BJP की सांसद ताई पर भड़के DOCTOR, माइक छीना, मंच पर ही खरी-खोटी सुनाईं | INDORE MP NEWS

Advertisement

BJP की सांसद ताई पर भड़के DOCTOR, माइक छीना, मंच पर ही खरी-खोटी सुनाईं | INDORE MP NEWS

इंदौर। इन दिनों मंच से झूठ बोलना अब आसान नहीं रह गया है। जनता सामने खड़े होकर पोल खोल देती है। लोकसभा स्पीकर व भाजपा सांसद सुमित्रा महाजन के साथ कुछ ऐसा ही हुआ जब उन्होंने डॉक्टरों के बीच आयुष्मान योजना का गुणगान शुरू किया। डॉक्टर भड़क गए। एक डॉक्टर ने तो ताई के हाथ से माईक छीनकर उन्हे लताड़ लगा डाल। डॉक्टरों ने कहा कि आयुष्मान योजना ने डॉक्टरी पेशे का सत्यानाश कर दिया है। 

योजना का नाम लेते ही डॉक्टर आक्रोशित हुए

सांसद सुमित्रा महाजन शुक्रवार को इंदौर के इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के एक कार्यक्रम में सरकारी योजनाओं का गुणगान कर रही थीं। आईएमए के कार्यक्रम में पहुंची सुमित्रा महाजन ने सरकार की योजनाओं का बखान करते हुए जैसे ही आयुष्मान भारत योजना का नाम लिया डॉक्टर आक्रोशित हो गए। यूरोलॉजिस्ट डॉ. केएल बंडी और डॉ. नरेंद्र पाटीदार ने मेडिक्लेम और आयुष्मान भारत योजना को गलत बताया। 

सांसद के हाथ से माइक छीना

इस बीच सांसद महाजन ने कहा कि सामान्य ऑपरेशन के अस्पताल तीन से चार लाख रुपये ले रहे हैं। महाजन ने आगे कहा लोग मेरे पास मदद के लिए आते हैं। कई बार अस्पताल के बिल देखकर मैं चौंक गई। इसपर डॉ बंडी गुस्सा हो गए और सुमित्रा महाजन के हाथ से माइक छीन लिया। डॉ ने कहा आप मुझे एक बिल बताएं, जिसमें अस्पताल ने एवरेज बिल तीन से चार लाख का दिया हो। मैं डॉक्टरी छोड़ दूंगा। 

वकील परामर्श के लिए 5 हजार लेते हैं। आप बताएं कौन सा डॉक्टर पांच हजार फीस लेता है। इस पर महाजन ने कहा मैं विरोध नहीं कर रही हूं। यहां सेवा करने वाले भी हैं। डॉ. बंडी बोले हमारे पेशे को गिराया जा रहा है। मरीज के पास आयुष्मान कार्ड है। बीपीएल कार्ड होता है। यह डॉक्टरों के साथ कौन सा अन्याय है।

योजनाओं का पैसा सरकार हमें समय पर नहीं देती। अस्पताल से काम करवा लेती है लेकिन पैसा बरसों नहीं आता। कारण आपको भी पता है कि सरकारी अफसरों को कुछ चाहिए। इसलिए आप ऐसा कानून लाएं कि यदि रिफंड समय पर नहीं होता तो छह प्रतिशत ब्याज से पैसा दिया जाएगा।

आज टॉपर्स इस पेशे में नहीं आना चाहते। मेरे खुद के दो ग्रेंड चिल्ड्रन हैं। उन्होंने डॉक्टर बनने से इनकार कर दिया है। इस पेशे का सत्यानाश हुआ है और इसमें सरकार का बहुत बड़ा योगदान है। सरकार हमें पीछे कर रही है। कम से कम हमारे पेशे को तो इज्जत बख्शो। 

वहीं डॉ. पाटीदार बोले कोलकाता में एक हड्डी रोग विशेषज्ञ ने अपना पेशा बदल लिया। मेरा बेटा एमबीबीएस कर चुका है, मैं उसको बिजनेस करवाने की सोच रहा हूं। कोई इस पेशे में नहीं आना चाहता। वर्ष 2015 में हॉर्निया के ऑपरेशन के लिए मेडिक्लेम कंपनियां 30 हजार देती थीं। अब 30 प्रतिशत कम कर दिया है।