Loading...

प्रधानमंत्री आवास योजना के फ्लैट बनाने के लिए भूरी टेकरी से अतिक्रमण हटाया | INDORE NEWS

इंदौर। भूरी टेकरी (BHURI TEKRI) पर प्रधानमंत्री आवास योजना (PRADHAN MANTRI AWAS YOJANA) के तहत बनाए जा रहे फ्लैट के लिए नगर निगम के अमले को तीसरी बार भूरी टेकरी पर बने अवैध निर्माण (Encroachment removed) और 25 झुग्गी बस्तियों को हटाने की मशक्कत करनी प़ड़ी। हालांकि सोमवार को निगम की रिमूवल टीम को भरी दोपहरी में यहां से लोगों को हटाना आसान नहीं था। इसलिए कार्रवाई स्थल पर गोल घेरा बनाकर अवांछित हस्तक्षेप को रोका गया।  

निगम उपायुक्त (Corporation Deputy Commissioner) महेन्द्र सिंह चौहान (Mahendra Singh Chauhan) के अनुसार दिन में 11 बजे जैसे ही निगम की 80 लोगों के अमले के साथ रिमूवल टीम वहां पहुंची तो कई महिलाएं और पुरुष कार्रवाई का विरोध करने सामने आ डटे। महिलाओं को हटाने के लिए निगम की महिला कर्मचारियों की सहायता लेनी पड़ी। विरोध और दुर्व्यवहार कर रहे कुछ युवकों को निगम की जीप में बैठाकर दूर ले जाना पड़ा।

एक युवक फोन करके विरोध करने के लिए आसपास के लोगों को बुला रहा था। उसे पकड़कर रोका गया। इसके बाद जिस हिस्से से 25 झुग्गी और कुछ पक्के निर्माण हटाए जाने थे, उसके आसपास निगम के 80 कर्मचारियों ने गोल घेरा बनाया जिससे कोई रिमूवल कार्रवाई के दौरान बीच में नहीं आए और उसके बाद कार्रवाई को अंजाम दिया। उल्लेखनीय है कि भूरी टेकरी पर अतिक्रमण हटाने के दौरान में पहले बड़ा विवाद हो चुका था। इस वजह से इस बार भी कनाड़िया व खजराना पुलिस थाने का 25 लोगों का बल भी मौजूद था। मौके पर इस क्षेत्र के तहसीलदार भी पहुंचे थे।

नगर निगम की टीम ने चार महीने पहले भी भूरी टेकरी से 100 झुग्गियां हटाई थी। इसमें कुछ पक्की ईंटों के मकान भी थे। यहां से हटाए गए लोगों को वहां पर अस्थायी रूप से बनाए गए शेडनुमा ट्रांजिट रूम में जगह दी गई थी। भूरी टेकरी पर सर्वे के दौरान जो झुग्गियां बच गई थीं, उन लोगों के अलावा भी कुछ नए लोग वहां आकर बस गए थे। कुछ लोग तो वे भी थे, जिन्हें चार महीने पहले हटाया गया था। वो टांजिट रूम के अलावा भी नए सिरे से झुग्गियां बनाकर रहने लगे थे। जो झुग्गीवासी ट्रांजिट रूम में जाना चाह रहे थे, उन्हें वाहन उपलब्ध करवाए गए। इसके अलावा जो लोग अन्य कहीं अपना सामान लेकर जाना चाह रहे थे, उन्हें भी वाहन उपलब्ध करवाए गए।

भूरी टेकरी पर प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत 125 करोड़ रुपए की लागत से 1648 फ्लैट बनाए जाने हैं। वर्तमान में यहां 13 ब्लॉक के 832 फ्लैटों का निर्माण जारी है। सोमवार को जिस जमीन से झुग्गियों का अतिक्रमण हटाया गया, वहां पर 11 ब्लॉक में 812 यूनिट बनाई जाएंगी।

निगम के इंजीनियर डीआर लोधी के अनुसार दिसंबर तक 13 ब्लॉक की यूनिट तैयार हो जाएंगी। अभी ट्रांजिट रूम में 850 लोग रह रहे हैं। दिसंबर तक इन्हें नए फ्लैट में शिफ्ट कर दिया जाएगा।