Loading...

ABVP और NSUI के बीच 1 घंट तक पत्थरबाजी होती रही, पुलिस देखती रही | DEWAS MP NEWS

देवास। विश्वविद्यालय और शासकीय कॉलेजों में प्रदर्शन पर लगाए प्रतिबंध के विरोध में शनिवार शाम देवासगेट स्थित शासकीय माधव कला एवं वाणिज्य महाविद्यालय के सामने एबीवीपी कार्यकर्ताओं ने पुलिस की मौजूदगी में उच्च शिक्षा मंत्री जीतू पटवारी के तीन पुतले फूंक दिए। प्रदर्शन के दौरान कांग्रेस समर्थित छात्र संगठनों के कार्यकर्ता भी पहुंच गए। दोनों पक्ष आमने-सामने हुए और उनके बीच झूमाझटकी के बाद मारपीट शुरू हो गई। 

पुलिस के सामने ही दोनों तरफ से पत्थर चले। एक घंटे तक कॉलेज के सामने वाली सड़क पर हंगामा चलता रहा। भीड़ को खदेड़ने के लिए पुलिस ने हल्का बल प्रयोग किया और फायर फाइटर की नोजल से वॉटर कैनन का इस्तेमाल किया। घटना के बाद दोनों पक्षों ने एक-दूसरे पर पत्थरबाजी करने और पुलिस पर संरक्षण देने के आरोप लगाए। पूर्व विधायक डॉ. बटुकशंकर जोशी सहित कुछ कांग्रेस नेता भी घटना के बाद मौके पर पहुंचे। देर शाम कांग्रेस समर्थित छात्र नेताओं ने देवासगेट थाने पहुंचकर एबीवीपी कार्यकर्ताओं के खिलाफ प्रकरण दर्ज करने की मांग को लेकर लिखित शिकायत की। 

देवासगेट टीआई जेएस भास्कर पत्थरबाजी की घटना से इनकार करते रहे। घटना के तीन घंटे बाद एसपी ने देवासगेट टीआई भास्कर को लाइन अटैच कर दिया। पुलिस ने सांसद प्रो. चिंतामणि मालवीय के पुत्र दुष्यंत मालवीय सहित एबीवीपी के 18 कार्यकर्ताओं पर केस दर्ज किया। अभी किसी की भी गिरफ्तारी नहीं हुई है। 

एबीवीपी ने मंत्री के तीन पुतले जलाए 
एबीवीपी कार्यकर्ताओं ने पहले एक पुतला पुलिस के सामने ही जलाया। इसके बाद दो जलते हुए पुतले भीड़ के बीच से लेकर आए। एबीवीपी के कार्यकर्ताओं की विद्यार्थी यूनियन, आनंदेश्वरी छात्र संगठन, दिशा छात्र संगठन के कार्यकर्ताओं से झड़प व मारपीट हुई। कांग्रेस समर्थित छात्र संगठनों से बबलू खिचीं, यशवंत चौहान, रवि जायसवाल, वीरभद्र वर्मा, यश जैन सहित अन्य छात्र नेताओं ने एबीवीपी पदाधिकारियों को खदेड़ने का प्रयास किया। 

बगैर अनुमति के पुतला जाने की धारा लगाई 
देवासगेट थाना पुलिस ने एबीवीपी के 18 पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं के खिलाफ बिना अनुमति पुतला जलाने और आमजन को परेशान करने सहित अन्य धाराओं में प्रकरण दर्ज किया। सांसद पुत्र एवं एबीवीपी के दुष्यंत मालवीय के साथ ही संभागीय संगठन मंत्री प्रवीण शर्मा, शालिनी वर्मा, हिमांशु रावल, जयसिंह उमठ, अंकित जाटवा, संजय पांडे, शुभम परमार, अभिषेक राठौर, प्रिंस बागड़ी, राहुल चौरसिया, शुभम बना, अंशुल नाहर, विशी सिंह गांधी, हर्ष भाटी, अजय पचलानिया, राघव शर्मा, मनीष डोडिया सहित 20-25 अन्य कार्यकर्ताओं पर केस दर्ज हुआ। 

हमने नहीं दूसरे पक्ष ने की पत्थरबाजी 
घटना के बाद कांग्रेसियों ने थाने पहुंचकर विरोध किया। भोपाल तक इसकी शिकायत हुई। इसके बाद तीन घंटे के भीतर सीएसपी हेमलता अग्रवाल को मामले की जांच करने के आदेश दिए। साथ ही जांच पूरी होने तक देवासगेट टीआई जेएस भास्कर को हटाकर लाइन भेज दिया गया।