Loading...

RTE ONLINE ADMISSION 2019 LINK. HELPLINE NUMBER | आरटीई ऑनलाइन एडमिशन लिंक ओपन, हेल्पलाइन नंबर जारी

भोपाल। नि:शुल्क शिक्षा का अधिकार के लिए मंगलवार से राज्य शिक्षा केंद्र द्वारा पालकाें से ऑनलाइन आवेदन आमंत्रित करने के लिए पोर्टल की लिंक को खोला गया। 30 अप्रैल से 29 मई तक पालकाें को ऑनलाइन आवेदन करना है। इसके बाद 30 मई तक पालकों को आवेदन व अन्य प्रपत्रों को सत्यापित भी करवाना होगा। इसको लेकर राज्य शिक्षा केंद्र की संचालक आईरिन सिंथिया द्वारा आदेश भी जारी कर दिए गए हैं।

सारी प्रक्रिया पूरी होने के बाद पालकों को 12 जून को पता चलेगा कि उनके बच्चे का एडमिशन कौन से स्कूल में हुआ है। साथ ही, 25 जून तक स्कूलों में प्रवेश की प्रक्रिया की जाएगी। इसमें किसी प्रकार की परेशानी होने पर पालकों के लिए राज्य शिक्षा केंद्र ने हेल्पलाइन नंबर भी जारी किया है। आरटीई के तहत शुरू हुई प्रवेश प्रक्रिया आगामी दो माह तक चलेगी। इसके लिए कुल नौ चरणों में यह प्रक्रिया पूरी करना तय किया गया। ऐसे में जहां 30 अप्रैल से 29 मई तक पालकों को ऑनलाइन आवेदन करना है। 30 अप्रैल से 29 मई तक पालकों को पोर्टल से ऑनलाइन आवेदनों की पावती व सत्यापन प्रपत्र डाउनलोड करना है।

30 अप्रैल से 30 मई तक पालकाें को अपने आसपास के जनशिक्षा केंद्र में जाकर दस्तावेजों का सत्यापन करवाना है। हालांकि इसी दौरान पालकों को आवेदन करने के दौरान हुई किसी प्रकार की त्रुटि को भी सुधारने के लिए समय दिया जाएगा। 1 मई से 5 जून तक सत्यापन अधिकारियों से सत्यापन प्रपत्र लेकर बीआरसी द्वारा पोर्टल पर अपलोड करना है।

12 जून को पोर्टल पर दर्ज हुए बच्चों में से रेण्डम पद्धति से ऑनलाइन लॉटरी द्वारा सीटों का आवंटन व चयनित आवेदकों को एसएमएस द्वारा सूचना दी जाएगी। 12 जून से 20 जून तक पालकों को पोर्टल से आवंटन पत्र डाउनलोड करना है। 13 जून से 25 जून तक निजी स्कूलों के आवंटन के बाद स्कूलों में प्रवेश दिया जाना है। 13 से 30 जून तक पात्र पाए गए बच्चों का स्कूलों में प्रवेश व निजी स्कूलों द्वारा प्रवेशित बच्चों की पोर्टल पर रिपोर्टिंग और उनका सत्यापन करना है।

हेल्पलाइन नंबर भी किया जारी
आरटीई के तहत निजी स्कूलों मेें आरक्षित सीटों पर सौ फीसदी प्रवेश कराने के लिए शिक्षा विभाग ने इस सत्र में हेल्पलाइन नंबर 01139589100 जारी किया है। इस हेल्पलाइन पर मिस कॉल देने पर आरटीई के तहत प्रवेश पाने की हर समस्या का आसान तरीके से समाधान किया जाएगा। मिस कॉल देते ही वापस कॉल आएगा और परेशानी दूर की जाएगी।