Loading...

SBI कर्मचारियों की संख्या घटा रहा है

मुंबई। देश का सबसे बड़ा बैंक भारतीय स्टेट बैंक (STAT BANK OF INDIA) अपने कर्मचारियों की संख्या (NUMBER OF EMPLOYEE) घटाता जा रहा है। एसबीआई ने अगले पांच साल तक सेवानिवृत्त हो रहे कर्मचारियों के स्थान पर केवल 75 प्रतिशत नए कर्मियों की नियुक्ति (RECRUITMENT) का फैसला किया है। यानी एसबीआई में अब नौकरियां (SBI JOBS) बढ़ने के बजाए 25 प्रतिशत कम हो जाएंगी। दूसरी ओर बैंक के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक देश में रोजगार की स्थिति अच्छी नहीं होने के कारण उसे विभिन्न पदों के लिए सबसे अच्छे उम्मीदवार मिल जा रहे हैं। रेलवे की तरह ही भारतीय स्टेट बैंक को पिछले दो साल में क्लर्क के 8,000 पदों के लिए 28 लाख लोगों के आवेदन मिले। 

वित्त वर्ष 2018 की शुरुआत में बैंक ने सेवानिवृत्त हो रहे 12,000 लोगों की जगह केवल 10,000 लोगों की नियुक्ति प्रक्रिया शुरू की। क्लर्क के तौर पर सेवा से जुड़े करीब 80 फीसदी उम्मीदवार या तो एमबीए हैं या इंजिनियर। बैंक के उप प्रबंध निदेशक और कॉर्पोरेट विकास अधिकारी प्रशांत कुमार ने कहा, 'यह हमारे लिए बहुत अच्छा है। क्लर्क के स्तर पर हमें अच्छे लोग मिल रहे हैं, जो टेक्नॉलजी और अन्य चीजों से अच्छी तरह अवगत हैं। करियर में प्रगति भी तेजी से हो रही है, क्लर्क के रूप में सेवा से जुड़ने के बाद उनमें से अधिकतर अधिकारी के रूप में प्रोन्नति के लिए आंतरिक परीक्षाओं में शामिल होंगे।' 

गौरतलब है कि पिछले साल रेलवे ने 90,000 पदों पर नियुक्ति के लिए आवेदन आमंत्रित किया था। इसके लिए उसे 2.3 करोड़ लोगों के आवेदन मिले थे। दुनियाभर में बैंक टेक्नॉलजी डिवेलपमेंट को देखते हुए अपनी कार्यशैली में बदलाव कर रहे हैं। ब्रिटेन के प्रमुख एचएसबीसी ने देश में अपने नेटवर्क को आधा करने का फैसला किया हैं। वहीं स्टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक ने भी ऑटोमेशन को दखते हुए अपनी 200 शाखाओं को बंद कर दिया है।