Advertisement

साइबर क्रिमिनल्स ने सोनिया गांधी को बार गर्ल बताया, रिजल्ट गूगल पर दिखा | NATIONAL NEWS



डेस्क। साइबर क्रिमिनल्स लोगों को बदनाम करने के लिए गूगल बाम्बिंग करते हैं। कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी भी इसका शिकार हुईं। अपराधियों ने सोनिया गांधी को वेबपेजों में 'Bar Girl In India' के साथ हाइपर कर दिया। नतीजा यह हुआ कि जब लोगों ने गूगल सर्च पर 'Bar Girl In India' सर्च किया तो सोनिया गांधी का विकीपीडिया वाला पेज सामने आ गया। कुछ समय पहले तक गूगल पर 'इडियट' शब्द सर्च करने पर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की फोटो सामने आती थी, उसके बाद 'भिखारी' सर्च करने पर पाक पीएम इमरान खान की फोटो नजर आने लगी। मामला सामने आने पर गूगल ने इसे हटा दिया है। 

BING पर भी ऐसे ही रिजल्ट थे
सोशल मीडिया में कई यूजर्स ने दावा किया कि, गूगल पर 'Bar Girl In India' सर्च करने पर सोनिया गांधी का नाम सबसे पहले रिजल्ट के तौर पर आ रहा है। ऐसा सिर्फ गूगल पर ही नहीं बल्कि एक और सर्च इंजन बिंग पर भी देखा गया। कुछ दिनों पहले जब गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई से इस बारे में पूछा गया था तो उन्होंने इसके पीछे गूगल की-वर्ड और एल्गोरिदम को वजह बताया था। 

गूगल पर ऐसा क्यों दिखाई दे रहा है?
एथिकल हैकर और सिक्योरिटी रिसर्चर कनिष्क सजनानी ने बताया कि गूगल पर रोजाना लाखों पेज की इंडेक्सिंग की जाती है। आप जब भी गूगल पर कोई की-वर्ड सर्च करते हैं तो गूगल अपने पेज रैंक एल्गोरिदम के जरिए, उस की-वर्ड से जुड़े रिजल्ट दिखाता है। अब अगर कोई संगठन या लोग ऐसी साजिश करते हैं, जिससे किसी एक की-वर्ड को सर्च करने पर कोई खास फोटो या वेबसाइट सबसे ऊपर दिखे तो इसे गूगल बॉम्बिंग या गूगल वॉशिंग कहा जाता है।

गूगल बॉम्बिंग कैसे होती है?
कनिष्क : जानिए कि कौन है World's Best Ethical Hacker? आप ऊपर जो देख रहे हैं, उसे 'हाइपरलिंकिंग' कहा जाता है। इस लिंक पर क्लिक करने से आप मेरी पर्सनल वेबसाइट पर जा सकते हैं। 'Best Ethical Hacker' को 'Anchor Text'  कहा जाता है। इस तरह से अगर कई सारी न्यूज वेबसाइट इसी की-वर्ड के साथ मेरी पर्सनल वेबसाइट के यूआरएल को हाइपरलिंक करती हैं, तो गूगल पर 'World's Best Ethical Hacker' सर्च करने पर मेरी वेबसाइट सबसे ऊपर दिखाई देगी।

तो क्या इंटरनेट के पेजों पर सोनिया गांधी को बार गर्ल के रूप में हाइपर किया गया है
कनिष्क कहते हैं कि हो सकता है कि कुछ लोगों ने सोनिया गांधी के विकिपिडिया पेज को 'Bar Girl in India' लिखकर अपनी-अपनी वेबसाइट पर लिंक किया होगा। डोनाल्ड ट्रम्प के मामले में, उनकी फोटो के साथ 'idiot' लिखकर रेडिट पर शेयर किया गया था। ज्यादा लाइक्स आने की वजह से, गूगल एल्गोरिदम ने वही सर्च में दिखाना शुरू कर दिया। 

क्या गूगल खुद सर्च रिजल्ट से छेड़छाड़ कर सकता है?
कनिष्क : नहीं, गूगल के रिजल्ट पूरी तरह से पेज और वेबसाइट के कंटेंट पर निर्भर करते हैं। गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई ने भी दावा किया था कि गूगल सर्च रिजल्ट से छेड़छाड़ करना कंपनी के किसी भी कर्मचारी के लिए संभव नहीं है। हालांकि, गूगल बॉम्बिंग के जरिए सर्च रिजल्ट को थोड़ा प्रभावित किया जा सकता है।

बुधवार रात को सबसे ज्यादा सर्च किया गया 'बार गर्ल इन इंडिया'
गूगल ट्रेंड्स के मुताबिक, बुधवार रात को गूगल पर 'बार गर्ल इन इंडिया' को सबसे ज्यादा सर्च किया गया।19 दिसंबर को उत्तराखंड, राजस्थान, छत्तीसगढ़, झारखंड और उत्तर प्रदेश जैसे राज्यों में इसे सबसे ज्यादा सर्च किया गया। हालांकि, 20 दिसंबर को इसे सर्च करने वालों की संख्या कम हो गई।

गुरुवार रात को भी गूगल पर बार गर्ल इन इंडिया को सर्च किया गया, लेकिन इसे सर्च करने वालों की संख्या बुधवार रात के मुकाबले काफी कम थी। लेकिन इससे पता चला कि रात के समय लोग गूगल पर बार गर्ल इन इंडिया पर ज्यादा सर्च कर रहे थे।

गूगल पर न सिर्फ 'बार गर्ल इन इंडिया' सर्च किया बल्कि 'इटैलियन बार डांसर इन इंडिया', 'इटैलियन बार डांसर', 'बार गर्ल', 'इटली बार गर्ल इन इंडिया' जैसे की-वर्ड्स को काफी सर्च किया गया।