Loading...

DELHI में ईद मना रहे लोगों पर CAR चढ़ाने वाला शाहरुख था, कार भी चोरी की थी | NATIONAL NEWS

नई दिल्ली। जगतपुरी इलाके में ईद की नमाज के दौरान नमाजियों पर कार चढ़ाने वाले व्यक्ति की पहचान हो गई है। दिल्ली पुलिस का दावा है कि उसका नाम शाहरुख उम्र 25 वर्ष है। यह हादसा नहीं बल्कि हमला था और इस हमले के लिए उसने होंडा सिटी कार चुराई थी। पुलिस का एक अनुमान यह भी है कि शाहरुख किसी और कारण से भाग रहा था और अचानक वहां पहुंच गया जहां ईद की नमाज पड़ी गई थी। सही बात क्या है यह पूछताछ के बाद ही पता चलेगा। 

30 मई को चोरी हुई थी कार, रिपोर्ट भी दर्ज है

देश की राजधानी दिल्ली में ईद के मौके पर खुरेजी खास स्थित जामा मस्जिद के बाहर बुधवार सुबह नमाजियों को होंडा सिटी कार द्वारा रौंदने के मामले में अब सनसनीखेज खुलासा हुआ है। हादसे की जांच में जुटी दिल्ली पुलिस के मुताबिक, जगतपुरी स्थित खुरेजी इलाके में नमाजियों के बीच खतरनाक ढंग से दौड़ने वाली होंडा सिटी कार दरअसल चोरी की था। जांच से जुड़े वरिष्ठ पुलिस अधिकारी की मानें तो कार के रजिस्ट्रेशन नंबर के आधार पर जांच में पता चला है कि होंडा सिटी कार 30 मई को मधु विहार इलाके से चुराई गई थी और इसकी रिपोर्ट में पुलिस में दर्ज है। 

एक अनुमान यह भी है

दिल्ली पुलिस के अतिरिक्त जनसंपर्क अधिकारी एसीपी अनिल मित्तल का कहना है कि यह कार गत 30 मई को पूर्वी जिले के मधु विहार थाना क्षेत्र से चुराई गई थी। ऐसे में अनुमान लगाया जा रहा है कि कार चोरी की होने के चलते ही आरोपितों ने फरार होने के लिए तेजी से कार दौड़ाई होगी और फिर कई लोगों के चपेट में आने की अफवाह फैल गई। 

हादसे के बाद भीड़ बेकाबू हो गई थी, बसों में तोड़फोड़ की थी

गौरतलब है कि बुधवार सुबह करीब साढ़े नौ बजे नमाज अदा करने के बाद लोग गले मिलकर एक-दूसरे को बधाई दे रहे थे, इस दौरान बेकाबू होंडा सिटी कार उनके बीच आ गई। भीड़ देख चालक ने कार गली में मोड़ दी और लोगों को टक्कर मारते हुए आगे निकल गया। इस घटना के बाद इलाके में अफवाह फैला दी गई कि कार ने 17 लोगों को कुचल दिया है। यह सुनकर नमाजी आक्रोशित हो गए और डीटीसी बस व अन्य वाहनों पर पथराव कर उन्हें क्षतिग्रस्त कर दिया। साथ ही जगतपुरी थाने के बाहर पुलिस के खिलाफ प्रदर्शन किया। बेकाबू भीड़ को काबू करने के लिए भारी संख्या में पुलिस बल को मौके पर बुलाना पड़ा। जिला पुलिस उपायुक्त मेघना यादव व संयुक्त पुलिस आयुक्त आलोक कुमार भी मौके पर पहुंचे।

जुबैर आलम का कहना है कि यह हादसा नहीं हमला था

शास्त्री नगर के आराम पार्क में रहने वाले जुबैर आलम (36) के बयान पर पुलिस ने आइपीसी की धारा 307 के तहत मामला दर्ज किया है। उनका आरोप है कि कार लोगों की जान लेने की नीयत से वहां आई थी। उन्होंने बताया कि कार में एक लड़का और दो लड़कियां सवार थीं। देर शाम तक पुलिस के पास फरीद खान सहित तीन घायल पहुंचे, जिनका मेडिकल करवाया गया। तीनों को मामूली चोट आई है। पुलिस ने कार की पहचान कर ली है। यह डिप्टीगंज के पते पर पंजीकृत है। कार कौन चला रहा था, इसका पता लगाया जा रहा है।

खुरेजी का जामा मस्जिद पटपड़गंज रोड से परवाना रोड की ओर जाने वाली गली में है। पटपड़गंज रोड पर नमाज पढ़ने के लिए नमाजी एकत्रित हुए थे। पुलिस ने बैरिकेडिंग कर और रस्सा बांधकर यातायात को रोक दिया था। सुबह करीब साढ़े नौ बजे नमाज के बाद एसीपी की गाड़ी के निकलने के लिए रस्सा और बैरिकेड को हटा दिया गया। इस दौरान बेकाबू होंडा सिटी कार नमाजियों की ओर बढ़ी। मुख्य सड़क पर भीड़ देख चालक ने कार मस्जिद वाली गली में मोड़ दी। अंदर घुसते ही मस्जिद के बाहर रखी दान पेटी की मेज में कार ने जोरदार टक्कर मार दी, वहां बैठे शख्स को टेबल से चोट लगी। कार को रोकने के लिए नमाजी उसके पीछे दौड़े, लेकिन कार चालक नहीं रुका। इस दौरान कार के सामने आए लोगों ने किसी तरह किनारे जाकर जान बचाई।

लोगों ने बताया कि एक बल्ली से कार के पिछले शीशे को तोड़ने का प्रयास किया गया, लेकिन इससे फर्क नहीं पड़ा। इस बीच चौपाल चौक पर कुछ लोग कार की चपेट में आकर चोटिल हो गए। इन लोगों को टक्कर मारते हुए चालक कार सहित फरार हो गया। लोगों का आरोप है कि पुलिस मौके पर थी, लेकिन चालक को पकड़ने का प्रयास नहीं किया। मस्जिद के आगे एक दुकान के बाहर लगे सीसीटीवी कैमरे में कार चालक कैद हुआ है, जिसमें दिख रहा है कि वह किस तरह कार चला रहा था। नमाजियों का आरोप है कि इस वर्ष पुलिस की सुरक्षा व्यवस्था न के बराबर थी। पुलिसकर्मी अगर रस्सा नहीं खोलते तो शायद यह हादसा नहीं होता।

मेघना यादव (पुलिस उपायुक्त, शाहदरा) का कहना है कि खुरेजी के जामा मस्जिद मामले में सुबह के समय तनाव की स्थिति थी, लेकिन अब इलाके की व्यवस्था ठीक ठाक है। कार चालक को पकड़ने के लिए पुलिस की एक टीम गठित की गई है, जल्द ही अपराधी को पकड़ लिया जाएगा। हमारे पास तीन लोग आए हैं, जिनको हल्की खरोंच लगी है।