Loading...

10 साल की मासूम लड़की रोते हुए पुलिस थाने आई, बोली: पापा गंदे हैं | CHHATARPUR MP NEWS

भोपाल। मध्यप्रदेश में मासूम बेटियों के साथ बलात्कार की घटनाएं लगातार बढ़ रहीं हैं। समाज में इस तरह की विकृति सामाजिक कार्यकर्ताओं एवं समाजसेवियों के लिए भी शर्मसार कर देने वाली है। छतरपुर जिले के ईशानगर थाना में 10 साल की मासूम लड़की रोते हुए आई। उसने बताया कि उसके पिता ने उसका रेप किया है।

जानकारी के अनुसार गहरवार गांव में 10 वर्षीय बच्ची बुधवार की सुबह अपने घर पर अकेली थी। इस दौरान उसका पिता घर आया और मंझले वाले भाई के घर पर किसी काम के बहाने बच्ची को ले गया और वहां पर दुष्कर्म जैसी घिनौनी घटना को अंजाम दिया। बेटी से दुष्कर्म करने के बाद पिता ने उसे पहले मनाने का प्रयास किया, जब वह नहीं मानी तो जान से मारने की धमकी भी दी। पर बच्ची नहीं मानी और दोपहर के समय वह ईशानगर थाने में रोते हुए पहुंच गई। थाना प्रभारी एएसआई लक्ष्मी तिवारी सहित स्टाफ ने पहले रोती हुई बच्ची को समझाते हुए चुप कराया और इसके बाद रोने का कारण पूछा। 

पूछने पर बच्ची ने अपने पिता द्वारा दुष्कर्म करने की बात बताई। बच्ची के बयानों के आधार पर पुलिस ने आरोपी पिता पर दुष्कर्म और अन्य धाराओं के साथ मामला दर्ज किया और उच्च अधिकारियों को घटना की जानकारी दी। घटना की जानकारी लगते ही एसपी तिलक सिंह थाने पहुंचे और बच्ची के बयान दर्ज किए। घटना के बाद थाने की पुलिस तुरंत हरकत में आई और गांव जाकर आरोपी पिता को गिरफ्तार कर लिया। गुरुवार को पुलिस ने बच्ची और पिता का जिला अस्पताल में ड्यूटी डॉक्टर से मेडिकल परीक्षण कराया है। 

इस मामले में थाने की महिला एएसआई लक्ष्मी तिवारी ने बताया कि घटना के बाद बच्ची के बयानों के अधार पर पिता पर दुष्कर्म का मामला दर्ज कर लिया गया है। इसके साथ ही आरोपी पिता को भी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। इस मामले की जांच उच्च अधिकारियों ने निर्देशन में की जा रही है।

सौतेली मां प्रताड़ित करती है, अब पिता ने भी रेप किया

आरोपी पिता की 14 साल पहले इस बच्ची की मां से शादी हुई थी। शादी के कुछ साल बाद इस बच्ची की मां का देहांत हो गया था। इसके बाद आरोपी ने दूसरी शादी कर ली। शादी के बाद घर आई दूसरी मां उससे घर का काम कराती और मारपीट करती। इस कारण 10 साल की बच्ची के साथ पिता द्वारा दुष्कर्म जैसी घटना होने के बाद वह अपनी दूसरी मां के पास नहीं गई, बल्कि सीधे ईशानगर थाने पहुंच गई।