Loading...

RTE PORTAL में तकनीकी गड़बड़ी, अभिभावक फार्म नहीं भर पा रहे हैं | JABALPUR MP NEWS

JABALPUR। शिक्षा का अधिकार अधिनियम-आरटीई (RIGHT TO EDUCATION - RTE) के तहत निजी स्कूलों (PRIVET SCHOOL) में प्रवेश (ADMISSION) की ऑनलाइन प्रक्रिया शुरू होने के साथ ही अभिभावकों में फार्म भरने की होड़ मच गई है, लेकिन आरटीई पोर्टल (RTE PORTAL MP) में बार-बार आ रहीं तकनीकी गड़बड़ी से अभिभावक फार्म नहीं भर पा रहे हैं। पोर्टल तो चल रहा है, लेकिन फार्म भरने के दौरान बार-बार इरर (ERROR) की समस्या से जूझना पड़ रहा है। 

यदि किसी ने ऑनलाइन फार्म में नाम, जाति गलत भर दिया तो उसे सुधारने में भी काफी मशक्कत करनी पड़ रही है। स्कूल में एडमिशन के लिए जरूरी OTP (वन टाइम पासवर्ड) भी नहीं मिल रहा है। यह वह कोड है जिसके आधार पर अभिभावकों के मोबाइल पर सूचनाएं भेजी जाएंगी। फार्म भरने की अंतिम तारीख 29 मई निर्धारित की गई है। लिहाजा जल्द से जल्द फार्म भरने के लिए अभिभावक परेशान हो रहे हैं।

इसलिए जल्द से जल्द फार्म भरने मची है होड़
विदित हो कि आरटीई के तहत निजी स्कूलों की 25 प्रतिशत रिजर्व सीट पर कमजोर वर्ग के बच्चों के दाखिले की ऑनलाइन प्रक्रिया शुरू हो गई है। आरटीई में किए जा रहे फर्जीवाड़े को रोकने इस बार नए नियम के तहत फार्म भरने के बाद पहले दस्तावेजों का सत्यापन जनशिक्षा केन्द्र से कराया जाएगा उसके बाद ही बच्चों का चयन लॉटरी के लिए किया जाएगा। यही वजह है कि फार्म भरने से लेकर सत्यापन कराने के लिए अभिभावकों में अभी से होड़ मच गई है।

फार्म भरने में करनी पड़ रही घंटों मशक्कत
- पोर्टल में बार-बार एरर आने से फार्म नहीं भरे जा रहे। ओटीपी नहीं मिल पा रहा।
- समग्र आईडी में दर्ज जानकारी को सत्यापित करने दोबारा जानकारी दर्ज करनी पड़ी रही है।
- नाम या जन्म तिथि गलत दर्ज हो गई तो से सुधारने के लिए एडिट ऑब्शन ही नहीं खुल रहा।
- जैसे तैसे फार्म भर भी गया तो डाउनलोड कर उसकी पावती घंटो बाद निकल रही है।

29 मई तक करना है कम्प्लीट
- 29 मई तक ही ऑनलाइन फार्म भरे जा सकेंगे।
- 29 मई तक ही फार्म भरकर लेनी होगी पावती,डाउनलोड करना हो सत्यापन प्रपत्र।
- 29 मई तक ही जनशिक्षा केन्द्रों में दस्तावेजों का करना होगा सत्यापन।

----------------
आरटीई पोर्टल में तकनीकी समस्याओं के कारण फार्म भरने में समय लग रहा है। भोपाल स्तर से ही इसमें सुधार किया जा सकेगा।
-डॉ.आरपी चतुर्वेदी, डीपीसी