Loading...

तांत्रिक से नागमणि खरीदने जाली नोट छाप लिए, गिरफ्तार | INDORE NEWS

इंदौर। स्पेशल टॉस्क फोर्स ने जाली नोट छापने वाले गिरोह के तीन सदस्यों को गिरफ्तार किया है। आरोपितों ने नागमणि खरीदने के लिए 15 लाख के जाली नोट छाप लिए थे। आरोपितों से 1 लाख 83 हजार 600 रुपए के जाली नोट बरामद किए गए हैं। दो आरोपित पुलिस कंट्रोल रूम के समीप फाइनेंस एडवाइजरी कंपनी चलाते हैं। एक आरोपित तांत्रिक क्रिया करने में माहिर है।

स्पेशल डीजी (एसटीएफ) पुरुषोत्तम शर्मा के मुताबिक, सूचना मिली थी कि आरएनटी मार्ग स्थित शाम टावर में आरोपित (Rudra Singh Chauhan) रुद्र पिता चंदरसिंह चौहान निवासी प्रताप नगर देवास व उसका साथी (BHOLA) भोला उर्फ देवेंद्रसिंह पिता मांगीलाल चौहान (Devendra Singh Chauhan) निवासी इटावा देवास जाली नोट छापने व चलाने का धंधा कर रहे हैं। एएसआई अमित दीक्षित व विजयसिंह चौहान की टीम ने दबिश देकर दोनों को पकड़ लिया। आरोपित गांधीनगर में किराए का कमरा लेकर रह रहे थे। उन्होंने एजुकेशन, होम, पर्सनल लोन दिलाने के लिए एडवाइजरी कंपनी खोल ली थी। पूछताछ में दोनों ने कबूला कि लाखों रुपए के जाली नोट तांत्रिक दिलीप चौहान (Tantric Dilip Singh Chauhan) पिता निवासी इटावा देवास को दे दिए थे। पुलिस ने दबिश देकर दिलीप को भी 1 लाख 83 हजार 600 रुपए के जाली नोट के साथ पकड़ लिया। आरोपितों ने पूछताछ में कबूला कि अभी तक करीब 15 लाख रुपए के जाली नोट छाप चुके हैं।

एडीजी के मुताबिक, आरोपित रुद्र ने पूछताछ में बताया कि तांत्रिक दिलीप उसके साथी भोला का भाई है। दिलीप ने बताया कि महोबा (छग) के राहुल (RAHUL) के पास नागमणि है। उसकी पूजा कर वह रातोरात लाखों रुपए मंगवा सकता है। आरोपितों ने राहुल के साथ बैठक की और नौ लाख रुपए में नागमणि का सौदा कर लिया। इसके लिए कलर प्रिंटर से दो हजार और पांच सौ के जाली नोट छाप लिए। तीनों नागमणि खरीदने पहुंच गए। राहुल को जैसे ही दो लाख रुपए बयाना पेटे दिए वह भांप गया कि नोट नकली है। इस पर आरोपितों की और राहुल की हाथापाई हो गई। लोगों ने उन्हें घेरा तो कार लेकर भागना पड़ा। रास्ते में लगा कि राहुल पुलिस को कॉल कर पकड़ा देगा। उन्होंने नोटों की पोटली बनाकर रास्ते में फेंक दी। एसआई के मुताबिक आरोपितों को कोर्ट में पेश कर एक दिन के रिमांड पर लिया गया है।