नई दिल्ली। गोवा में भाजपा की जोड़तोड़ की सरकार संकट में आ गई है। कांग्रेस ने राज्यपाल के सामने सरकार बनाने का दावा पेश कर दिया है। भाजपा ने अपने विधायकों की बैठक बुलाई है। 40 सीट वाली गोवा विधानसभा में फिलहाल 37 सदस्य हैं। इनमें से भाजपा के पास सिर्फ 13 विधायक हैं परंतु भाजपा को 8 विधायकों का समर्थन भी प्राप्त है। 

राष्ट्रपति शासन लगाने की कोशिश ना करें

राज्यपाल मृदुला सिन्हा को लिखे पत्र में कांग्रेस पार्टी ने मांग की है कि वे भाजपा की अल्पमत की सरकार को बर्खास्त करें और राज्य के सबसे बड़े दल कांग्रेस को सरकार बनाने का मौका दिया जाए। कांग्रेस ने पत्र में यह भी लिखा, गोवा में राष्ट्रपति शासन लगाने की कोशिश की जाती है तो यह अवैध है और इस फैसले को चुनौती दी जाएगी। वहीं, भाजपा ने भी आज अपने विधायकों की बैठक बुलाई है।

भाजपा सरकार बहुमत खो चुकी है

राज्यपाल को भेजे पत्र में विपक्ष के नेता चंद्रकांत कावलेकर लिखा,"भाजपा के एक विधायक के निधन के बाद पर्रिकर सरकार बहुमत खो चुकी है। लंबे समय से लोगों का विश्वास खो चुकी मनोहर पर्रिकर के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार ने अब सदन की ताकत खो दी है। इसलिए राज्य सरकार को बर्खास्त कर यह सुनिश्चित किया जाए कि सदन की सबसे बड़ी पार्टी को सरकार बनाने के लिए बुलाना चाहिए।

ये है विधानसभा का गणित

मौजूदा वक्त में गोवा विधानसभा में 37 सदस्य हैं। इनमें से 13 विधायक भाजपा के हैं। वहीं, कांग्रेस के 14 सदस्य हैं। हालांकि, भाजपा दो क्षेत्रीय पार्टियों के 6 और 2 निर्दलीय विधायकों के साथ सत्ता में है। भाजपा के पास कुल 21 विधायकों का समर्थन है।