Loading...

प्रधानमंत्री चाहें तो देश में नफरत का माहौल खत्म हो जाएगा: राहुल गांधी | NATIONAL NEWS

नई दिल्ली। जवाहर लाल नेहरू स्टेडियम में राहुल गांधी ने शनिवार को छात्रों से संवाद किया। उन्होंने कहा कि देश में जो नफरत का माहौल है, लेकिन अगर प्रधानमंत्री साफ मैसेज दें तो सारी चीजें ठंडी हो जाएंगी। यह प्यार और भाईचारे का देश है। लोगों के दिल से डर को मिटाना होगा। 

हम अर्धसैनिक बलों के जवानों को भी शहीद का दर्जा देंगे

राहुल ने कहा कि अगर इस बार लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की सरकार बनती है तो अर्धसैनिक बलों (पैरामिलिट्री फोर्स) के जवानों को भी शहीद का दर्जा दिया जाएगा। अभी तक सिर्फ आर्मी के जवानों को ही शहीद का दर्जा मिलता है। राहुल ने कहा कि मोदी सरकार ने 3.5 लाख करोड़ रुपए अपने 15-20 उद्योगपतियों को पैसे दिए। किसानों का कर्ज माफ नहीं हुआ। 

विश्वविद्यालयों में एक विचारधारा से वीसी बनाए जा रहे हैं

केंद्र सरकार ने शिक्षा बजट में भी कटौती की। कांग्रेस अध्यक्ष ने यह भी कहा कि अगर आप उन 15, 20, 30, 40 उद्योगपतियों में से हैं तो आपको सरकार कुछ भी दे देगी। आपको आईआईटी, एमआईटी का टैग मिल जाएगा। जब भी आईआईटी की बात होती है तो लोग कहते हैं कि हम वहां के स्टूडेंट्स से इम्प्रेस होने की बात कही जाती है, न कि वहां के इन्फ्रास्ट्रक्चर से। विश्वविद्यालयों में एक विचारधारा से वीसी बनाए जा रहे हैं। शिक्षण संस्थाओं पर कब्जा जमाने की कोशिश की जा रही है।

मेरी दादी मेरे लिए मेरी मां से भी ज्यादा थीं

राहुल ने कहा- कोई इस देश को पीछे नहीं कर सकता लेकिन हमारी सरकार अपनी कमजोरी मानने को तैयार नहीं है। देश में बेरोजगारी की समस्या को दूर करना होगा। मैं मोदी ने कई बार कह चुका हूं कि वे मुझसे राफेल, बेरोजगारी पर बहस करें। एक छात्र ने राहुल से देश में बढ़ती नफरत पर सवाल पूछा। उन्होंने कहा कि देश में जो नफरत का माहौल है, लेकिन अगर प्रधानमंत्री साफ मैसेज दें तो सारी चीजें ठंडी हो जाएंगी। यह प्यार और भाईचारे का देश है। लोगों के दिल से डर को मिटाना होगा। राहुल गांधी ने कहा- जब मेरी दादी का निधन हुआ तो पापा बंगाल में थे। मेरी दादी मेरे लिए मेरी मां से भी ज्यादा थीं। उनकी हत्या सिक्योरिटी वालों ने ही की। सतवंत सिंह ने मुझे बैडमिंटन सिखाया था।