Loading...

BHOPAL NEWS : भोपाल नगर निगम मुख्यालय के गेट पर पार्षदों ने ताला लगाया

भोपाल। लोकसभा चुनाव की आचार संहिता समाप्त होने के 20 दिन बाद भी नगर निगम का सैप बंद होने और परिषद बैठक नहीं बुलाए जाने से नाराज कांग्रेस पार्षदों ने गुरुवार को निगम मुख्यालय (Bhopal Municipal Corporation Headquarters) पर प्रदर्शन किया। सैप बंद होने से नए काम की बुकिंग से लेकर पेमेंट तक सारी प्रक्रिया रुकी थी। प्रदर्शन के बाद निगम प्रशासन ने सैप तो चालू कर दिया लेकिन चालू वित्त वर्ष के कार्योंं की बुकिंग बजट पारित होने के बाद ही हो सकेगी। परिषद बैठक 27 या 28 जून को होने की संभावना है। 

जिला कांग्रेस अध्यक्ष कैलाश मिश्रा, पार्षद गुड्डू चौहान, मोनू सक्सेना और संतोष कंसाना (Congress president Kailash Mishra, councilor Guddu Chauhan, Monu Saxena and Santosh Kansana) सुबह करीब 11 बजे निगम मुख्यालय पहुंच गए। नारेबाजी करते हुए उन्होंने मुख्यालय के गेट पर ताला जड़ दिया। पार्षदों का आरोप था कि महापौर के दबाव में सैप बंद किया गया है, जिससे विकास कार्य रुके हैं। जिस समय यह प्रदर्शन चल रहा था निगम परिषद अध्यक्ष सुरजीत सिंह चौहान और अपर आयुक्त रणबीर कुमार व मयंक वर्मा वहीं मौजूद थे। उन्होंने पार्षदों से बात की। अधिकारियों ने उन्हें बताया कि सैप चालू करा दिया गया है। इस पर पार्षदों ने चालू वित्त वर्ष के कार्यों की बुकिंग शुरू करने को कहा। अफसरों ने बताया कि बजट पारित हुए बिना यह संभव नहीं है।

निगमायुक्त बी विजय दत्ता ने भी पार्षदों से बात की। एक घंटे तक प्रदर्शन के बाद नेता लौट गए। बाद में परिषद अध्यक्ष ने कमिश्नर को भेजी नोटशीट में बैठक की तारीख तत्काल तय करने को कहा है। नोटशीट के साथ उन्होंने भाजपा पार्षद संजीव गुप्ता का ज्ञापन भी संलग्न किया है। गुप्ता का तर्क है कि बैठक बुलाने के लिए नए सिरे से एजेंडा जारी करने की जरूरत नहीं है क्योंकि मार्च में एजेंडा जारी हो गया था, लेकिन बैठक स्थगित हो गई थी। 

सूत्र बताते हैं कि नगरीय प्रशासन विभाग के प्रमुख सचिव संजय दुबे 29 जून को नगर निगम भोपाल के कामकाज की समीक्षा करेंगे। बताया जाता है कि निगम के कामकाज को लेकर सरकार में हर स्तर पर नाराजगी है। स्वच्छ भारत मिशन से जुड़े कार्यों में निगम पिछड़ रहा है। पानी सप्लाई की व्यवस्था में तमाम खामियां हैं और प्रधानमंत्री आवास योजना में भी भोपाल नगर निगम निर्धारित लक्ष्य से दूर है। दुबे ने समीक्षा बैठक में उपायुक्त स्तर तक के अफसरों को उपस्थित रहने के निर्देश दिए हैं, ताकि हर विभाग के कामकाज की पूरी समीक्षा की जा सके। 

इस प्रदर्शन के बाद शाम को नेता प्रतिपक्ष मो सगीर ने निगमायुक्त दत्ता से मुलाकात की और उन्हें परिषद बैठक जल्द बुलाने की मांग का ज्ञापन सौंपा। उन्हों ने भी विकास कार्य शीघ्र शुरू कराने की मांग की। 

महापौर आलोक शर्मा ने कहा कि सैप तो तीन दिन पहले चालू कर दिया गया है। दो दिन पहले ही उन्होंने 21 जून को एमआईसी की बैठक बुलाने के निर्देश दिए हैं। बैठक में एजेंडा तय होगा और 27 या 28 जून को परिषद बैठक होगी।