Loading...

DAVV : बीएड के रिजल्ट को लेकर हंगामा तथा 40 नए कोर्स शुरू | INDORE NEWS

इंदौर। देवी अहिल्या विश्वविद्यालय में बीएड के विद्यार्थियों ने रिजल्ट को लेकर हंगामा किया। विद्यार्थियों ने परीक्षा नियंत्रक से मिलकर कहा कि पहले बीएड के रिजल्ट में 96 प्रतिशत छात्र पास हो गए थे, लेकिन यूनिवर्सिटी ने वह रिजल्ट जारी नहीं किया था। इस मामले में जांच बैठाई गई थी और फिर से जारी रिजल्ट में केवल 59 प्रतिशत छात्र ही पास हुए हैं। विद्यार्थियों का कहना था कि पुराना वाला रिजल्ट ही जारी किया जाए। कुछ ने परिक्षा नियंत्रक से कहा कि हमें 2-2 नंबर से फेल किया गया है, ग्रेस देकर हमें पास किया जाए।

40 नए कोर्स शुरू 
उच्च शिक्षा विभाग ने कॉलेजों में एडमिशन की पूरी प्रक्रिया घोषित कर दी है। अल्पसंख्यक दर्जा प्राप्त कॉलेजों में प्रवेश शुरू हो गए हैं, जबकि ऑनलाइन एडमिशन की प्रक्रिया भी 10 जून से शुरू हो जाएगी। इस साल शहर के 30 से ज्यादा कॉलेजों (डीएवीवी टीचिंग विभाग, प्राइवेट, सरकारी, अनुदान प्राप्त) में 40 नए कोर्स शुरू हो रहे हैं। पुराने कोर्स की सीटें भी बढ़ाईं हैं। कुल छह हजार नई सीटें छात्रों के लिए रहेंगी। इसमें बीकॉम, बीए, बीबीए और बीएससी स्पेशलाइजेशन के साथ कुछ पीजी कोर्स भी शुरू हाेंगे। परंपरागत कोर्स की सीटें भी शासन ने ज्यादा अलॉट की हैं।

देवी अहिल्या विश्वविद्यालय के टीचिंग विभाग ने बीए ऑनर्स इकोनॉमिक्स, एमवोक कोर्स और जैन दिवाकर में बीए इकोनॉमिक्स शुरू हुआ है। इसके अलावा पिछले साल शुरू हुई निजी यूनिवर्सिटी में 11 नए कोर्स एक हजार सीटों के साथ शुरू हुए हैं। बीएससी ऑनर्स के लिए भी अंतिम समय में प्रयास चल रहा है। वहीं बीकॉम (पांच वोकेशनल कोर्स), बीबीए, बीएससी (15 स्पेशलाइजेशन कोर्स), बीए (परंपरागत और दो स्पेशलाइजेशन कोर्स)। 12 नए स्पेशलाइजेशन कोर्स की पांच हजार सीटें बढ़ाई गई हैं।

सरकारी और अनुदान प्राप्त कॉलेजों में ही 3000 सीटें बढ़ेंगी 

बताया जाता है कि छह हजार में करीब तीन हजार सीटें 19 सरकारी और अनुदान कॉलेजों में बढ़ रही हैं। शासन ने 20 निजी कॉलेजों को भी नए कोर्स अलॉट किए हैं। हर कोर्स की 60 सीटें दी गई हैं, जबकि पुराने कोर्स की सीटें दोगुना यानी 60 से 120 की हैं। सीईटी चेयरमैन प्रो. विजय बाबू गुप्ता का कहना है कि कुछ नए कोर्स आ रहे हैं, जबकि कुछ की सीटें बढ़ रही हैं। अतिरिक्त संचालक उच्च शिक्षा डॉ. केएन चतुर्वेदी का कहना है कि इस साल शासन ने कई कॉलेजों को सीटें बढ़ाकर दी है। कुलपति प्रो. नरेंद्र धाकड़ के अनुसार, 30 से ज्यादा कॉलेजों में नए कोर्स और बढ़ी हुई सीटों के लिए आवेदन आए थे। ज्यादातर को संबद्धता दी है।