Loading...

मंत्री जीतू पटवारी: बागी को कलेक्ट्रेट के अंदर से खींच ले गए, फार्म भरने से रोका | MP NEWS

भोपाल। रायसेन-विदिशा संसदीय क्षेत्र के निर्वाचन कार्यालय में चुनाव के दौरान आज पहली बार एक अलग तरह का नजारा देखने मिला। कांग्रेस के बागी नेता राजकुमार पटेल (CONGRESS LEADER RAJKUMAR PATEL) निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर नामांकन फार्म दाखिल करने आए लेकिन मंत्री जीतू पटवारी (MINISTER JITU PATWARI) अचानक वहां पहुंच गए और जीतू पटवारी ने राजकुमार पटेल को कलेक्टर कार्यालय के भीतर ही फार्म भरने से रोक दिया। राजकुमार पटेल कोशिश करते रहे लेकिन मंत्री ने उन्हे तब तक रोके रखा जब तक कि फार्म जमा करने का समय समाप्त नहीं हो गया। 

मामला क्या है

कांग्रेस ने विदिशा संसदीय क्षेत्र से शेलेंद्र पटेल को अपना उम्मीदवार बनाया है। राजकुमार पटेल इस क्षेत्र से टिकट की दावेदारी कर रहे थे। लेकिन कांग्रेस ने उन्हें मौका नहीं दिया। टिकट नहीं मिलने सा राजकुमार पटेल नाराज हो गए और उन्होंने निर्दलीय पर्चा दाखिल करने का ऐलान कर दिया। सोमवार को वो निर्दलीय उम्मीदवार का पर्चा दाखिल करने विदिशा-रायसेन संसदीय क्षेत्र के रायसेन स्थित निर्वाचन कार्यालय पहुंच गए। 

कमलनाथ ने फोन किया लेकिन पटेल नहीं माने

भोपाल से जैसे ही राजकुमार पटेल के निर्दलीय पर्चा दाखिल होने की जानकारी पार्टी के वरिष्ठ नेताओं को मिली उन्होंने मुख्यमंत्री कमलनाथ को इसकी जानकारी दी। कमलनाथ ने जीतू पटवारी को राजकुमार पटेल से बात करने और उन्हें वापस लाने का जिम्मा सौंपा। बताया जा रहा है कि कमलनाथ का फोन आते ही जीतू पटवारी ने राजकुमार पटेल को फोन लगाकर उनसे बात की। राजकुमार ने उन्हें बताया कि वे रायसेन के लिए निकल चुके हैं। 

मंत्री सामने आकर खड़े हो गए और अंदर जाने से रोका

राजकुमार पटेल के इतना कहते ही जीतू पटवारी भी भोपाल से रायसेन के लिए निकले। रास्तेभर उनकी राजकुमार पटेल से बात होती रही लेकिन राजकुमार पटेल मानने तैयार नहीं हुए। इधर राजकुमार पटेल रायसेन मे जिला निर्वाचन कार्यालय पहुंचे इसके करीब 20 मिनट बाद ही जीतू पटवारी भी वहां पहुंच गए। निर्वाचन अधिकारी के समक्ष जाने से पहले जीतू पटवारी राजकुमार पटेल के सामने खड़े हो गए और उन्हें अंदर जाने से रोक दिया। इस समय दोपहर के ढाई बजे थे। और पर्चा जमा करने का समय तीन बजे तक का निर्धारित था। 

फार्म जमा करने का समय समाप्त हुआ तब छोड़ा

कई बार राजकुमार पटेल जीतू पटवारी को हटाते हुए अंदर जाने की कोशिश करते रहे लेकिन जीतू पटवारी उनके गले लग कान में कुछ कहते रहे और उन्हें अंदर जाने रोकते रहे। निर्वाचन अधिकारी के कक्ष के बाहर इस तरह का नजारा करीब आधे घंटे तक चलता रहा। जब तक तीन नहीं बज गए जीतू राजकुमार पटेल के गले लगे उन्हें रोके रहे और कान में कुछ कहते रहे। निर्वाचन फार्म भरने का समय तीन बजे खत्म होते ही जीतू पटवारी ने राजकुमार पटेल को छोड़ दिया और फिर राजकुमार पटेल ने धीरे से जीतू से कुछ कहा और दोनों निर्वाचन कार्यालय से बाहर आ गए। और अंतत: राजकुमार पटेल आज अपना नामांकन नहीं भर पाए।