LOKSABHA CHUNAV HINDI NEWS यहां सर्च करें




कमलनाथ ने धर्मस्थल पर वोट मांगे, EC से हुई शिकायत | MP NEWS

27 March 2019

भोपाल। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने अपने गृह जिले में आयोजित एक धर्मस्थल के कार्यक्रम का उपयोग चुनाव प्रचार के काम किया है। इस काम में जिला निर्वाचन अधिकारी ने भी उन्हें परोक्ष सहयोग दिया है। उक्ताशय की शिकायत बुधवार को भारतीय जनता पार्टी के एक प्रतिनिधिमंडल ने मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी से की है। शिकायत में जिला निर्वाचन अधिकारी को तत्काल हटाए जाने की मांग भी की गई है।

भारतीय जनता पार्टी के एक प्रतिनिधिमंडल ने बुधवार को मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी से की गई शिकायत में मुख्यमंत्री कमलनाथ पर एक मंदिर के कार्यक्रम का उपयोग प्रचार के लिए करने तथा आचार संहिता के उल्लंघन का आरोप लगाया है। शिकायत में कहा गया है कि भारत निर्वाचन आयोग के द्वारा छिन्दवाडा विधानसभा क्षेत्र का उप-निर्वाचन एवं लोकसभा क्षेत्र के लिए निर्वाचन कार्यक्रम घोषित किया जा चुका है। तदनुसार दिनांक 02/04/2019 को निर्वाचन की अधिसूचना जारी होने वाली है तथा 29/4/2019 को मतदान किया जाना है। श्री कमलनाथ प्रदेश के मुख्यमंत्री होने के साथ ही प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष भी हैं, चुनावी दोरे पर स्थान स्थान जाकर जनता को संबोधित भी कर रहे हैं। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने पांढुर्णा नगर में एक चुनावी सभा को संबोधित किया। यह चुनावी सभा धार्मिक स्थल, नवदुर्गा मंदिर समिति द्वारा आयोजित की गईं थी। सभा स्थल पर जो बैनर लगाये गये थे उनमें एक बैनर पर लिखा था ‘मंदिर समिति स्वागत करता है’, तथा दूसरे बैनर पर लिखा था ‘‘वक्त है बदलाव का क्षेत्रीय कांग्रेस कमेटी छिन्दवाड़ा’’। इस बैनर पर एक ओर श्रीमती सोनिया गांधी का चित्र था तो दूसरी तरफ श्री कमलनाथ का चित्र था और साथ ही माता दुर्गा का चित्र भी लगा था जो संलग्न फोटो में दिखाई देता है। शिकायती पत्र में कहा गया है कि इस सभा में श्री कमलनाथ ने लोकसभा के लिए नकुलनाथ के पक्ष में एवं विधानसभा के लिए स्वयं के पक्ष में मतदान करने के लिए मतदाताओं से आग्रह किया था। इस सभा की अध्यक्षता पूर्व विधायक श्री दीपक सक्सेना के द्वारा की गई थी। मुख्यमंत्री का यह कृत्य आचार संहिता के उल्लंघन की श्रेणी में आता है।

पत्र में कहा गया है कि कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी ने जानबूझकर उक्त कार्यक्रम की वीडियोग्राफी नहीं कराई गई। शिकायती पत्र में इस सभा के दौरान शासकीय सेवकों के दुरुपयोग का भी आरोप लगाया गया है। पार्टी के प्रतिनिधि मंडल ने अपनी शिकायत के साथ साक्ष्य के रूप में कार्यक्रम के फोटोग्राफ भी संलग्न किए हैं। पत्र के माध्यम से मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ, श्री दीपक सक्सेना तथा मंच पर उपस्थित अन्य कांग्रेस कार्यकर्ताओं के खिलाफ आचार संहिता के उल्लंघन की कार्रवाई तथा जिला निर्वाचन अधिकारी को तत्काल हटाए जाने की मांग की गई है। पार्टी के प्रतिनिधिमंडल में वरिष्ठ नेता श्री शांतिलाल लोढ़ा और श्री एस.एस. उप्पल शामिल थे। 



-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

Suggested News

Loading...

Advertisement

Popular News This Week

 
-->