LOKSABHA CHUNAV HINDI NEWS यहां सर्च करें





अब हमें करनी है कांग्रेस के वादों की चौकीदारी: जयभान सिंह पवैया | MP NEWS

14 December 2018

ग्वालियर। पूर्व मंत्री जयभान सिंह पवैया ने अपनी हार के लिए अपनी ही पार्टी के कुछ नेताओं को दोषी ठहराया है। उन्होंने कहा कि पार्टी के ही कुछ नेता दिन में हमारे साथ थे तो रात में कांग्रेस प्रत्याशी के पक्ष में काम करते रहे। गुरुवार को अपने निवास पर आयोजित क्षेत्र के पार्टी कार्यकर्ताओं की बैठक में पहले तो मौजूद लोगों का आभार जताया, लेकिन बाद में उनकी जुबां पर हार को लेकर अपनी व्यथा आ गई। श्री पवैया ने कहा कि मुझे शर्म आती है कि मैं ऐसी भाजपा देख रहा हूं। ऐसे लोगों का पार्टी में पालन नहीं होना चाहिए। एक निर्दलीय पार्षद को राहुल गांधी के समक्ष कांग्रेस में शामिल कराने के लिए किसने प्रयास किया? इसकी पार्टी को जांच करनी चाहिए।  

एट्रोसिटी एक्ट के दुष्प्रचार के कारण मतदाता भ्रमित हुए और हम चुनाव हार गए। विरोधियों द्वारा हर वार्ड में गड्ढा खोदा गया।  पूरे 5 साल संभलकर चला, ताकि आपकी-मेरी साख पर बट्टा न लग सके। ग्वालियर में कोई मंत्री अपने क्षेत्र में इतना नहीं घूमा, जितना मैं घूमा और 1100 करोड़ के विकास कार्य भी कराए। लेकिन 2008 के चुनाव में जो दुखद हुआ था, वही सब दोहराया गया।

शहर के सरकारी निकाय के अध्यक्ष पद पर बैठे  एक नेता ने अपने अनुयायियों को इस निर्देश के साथ मेरे विस क्षेत्र में लगा दिया था कि भाजपा को हराना है। उसके लोग जो प्रदेश में, प्रकोष्ठों में पदाधिकारी या पार्षद हैं, उन्होंने क्षेत्र में शाम को मेरी सभा कराई और रात में कांग्रेस प्रत्याशी को लेकर घर-घर घूमे, उसे चंदे के साथ वोट भी दिलवाए। कांग्रेस के एक क्षत्रप द्वारा मेरी राजनीतिक हत्या करने के लिए क्षेत्र में अकूत धन बहाया गया।  ज्योतिरादित्य सिंधिया संभाग में आग उगल रहे थे, उनका सबसे बड़ा दुश्मन मैं हूं। हमारे नेतृत्व को आक्रामक मुद्रा में होना चाहिए था, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। 

कार्यकर्ताओं की बैठक में उन्होंने कहा- आप सभी ने भरपूर मेहनत की और उसी का परिणाम है कि भाजपा को 71 हजार से ज्यादा वोट मिले। उन्होंने कहा कि ग्वालियर विस में कांग्रेस ने 3 वादे लोगों से किए हैं कि सरकार बनने के साथ ही महिलाओं को 2500 रुपए की निराश्रित पेंशन, जेसी मिल मजदूरों को 7000 पेंशन और क्वार्टरों के पट्टे, बेरोजगार युवाओं को 10 हजार रुपए का मासिक भत्ता मिलेगा। अब हमें जब चौकीदारी का काम मिल ही गया है तो हमें सरकार की शपथ होने के बाद घर-घर जाकर देखना है कि ये पूरे हुए या नहीं। हमें सीवर के ढक्कनों पर भी इन्होंने घेरा है, हम विकास और वादों के लिए इन्हें चैन से सोने नहीं देंगे।



-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

;
Loading...

Suggested News

Popular News This Week

 
-->