खजराना गणेश को भाजपाई चोला: चुनाव आयोग ने 1200 में मामला खत्म कर दिया | INDORE NEWS

Advertisement

खजराना गणेश को भाजपाई चोला: चुनाव आयोग ने 1200 में मामला खत्म कर दिया | INDORE NEWS

इंदौर। विश्वप्रसद्धि एवं इंदौर के लाखों नागरिकों के आस्था के प्र​तीक खजराना गणेश की प्रतिमा को भाजपा के झंडे वाला चोला एवं कमल का फूल चढ़ाने के मामले में चुनाव आयोग ने भाजपा प्रत्याशी शंकर लालवानी के खिलाफ प्रतीकात्मक कार्रवाई की है। उन्होंने फूलों का खर्चा 1200 रुपए प्रत्याशी के खाते में जोड़ दिया। बता दें कि भारत में धर्म के नाम पर चुनावी राजनीति प्रतिबंधित है। 

कमल के फूल ब्राह्मण समाज ने चढ़ाए थे

मजेदार बात तो यह है कि जिला निवार्चन की प्रतीकात्मक कार्रवाई पर भी भाजपा ने आपत्ति जताई है। पार्टी ने आपत्ति दर्ज कराते हुए कहा कि कमल के फूल ब्राह्मण समाज की ओर चढ़ाए गए थे। भाजपा के जिला स्टेंडिंग कमेटी के सदस्य सुरेश बंसल ने बताया कि पिछले दिनों ब्राह्मण समाज के खजराना गणेश मंदिर में कमल के फूल आस्था स्वरूप भेंट किए थे। इस दौरान भाजपा विधायक रमेश मंदोला भी पहुंचे थे। 

जिला निर्वाचन कार्यालय द्वारा इन फूलों का खर्च 1200 रुपए भाजपा प्रत्याशी के चुनाव खर्च में जोड़ दिया है। जबकि इसका चुनाव प्रचार से कोई लेना-देना नहीं है। भाजपा ने इस खर्च को मानने से इंकार कर दिया है। क्योंकि भगवान पर फूल चढ़ाना आस्था का विषय है। ना कि राजनीतिक का इसलिए अगर आयोग से नोटिस मिलता है तो इसका जवाब देने के लिए तैयार है।

कोई ब्राह्मण भगवान गणेश को कमल का फूल क्यों चढ़ाएगा

भाजपा की इस दलील में दम नजर नहीं आ रहा है। ब्राह्मण समाज का वो व्यक्ति भी सामने नहीं आया है जिसने फूल चढ़ाए थे। बड़ा सवाल यह है कि  भगवान गणेश को लाल रंग के गुड़हल के पुष्प प्रिय हैं और कम से कम ब्राह्मण तो यह जानता ही है कि भगवान को कौन से फूल अर्पित किए जाते हैं। यदि कोई भगवान गणेश के प्रिय पुष्प के बारे में नहीं जानता तब भी वो इतना तो जरूर जानता है कि कमल के पुष्प केवल माता लक्ष्मी को अर्पित किए जाते हैं। सवाल यह है कि कोई ब्राह्मण भगवान गणेश को कमल का फूल क्यों चढ़ाएगा।