भाजपा नेताओं की हत्याओं के खिलाफ प्रदेश में कहां क्या हुआ, पढ़िए | MP NEWS

भोपाल। आज का पुतला दहन प्रदेश सरकार के लिए एक चेतावनी है। अगर हमारे कार्यकर्ताओं पर इसी तरह हमले होते रहे और प्रदेश में कानून व्यवस्था की स्थिति में सुधार नहीं हुआ, तो हम सड़कों पर उतरेंगे और सरकार को चलने नहीं देंगे। प्रदेश सरकार को यह चेतावनी सोमवार को जबलपुर में भारतीय जनता पार्टी द्वारा आयोजित पुतला दहन कार्यक्रम में कार्यकर्ताओं का नेतृत्व करते हुए प्रदेश अध्यक्ष व सांसद श्री राकेश सिंह ने दी। 

जबलपुर शहर के सभी 14 मंडलों से प्रदेश सरकार के पुतलों का जुलूस निकाला गया और रानीताल चौराहे पर प्रदेश अध्यक्ष के नेतृत्व में इन पुतलों का दहन किया गया। वहीं, प्रदेश के अन्य जिलों में भी कार्यकर्ताओं ने प्रदेश सरकार और मुख्यमंत्री का पुतला फूंककर प्रदेश की बिगड़ती कानून व्यवस्था और भारतीय जनता पार्टी कार्यकर्ताओं पर लगातार हो रहे हमलों का विरोध किया।

मध्यप्रदेश में अब पश्चिम बंगाल और केरल की तरह हिंसा हो रही है

भोपाल के बोर्ड आफिस चौराहे पर जिला इकाई द्वारा मध्यप्रदेश सरकार का पुतला दहन कर प्रदेश में बढ़ रही अराजकता के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया गया। प्रदर्शन के पश्चात कार्यकर्ता पैदल मार्च करते हुए बोर्ड आफिस चौराहे से भाजपा कार्यालय पहुंचे। यहां पर पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने कार्यकर्ताओं को संबोधित किया। प्रदेश उपाध्यक्ष व विधायक श्री रामेश्वर शर्मा ने कहा कि कांग्रेस की सरकार आते ही प्रदेश में कानून व्यवस्थाएं पूरी तरह चौपट हो चुकी है। लगातार बढ़ रही हिंसक घटनाएं कांग्रेस सरकार की नाकामियों को दर्शाती है। पार्टी के प्रदेश महामंत्री श्री विष्णुदत्त शर्मा ने कहा कि पश्चिम बंगाल और केरल में जिस तरह गुंडागर्दी और दबाव के आधार पर सरकार चलाने का प्रयास हो रहा है, उसी फार्मूले पर कमलनाथ सरकार प्रदेश में काम कर रही है। यही कारण है कि लगातार प्रदेश में हिसंक घटनाएं हो रही हैं। उन्होंने कहा कि आज का प्रदर्शन कांग्रेस की सोई हुई सरकार को जगाने के लिए है। इस अवसर पर महापौर श्री आलोक शर्मा, सांसद श्री आलोक संजर, जिला अध्यक्ष श्री सुरेन्द्रनाथ सिंह, श्री विकास विरानी, श्री अशोक सैनी, श्री राजेन्द्र गुप्ता, श्री सुमित रघुवंशी, श्रीमती सविता यादव, श्री नितीन दुबे, श्री राधे महाराज, श्री प्रमोद राजपूत सहित सैकड़ों की संख्या में कार्यकर्ताओं ने विरोध प्रदर्शन में भाग लिया।

प्रदेश में कानून व्यवस्था ठप्प, जनता में भय का वातावरण: नेता प्रतिपक्ष

सागर में विरोध प्रदर्शन को संबोधित करते हुए नेता प्रतिपक्ष श्री गोपाल भार्गव ने कहा कि पिछले 15 वर्षों से शांति का टापू कहे जाने वाले मध्यप्रदेश में सत्ता परिवर्तन के बाद कानून व्यवस्था ठप हो गयी है और इसी का नतीजा है कि आम आदमी में भय का वातावरण बनता जा रहा है। उन्होंने कहा कि लगातार प्रदेश में हो रही हिंसक घटनाओं से पूरा प्रदेश सहम गया है। भारतीय जनता पार्टी का प्रत्येक कार्यकर्ता प्रदेश की लाचार सरकार को उखाड फेंकने के लिए दृढ संकल्पित है। पूर्व मंत्री श्री भूपेन्द्र सिंह ने कहा कि कांग्रेस की सरकार आते ही अपराधियों के हौसले बढ़ गए है और आए दिन वे बडी घटनाओं को अंजाम दे रहे है। सरकार कानून व्यवस्था के मामले में आंख, कान बंदकर हाथ पर हाथ रखे बैठी है। उन्होंने कहा कि ऐसी निकम्मी सरकार के खिलाफ भारतीय जनता पार्टी कड़ा विरोध करेगी। विरोध प्रदर्शन में जिला अध्यक्ष श्री प्रभुदयाल पटेल, विधायक श्री प्रदीप लारिया, श्री शैलेन्द्र जैन, श्री अभय दर्रे, श्री राजबहादुर सिंह, श्रीमती पारूल साहू, श्री लक्ष्मण सिंह, श्री अनुराग प्यासी, श्री राजेश सैनी सहित बडी संख्या में कार्यकर्ता उपस्थित थे।

