Loading...

AIR ASIA एयरलाइन्स मात्र 10 रुपए में खरीदी गई थी | INSPIRATIONAL STORY

यदि आप एयरलाइंस के बारे में कुछ भी जानते हैं तो एयर एशिया के बारे में जरूर जानत होंगे। यह दुनिया की वही एयरलाइंस है जो सबसे कम पैसों में यात्रा करने का मौका देती है। 999 रुपए में देश के किसी भी कौने में जा सकते हैं। 1499 रुपए में 10 देशों के बीच यात्रा कर सकते हैं और कभी कभी तो मात्र 99 रुपए में हवाई यात्रा हो जाती है। क्या आप जानते हैं यह एयरलाइंस मात्र 10 रुपए में खरीदी गई थी। 

एक व्यक्ति थे, टोनी फर्नांडेस, जो आधे भारतीय और आधे पुर्तगाली थे। उन्होंने लंदन के बेहतरीन बिज़नेस स्कूल लंदन स्कूल ऑफ़ इकोनॉमिक्स से पढाई की और फिर वह वार्नर म्यूजिक में नौकरी करने लगे थे। यह कंपनी बहुत ही ज्यादा घाटे में चल रही थी और टोनी फर्नांडेस ने अपनी सूझबूझ से इस कंपनी को कर्जमुक्त किया और फायदे में ले आये।

जब उनकी पोस्टिंग वार्नर म्यूजिक के हेडक्वार्टर, मलेशिया में हुयी थी, तो उस वक़्त इस कंपनी को अमेरिका ऑनलाइन के साथ जोड़ दिया गया। फर्नांडेस खुश नहीं थे और उन्होंने अपनी नौकरी छोड़ दी। उन्हें विमानन व्यापार में काफी दिलचस्पी थी। इसीलिए उन्होंने सन 2001 में विमानन लाइसेंस के लिए मलेशिया में अप्लाई किया लेकिन लाइसेंस उन्हें नहीं मिला क्यूंकि एयरलाइन कंपनी चलाने के लिए उनके पास पैसे नहीं थे।

उस वक़्त मलेशिया के प्रधानमन्त्री, डॉक्टर माताहिर मोहम्मद बारीकी से यह सब देख रहे थे। वह टोनी फर्नांडेस से बेहद खुश थे यह देखकर की कैसे उन्होंने वार्नर म्यूजिक जैसी कंपनी को घाटे से निकाला। उन्होंने टोनी फर्नांडेस से मीटिंग की और उन्हें समझाया की नयी एयरलाइन्स कंपनी शुरू करने के लिए लाइसेंस की जरुरत होती है लेकिन जो एयरलाइन कंपनी पहले से ही व्यापार में है, अगर उसे खरीद लिया जाए तो लाइसेंस की जरुरत नहीं क्योंकि उस कंपनी के पास पहले से ही लइसेंस होती है।

इस बात पर टोनी फर्नांडेस ने कहा की उनके पास इतने पैसे नहीं है की वह कोई एयरलाइन्स कंपनी को खरीद सकें। इस बात पर मलेशिया में प्रधानमन्त्री हंसने लगे और उन्होंने मलेशिया की सरकारी एयरलाइन 'एयर एशिया' को टोनी फर्नांडेस को बेचने की बात रखी जिसके लिए उन्होंने टोनी से सिर्फ 1 रिंगित, यानी 10 रुपये मांगे।

सरकार पर एयर एशिया जैसी घाटे वाली कंपनी को चलाने का बहुत बड़ा बोझ था, इसीलिए प्रधानमन्त्री एयर एशिया को बेचना चाहते थे। दोनों में डील हो गयी लेकिन इसमें एक बात और है। वह यह की टोनी फर्नांडेस को एयर एशिया सिर्फ 10 रुपये में तो मिल जाएगी, लेकिन इसके साथ कंपनी का 11,000 करोड़ का कर्ज़ा भी आएगा जिसे टोनी को संभालना पड़ेगा।

टोनी ने अपना आलिशान घर बेच दिया और उस से जो पैसे आये उसको वर्किंग कैपिटल के रूप में इस्तेमाल करते हुए 1 ही साल में (सन 2002 में) एयर एशिया को नेगेटिव मार्जिन से प्रॉफिट मार्जिन में ले आये और कुछ ही सालों में सारा कर्ज़ा भी चुका दिया। आज के समय में एयर एशिया 17 देशों में काम कर रही है।