सारा देश आतंक के खिलाफ एकजुट: राष्ट्रपति, शहादत व्यर्थ नहीं जाएगी: PM | NATIONAL NEWS

Advertisement

सारा देश आतंक के खिलाफ एकजुट: राष्ट्रपति, शहादत व्यर्थ नहीं जाएगी: PM | NATIONAL NEWS


नई दिल्ली। कश्मीर के पुलवामा (Pulwama ) में हुए पाकिस्तानी आतंकवादी संगठन के हमले के बाद पूरा देश भड़क उठा है। भारत के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ( President Ramnath Kovind ) ने कहा कि इस आतंकवादी हमले के खिलाफ पूरा देश एकजुट है। पीएम नरेंद्र मोदी ( PM Narendra Modi ) ने कहा कि जवानों की यह शहादत व्यर्थ नहीं जाएगी। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi ) ने कि मैं इस हमले से निराश हूं। प्रियंका गांधी ( Priyanka Gandhi ) ने कहा सरकार कड़ा कदम उठाए, सारा देश उसके साथ है। 

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा, जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में आतंकी हमले की कड़ी निंदा करता हूं। शहीदों के परिवार के साथ संवेदनाएं और प्रार्थनाएं। पूरा देश इस आतंकी हमले के खिलाफ खड़ा है। उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने कहा, "पुलवामा में सीआरपीएफ की टोली पर हुए कायराना आतंकवादी हमले कि कड़ी निंदा करता हूं। शहीद जवानों को विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं। दुख की इस घड़ी में सारा देश परिजनों के साथ है। ईश्वर परिजनों को धैर्य दें और घायल जवानों को शीघ्र स्वस्थ करें। पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि पुलवामा में सीआरपीएफ जवानों पर हमला घृणित है। जवानों की शहादत बेकार नहीं जाएगी। पूरा देश जवानों के परिवार के साथ खड़ा है। प्रधानमंत्री मोदी ने हमले को लेकर गृह मंत्री राजनाथ सिंह, CRPF के अफसरों, सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल से भी बातचीत की। 

राहुल गांधी ने कहा, "सीआरपीएफ पर हमले से काफी निराश हूं। मेरी संवेदनाएं शहीदों के परिवार के साथ हैं। मैं घायलों के जल्द ठीक होने की कामना करता हूं। गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा- पुलवामा में सीआरपीएफ पर हमला बेहद दर्दनाक और परेशान करने वाली घटना है। हमले के पीछे पाकिस्तान का हाथ है। जैश के आतंकियों का हाथ है। मैं जनता को ये आश्वासन देता हूं कि हम इसका जवाब देंगे। पूरा देश एकजुट है। हम किसी तरह की कोई कसर नहीं छोड़ेंगे। प्रियंका गांधी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस रद्द की। उन्होंने पुलवामा हमले पर कहा, "जवानों की शहादत से दुखी हूं। सरकार आतंकी हमले को रोकने के लिए कड़े कदम उठाए। पूरा देश शहीदों के साथ है। मेरी संवेदना शहीदों के परिवारों के साथ। उनका दुख समझती हूं। परिवार के सदस्य को खोने का दर्द समझती हूं।"