BHOPAL SAMACHAR: बीडीए के नाम पर ठगी, 7 लोगों ने FIR कराई, BDA चुप

भोपाल। भोपाल विकास प्राधिकरण (BHOPAL DEVLOPMENT ATHORITY (बीडीए)) के नाम पर खुलेआम ठगी का खेल चल रहा है। एक व्यक्ति ने बीडीए के प्रोजेक्ट में 5 लाख का प्रधानमंत्री आवास मात्र 1.80 लाख में दिलाने का वादा किया और 7 लोगों से ठगी कर ली। जालसाज ने लोगों को बीडीए की फर्जी रसीदें दीं। खुलासा होने के बाद पीड़ितों ने आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज करा दिया परंतु बीडीए ने दस्तावेजों की कूटरचना का मामला दर्ज नहीं कराया। स्वभाविक सवाल उपस्थित होता है कि क्या इस तरह की धोखाधड़ी में बीडीए प्रबंधन भी शामिल है। 

करोंद निवासी रवि सोनी, कामता प्रसाद गौर समेत अन्य नवीबाग में तैयार हो रहे बीडीए आवास योजना के तहत मकान लेने थे। वर्ष 2014 में पंचवटी कॉलोनी निवासी भानू प्रताप सिंह ने अपना भांजा बताकर उनकी मुलाकात गोविंद राजपूत से करवाई। पुलिस के मुताबिक उन्हें बताया गया कि गोविंद बीडीए का अफसर है। करीब पांच लाख कीमत के मकान को उन्होंने 1.80 लाख में दिलवा देने का भरोसा दिलाया। इसके एवज में सभी से 60-60 हजार रुपए नकद मांगे गए थे। बाकी राशि बैंक से लोन करवाने का भरोसा दिया गया।

झांसे में आए नौ लोगों ने जालसाजों को 60-60 हजार रुपए दे दिए। आरोपियों ने कहा कि अगस्त 2015 में मकान का पजेशन मिल जाएगा। इसके लिए आरोपियों ने बीडीए की बताकर उन्हें कुछ रसीदें भी दी थीं। पजेशन नहीं मिला तो सभी बीडीए दफ्तर पहुंचे। यहां पता चला कि रसीदें फर्जी हैं। धोखाधड़ी का अहसास होने पर उन्होंने दोनों के खिलाफ धोखाधड़ी की शिकायत की। पुलिस ने लंबी जांच के बाद आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है।