Loading...

BHOPAL में आतंकवादी पकड़ा: जानिए इस वायरल न्यूज का सच | MP NEWS

भोपाल। सोशल मीडिया पर एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है। बताया जा रहा है कि भोपाल के D-MART शॉपिंग मॉल से एक आतंकवादी को पकड़ा गया है। लोग भी एक के बाद एक इसे फारवर्ड कर रहे हैं एवं कंफर्म करना चाहते हैं कि क्या यह सही है। इस वीडियो का हमने अध्ययन किया एवं इसकी सत्यता का पता लगाने का प्रयास किया। सबसे पहले यह स्पष्ट हुआ कि यह वीडियो भोपाल का नहीं है। अब सवाल यह था कि यदि यह भोपाल का नहीं है तो कहां का है। जरा इस वीडियो के साथ आ रहीं आवाजों को सुनिए, आपको समझ आएगा कि यह महाराष्ट्र के किसी शहर का है। आधी रात को 12 बजे के बाद हम यह अपडेट केवल इसलिए दे रहे हैं, ताकि इस वीडियो के बहुत ज्यादा वायरल होने से पहले ही लोगों के सामने सच भी आ जाए और शरारती तत्वों के मंसूबे ध्वस्त किए जा सकें। 

यू ट्यूब पर यही वीडियो कई शहरों के नाम से

एक चौंकाने खला खुलासा यह हुआ कि यू ट्यूब पर यही वीडियो कई शहरों के नाम से अपलोड किया गया है। नोएडा, विरार, भोपाल, मालेगांव, कश्मीर और पता नहीं कहां कहां। लगातार कई बार वीडियो पोस्ट होने से यह समझ पाना भी मुश्किल हो रहा है सही शहर क्या है। दूसरी चौंकाने वाली बात यह है कि देर रात तक किसी भी न्यूज वेबसाइट पर ऐसी किसी गिरफ्तारी की सूचना नहीं है जबकि वीडियो दिन के समय का है। तीसरी महत्वपूर्ण बात यह है कि यह वीडियो ज्यादातर नई आईडी से अपलोड किए गए हैं। किसने किए हैं, क्यों किए हैं उनके इरादे क्या हैं। यह जांच का विषय है।

ये रही असलियत

बालाघाट के श्री Rahul Daharwal ने इसकी असलियत खोज निकाली है। उन्होंने भोपाल समाचार को भेजी एक प्रमाणित जानकारी में बताया कि यह एक मॉक ड्रिल थी जो शनिवार को मुंबई के वरली में मौजूद डी-मार्ट में की गई। सुरक्षा व्यवस्था की जांच के लिए मुंबई पुलिस ने काउंटर-टेरर मॉक ड्रिल (आतंकियों से निपटने की प्रैक्टीस) की थी।

क्या होती है मॉक ड्रिल

मॉक ड्रिल पुलिस विभाग का एक अभ्यास होती है। पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी, पुलिस विभाग के ही किसी कर्मचारी को गुपचुप तरीके से अपराधी के भेष में समाज के बीच भेज देते हैं और फिर अपनी मैदानी टीम को इसकी सूचना देते हैं। इस तरह वो परीक्षा लेते हैं कि थानों में तैनात पुलिस सूचना मिलने के बाद कितने समय में और किस तरह की कार्रवाई करती है।