डॉक्टर प्रोटेक्शन एक्ट के तहत कार्रवाई नहीं होती है तो जिले के सभी निजी अस्पतालों में मरीजों का उपचार बंद कर दिया जाएगा। 

मामले की जांच कर होगी सख्त कार्रवाई 

मौके पर पहुंचे अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सुनील पाटीदार ने बताया निजी अस्पताल में एक आरक्षक को उपचार के लिए लाया गया था। उसकी मौत हो गई। अस्पताल के स्टाफ ने मारपीट का आरोप लगाया है, मामले की जांच कर सख्त कार्रवाई की जाएगी।