Loading...

पीएससी के लिए पढ़ाई की स्ट्रेटेजी क्या होनी चाहिए, यहां समझिए | BEST STRATEGY TO STUDY for PSC

संघ लोक सेवा आयोग यानी UPSC और लोक सेवा आयोग यानी PSC की पढ़ाई, दूसरी किसी भी प्रतियोगी परीक्षा (COMPETITIVE EXAM) से अलग होती है। यह कुछ ऐसी होती है कि इसके नाम से ही स्ट्रेस शुरू हो जाता है। कौन सी कोचिंग, कितने घंटे की पढ़ाई। सुबह करें या शाम को करें। खाना क्या खाएं। यहां तक कि कुछ तो कौन सा पानी पिएं और किस बिस्तर पर सोएं, इसकी तक तैयारियां कर लेते हैं लेकिन फिर भी सफल नहीं हो पाते। आइए हम बताते हैं छत्तीसगढ़ में पीएससी टॉप करने वालीं 2 ऐसी लड़कियों की कहानी जो आपको आपकी रणनीति बनाने में काफी मदद करेगी। 

बिना कोचिंग के पीएससी की पढ़ाई कैसे करें | HOW TO PASS PSC WITHOUT COACHING

रायगढ़ की रहने वालीं संगीता लकरा। अपने पहले ही प्रयास में बिना किसी कोचिंग के असिस्टेंट डायरेक्टर के लिए सलेक्ट होने वालीं संगीता को स्कूल से लेकर कॉलेज तक की पढ़ाई के दौरान फाइनेंशियल प्रॉब्लम से जूझना पड़ा। उन्होंने बताया- ग्रेजुएशन के बाद लगभग डेढ़ साल के लिए पढ़ाई छोड़ जॉब की ताकि परिवार की आर्थिक स्थिति बेहतर करने में पैरेंट्स की मदद कर सकूं। फाइनेंशियल कंडीशन थोड़ी ठीक हुई तो पीजी करने रायपुर आ गई। कॉपी-किताब और दूसरी जरूरतों को पूरा करने के लिए जॉब के अलावा कोई दूसरा ऑप्शन नहीं था। इसलिए बतौर फ्रीलांसर राइटर जॉब की। कुछ रुपए फैमिली को भी भेजती थी। पीएससी की तैयारी के लिए कोई खास स्ट्रेटजी नहीं बनाई। रोज पांच घंटे कॉन्स्ट्रेट होकर स्टडी करने और मॉक टेस्ट सॉल्व करने से सक्सेस मिली। करेंट अफेयर्स के लिए न्यूज पेपर और मैग्जीन की मदद ली। 

पीएससी की पढ़ाई के लिए बेस्ट प्रेक्टिस क्या है | BEST PRACTICE FOR PSC

दानेश्वरी (दीपा) पिछले 8 साल से पीएससी एग्जाम की तैयारी कर रही थीं। उन्होंने बताया- 2011 से 2013 तक लगातार तीन साल पीएससी-प्री क्वालिफाई किया, लेकिन मेंस में चूक जाती थी। इससे बहुत ज्यादा स्ट्रेस में थी। इतनी मेहनत के बाद भी कामयाबी न मिलने से हताशा हावी हो रही थी। मन करता बढ़ाई बंद कर दूसरी फील्ड के लिए ट्राय करूं, फिर सोचती कि इतने सालों की पढ़ाई बेकार नहीं जाने दूंगी। इस दौरान मुझे फैमिली का सपोर्ट मिला। पैरेंट्स हमेशा मोटिवेट करते रहे। अपनी तैयारियों का एनालिसिस करने के बाद पता चला कि बहुत सारी किताबें पढ़कर गलत कर रही हूं। क्योंकि ज्यादा किताबों से पढ़ाई करने पर कंफ्यूजन क्रिएट होता है और यही मेरा साथ हुआ। इसके बाद मैंने सिर्फ कोचिंग में पढ़ाए गए टॉपिक्स और नोट्स पर फोकस किया और कामयाब रही। करेंट अफेयर्स के लिए न्यूज पेपर और मैग्जीन पढ़ती थी।