Loading...

घरेलू कामकाजी महिलाओं ने संगठन बनाया, सरकार से हक की मांग | MP NEWS

भोपाल। प्रदेश भर से आयी लगभग 400 घरेलू कामकाजी महिलाओं ने ‘‘घरेलू कामगार यूनियन‘‘ के गठन के लिए न्यू अंबेडकर मैदान, कोलार भोपाल में घेरलू कामकाजी महिलाओं का सम्मेलन एवं आमसभा आयोजित किया गया। सम्मेलन में यूनियन के गठन का प्रस्ताव पारित कर सात सदस्यीय प्रदेश स्तरीय कमेटी का चुनाव किया गया। 

सम्मेलन में सर्वसम्मति से भोपाल की जयश्री वाकोड़े को प्रदेश अध्यक्ष, जबलपुर से सुश्री शकुंतला परिहार को उपाध्यक्ष, सावित्री कनर्जी को सचिव और कमला जाटव को कोषाध्यक्ष के रूप में चुना गया। सम्मेलन में विस्तार से चर्चा करके सर्वसम्मति से विधान और माँगपत्र पारित किया गया। सम्मेलन के दौरान घरेलू कामगारों को न्यूनतम मज़दूरी अधिनियम के दायरे में लाने, घंटे के हिसाब से मजदूरी तय करने, मध्यप्रदेश में घरेलू कामगारों के सभी श्रम-अधिकारों एवं सामाजिक सुरक्षा के सम्बन्ध में क़ानून बनाने सहित संसद में लम्बित घरेलू कामगार (पंजीकरण, सामाजिक सुरक्षा एवं कल्याण) विधेयक, 2008 की ख़ामियों को दूर कर उसे यथाशीघ्र पारित पारित करने का प्रस्ताव पारित किया गया। 

आम सभा को संबोधित करते हुये नवनियुक्त प्रदेशअध्यक्ष जयश्री वाकोड़े ने कहा की  प्रदेश सरकार ने 2009 में एक पंचायत का आयोजन कर मुख्यमंत्री घरेलु कामकाजी महिला कल्याण योजना, लागु की थी जो केवल कागजों पर ही चली l कामकाजी महिलाओं को सम्मानजनक जिन्दगी देने के लिए क़ानून बनाने के बजाय केवल सतही योजनाओं से ही काम चलाया गया l हम मध्यप्रदेश सरकार से मांग करते है की घरेलू कामगारों के हितों को सुरक्षित करने के लिए तत्काल कानून बनाए अन्यथा हमें मज़बूरन सड़क पर उतरना होगा।  हमें संघर्ष करना आता है । 

सम्मेलन में अन्य वक्ताओं ने कहा की घरेलू कामगार यूनियन घरेलू कामगारों के साथ कार्यस्थल पर होने वाली किसी भी प्रकार की हिंसा और शोषण के खिलाफ़ उनके अधिकारों की रक्षा करने, “समान काम के लिए समान वेतन” और रोजगार के समान अवसर के लिए, सभी प्रकार के लैंगिक भेदभाव के खिलाफ संघर्ष करेगा ।

इसके अलावा यूनियन के सदस्यों द्वारा यह निर्णय लिया गया कि यूनियन बालमजूदरी, बंधुआ मजदूरी उन्मूलन और  महिला हिंसा के खिलाफ अभियान चलाएगा। अंत मे प्रदेश भर मे सदस्यता अभियान चलाने का निर्णय लिया गया।