Loading...

समर नाइट मेला: डॉक्टर, इंजीनियर, प्रोफेसर और बिजिनेस मैन ने शमा बांधा | GWALIOR NEWS

ग्वालियर। ‘‘ओ मेरा दिल था अकेला, तूने खेल ऐसा खेला तेरी याद में जागूं रात भर बाजीगर ओ बाजीगर’’ सुपरहिट गीत जब मंच से वैशाली धूपर एवं संजय धूपर ने सुनाया तो सभागार में मौजूद सैलानियों एवं श्रोताओं ने जोरदार तालियां बजाकर उनका शानदार अंदाज में स्वागत किया। इसके साथ ही ‘‘दर्दे दिल दर्दे जिगर’’ और आज रपट जाएं तो हमें न उठाइयो ‘‘गीतों की प्रस्तुति से बॉलीवुड के यादगार गानों के सुनहरे सफर की यादों को ताजा कर लोगों को झूमने पर मजबूर कर दिया।

मौका था ग्वालियर व्यापार मेला प्राधिकरण की ओर से लगाए जा रहे समर नाइट मेले में आयोजित की गई संगीत महफिल का। श्यामा म्यूजिकल ग्रुप के कलाकारों ने नये-पुराने फिल्मी गाने सुनाकर फिजा में सुर और संगीत की रंगत घोल दी। कार्यक्रम के मुख्यअतिथि मेला प्राधिकरण के सचिव पीसी वर्मा एवं विशिष्ट अतिथि प्रभाकर भारद्वाज ने गायक कलाकारों का सम्मान किया। कार्यक्रम का संचालन संस्था के अध्यक्ष संजय धूपर ने तथा आभार व्यक्त डॉ. राकेश खंडेलवाल ने किया। प्रदीप गर्ग ने अतिथियों का स्वागत किया। इससे पूर्व जितेंद्र कुमार ने ‘‘हे सुख वंदन मारूति नंदन’’ भजन से कार्यक्रम का सुखद आगाज किया। एकल गायन में इनके बाद अब बारी थी संजय धूपर की, जिन्होंने अपनी आवाज का जादू बिखेरा। वहीं प्रदीप गर्ग ने ‘‘फूलों के रंग से दिल’’ गाना सुनाकर सभी को मंत्रमुग्ध कर दिया।

युगल गीतों पर झूमे सैलानी

एकल के बाद जब युगल की बारी आई तो संजय धूपर व बृजेश वैष्णव ने ‘‘चल मेरे भाई तेरे हाथ जोड़ता हूं’’ जितेंद्र कुमार व भूपेंद्र श्रीवास्तव ने ‘‘हाथों की चंद लकीरों ने’’ मुकुल तैलंग, रेखा गोयल व बृजेश खरे ने ‘‘हर दिल जो प्यार करेगा’’ नग्मा पेश कर सभी को खूब झुमाया। राकेश खंडेलवाल एवं सीमा खंडेलवाल ने ‘‘इतना न तू मुझसे प्यार बड़ा ’’ और जितेंद्र कुमार व रेखा गोयल ने ‘‘जानेमन जानेमन तेरे दो’’ गाना गाकर कार्यक्रम को भव्यता प्रदान की।

इन्होंने भी किया कमाल

आदित्य खंडेलवाल ने ‘‘चला जाता हूं किसी की’’ मनीषा जैन ने ‘‘मुझे तुमसे मोहब्बत है’’ और यश व संजय सप्रा ने क्रमश: ‘‘खामोशियां तेरी .मेरी ‘‘व ’’आज से मेरी सारी गलियां ‘‘गीत प्रस्तुत कर अपने फन का जलवा दिखाया।