सिंधिया को वोट नहीं दिए तो आदिवासियों के गांव से ट्रांसफार्मर उखाड़ ले गए | SHIVPURI MP NEWS

ललित मुदगल/शिवपुरी। ​गुना-शिवपुरी लोकसभा एवं कोलारस विधानसभा के कंचनपुरा पोलिंग से सनसनीखेज खबर आ रही है। यहां चुनाव से पहले आदिवासी बस्ती में लगवाया गया ट्रांसफार्मर उखाड़ लिया गया है। बताया जा रहा है कि कांग्रेस नेता के कुछ रिश्तेदार बिजली कंपनी के कर्मचारियों को लेकर आए और ट्रांसफार्मर उखाड़ ले गए। उनका कहना था कि तुम लोगों ने भाजपा को वोट दिया है, अब ट्रांसफार्मर भी भाजपा से लगवा लो। गुस्साए ग्रामीणों ने नेताओं पर हमला बोल दिया। कांग्रेस नेता अपनी जीप और बाइक छोड़कर भाग गए। 

बताया जा रहा है कि 250 आदिवासी परिवारों की इस बस्ती में विधानसभा चुनाव से पहले आचार संहिता लागू हो जाने के बाद ट्रांसफार्मर लगवाया गया था। आदिवासियों ने कोलारस विधानसभा के कांग्रेस प्रत्याशी एवं विधायक महेंद्र यादव से ट्रांसफार्मर की मांग की थी। बताया जाता है कि आचार संहित लागू होने के बावजूद यहां ट्रांसफार्मर रखवा दिया गया था। इसके बाद इस पोलिंग से महेंद्र सिंह यादव को बंपर जीत मिली थी। यहां से कांग्रेस को 263 वोटों की लीड मिली थी लेकिन महेंद्र सिंह यादव विधानसभा चुनाव हार गए। 

ट्रांसफार्मर क्यों हटाया

लोकसभा चुनाव में भी कंचनपुर पोलिंग से कांग्रेस यानी ज्योतिरादित्य सिंधिया को जीत मिली लेकिन जीत का अंतर 236 से घटकर 91 रह गया। यह माना गया कि 250 वोटों की आदिवासी बस्ती ने ज्योतिरादित्य सिंधिया को वोट नहीं दिया। इसी के चलते कांग्रेसी नेताओं ने यहां लगा ट्रांसफार्मर उखड़वा दिया। 

आदिवासियों ने घेरा किया तो कांग्रेसी जीप-बाइक छोड़कर भागे


बताया जा रहा है कि कोलारस के पूर्व विधायक महेंद्र सिंह यादव के समर्थक बिजली कंपनी के कर्मचारियों को लेकर ट्रांसफार्मर उखाड़ने आए थे। आदिवासियों ने सरकारी कर्मचारियों से तो कुछ नहीं किया परंतु जब नेताओं ने भड़काऊ बातें शुरू कीं तो आदिवासियों ने उन्हे घेर लिया। खबर आ रही है कि मौजूद कांग्रेस नेता अपनी जीप, बाइक और चप्पलें छोड़कर भाग गए। नेताओं की जीप और बाइक समाचार लिखे जाने तक कंचनपुर गांव में ही थी।