इंदौर में तीन पुतले दहन किए गए
इंदौर में राजवाड़ा चौक पर प्रदेश सरकार के तीन पुतले दहन कर कार्यकर्ताओं ने विरोध प्रदर्शन किया। पार्टी के वरिष्ठ नेता श्री विक्रम वर्मा ने विरोध प्रदर्शन को संबोधित करते हुए कहा कि प्रदेश के गृहमंत्री बाला बच्चन कांग्रेस के कार्यकर्ताओं को कहते हैं कि किसे निपटाना है, सुलझाना है मुझे आकर कान में बता देना यह बात अपने आप में चिंताजनक है। जिस प्रदेश का गृहमंत्री इस प्रकार की मानसिकता से ग्रस्त हो उस प्रदेश में कानून-व्यवस्थाओं की स्थिति क्या होगी। प्रदर्शन को पार्टी जिला अध्यक्ष श्री गोपीकृष्ण नेमा, प्रदेश उपाध्यक्ष श्री सुदर्शन गुप्ता, प्रदेश प्रवक्ता श्री उमेश शर्मा ने भी संबोधित किया। विधायक श्री रमेश मेंदोला, श्री आकाश विजयवर्गीय, श्री शंकर लालवानी, श्रीमती अंजू माखीजा, श्री जे.पी. मूलचंदानी, श्री ललित पोरवाल, श्री कमल वाघेला, श्री मुकेश राजावत, श्री आलोक दुबे, श्री गणेश गोयल, श्री सोनू राठौर, श्री डी एन तिवारी भी उपस्थित थे।

ग्वालियर में सभी नौ मंडलों में अलग अलग स्थानों पर पार्टी कार्यकर्ताओं ने मध्यप्रदेश सरकार का पुतला दहन कर अपना विरोध दर्ज किया। इस अवसर पर राजेश सोलंकी, राकेश जादौन, जयसिंह कुशवाह, वेदप्रकाश शर्मा, जयप्रकाश राजौरिया, राजेश दुबे, डॉ अरविंद राय, कमल माखीजानी, शरद गौतम, महेश उमरैया, राकेश गुप्ता, अशोक जादौन, रामेश्वर भदौरिया, कनवर मंगलानी, श्रीमती कमला सोनी, सुनीता शिवहरे,

उज्जैन नगर व ग्रामीण द्वारा मध्यप्रदेश में पिछले सप्ताह भर में प्रदेश में फैली अराजकता, हत्याओं के विरोध में टॉवर चौक पर मध्यप्रदेश सरकार के 13 पुतले दहन किये गये। प्रदर्शन को संबोधित करते हुए युवा मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष श्री अभिलाष पांडेय ने कहा कि मध्यप्रदेश पिछले 15 वर्षों से शांति का टापू था, लेकिन कांग्रेस सरकार आते ही हिंसक घटनाएं होने लगी है। कांग्रेस सरकार में कानून व्यवस्था पूरी तरह चौपट हो चुकी है। अपराधियों के हौसले बुलंद हो चुके हैं। प्रदेश में अराजकता का माहौल है। प्रदर्शन को भाजपा नगर अध्यक्ष श्री विवेक जोशी व जिलाध्यक्ष श्री श्याम बंसल ने भी संबोधित किया। इस अवसर पर वरिष्ठ नेता श्री बाबूलाल जैन, पूर्व मंत्री व विधायक श्री पारस जैन, विधायक श्री बहादुरसिंह चौहान, श्री इकबालसिंह गांधी, श्री के पी झाला सहित कार्यकर्ता उपस्थित थे।

रीवा के शिल्पी प्लाजा चौराहे पर प्रदेश सरकार का पुतला दहन कर कार्यकर्ताओं ने विरोध प्रदर्शन किया। इस अवसर पर सांसद श्री जनार्दन मिश्रा, विधायक श्री नागेन्द्र सिंह, श्री दिव्यराज सिंह, श्री पंचूलाल प्रजापति, श्री केपी त्रिपाठी, श्री श्यामलाल द्विवेदी, जिला अध्यक्ष श्री विद्याप्रकाश श्रीवास्तव, श्री राम सिंह, श्री रमेश गर्ग, श्री महाबलि गौतम, श्री प्रबोध व्यास, श्री सतीश सोनी, श्रीमती सरोज रावत, श्रीमती मनीषा पाठक सहित बडी संख्या में पदाधिकारी मौजूद थे।

होशंगाबाद में सतरस्ते पर कांग्रेस सरकार का पुतला दहन कर भाजपा कार्यकर्ताओं ने प्रदेश में फैल रही अराजकता का विरोध किया। प्रदर्शन में सांसद श्री रावउदय प्रताप सिंह, विधायक श्री प्रेमसिंह वर्मा, श्री विजयपाल सिंह, वरिष्ठ नेता श्री शिव चौबे सहित बडी संख्या में पार्टी कार्यकर्ता मौजूद थे।

शहडोल में गांधी चौक पर आयोजित पुतला दहन किया गया। इस अवसर पर जिलाध्यक्ष श्री इंद्रजीत सिंह छावडा के नेतृत्व में सैकड़ों कार्यकर्ताओं द्वारा प्रदेश सरकार के विरुद्ध जमकर नारेबाजी की। इस अवसर पर वरिष्ठ नेता श्री नरेन्द्र दुबे, नपाध्यक्ष श्रीमती उर्मिला कटारे ने प्रदेश सरकार की लचर कानून प्रणाली की निंदा की। इस अवसर पर बडी संख्या में कार्यकर्ता उपस्थित थे।