गुरु का उदय: पढ़िए आपकी राशि पर प्रभाव और उपाय | GURU UDAY @ JYOTISH

07 December 2018

हिंदू धर्म के अनुसार गुरु (बृहस्पति ग्रह) का उदय होने के बाद ही शुभकार्य शुरू किए जाते हैं। यदि गुरू अस्त हों तो शुभकार्य वर्जित बताए गए हैं। 7 दिसंबर 2018 को प्रातः 10:05 गुरु का उदय हो गया है। गुरु के उदय होने का सभी 12 राशियों पर क्या असर होगा, आइए पढ़ते हैं: 

मेष : भाग्य अधिपति गुरु का उदित होना काफी लाभकारी है। थोड़ा सा इस बात का ध्यान देना होगा की अष्टमस्थ बुध के कारण दिसंबर माह थोड़ा संबंधों में अपेक्षाओं का कष्ट या किसी के द्वारा विरोध का सामना करना पड़ सकता है। परंतु भाग्य अधिपति गुरु का प्रबल होना हर समस्याओं के समाधान के लिए पर्याप्त कहा जाएगा साथ ही साथ लाभ के नए रास्ते भी बनाएगा। जीवन साथी के साथ थोड़ा सामंजस्य बिठाने की जरूरत है।
उपाय: आपके इष्ट देव भगवान विष्णु हैं, उनकी आराधना करना आपके लिए काफी लाभकारी होगा और तभी आप उदित गुरु का पूर्ण लाभ ले पाएंगे। अच्छा होगा कि विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ करें।

वृषभ : गुरु का उदित होना थोड़ा दिसंबर माह में जीवन साथी के स्वास्थ्य को हानि पहुंचा सकता है तथा किसी भावनात्मक प्रणय संबंध से कष्ट दिला सकता है। अपनी भावनाओं को नियंत्रित करें और बहुत ज्यादा किसी भी संबंध को लेकर संजीदा ना हों। घर में मांगलिक, धार्मिक कार्यों के लिए गुरु काफी लाभकारी है। साथ ही नए क्षेत्रों में विकास और रोजगार में लाभ दिलाने का सूचक है।
उपाय : आपकी राशि के अनुसार गुरु अष्टमेष है। इसकी प्रबलता थोड़ी हानि पहुंचा सकता है। अत: गुरुवार को बृहस्पति का दान करें और केले के वृक्ष पर जल चढ़ावें।

मिथुन : सप्तमेश गुरु का षष्ठमस्त होकर उदित होना दांपत्य जीवन के लिए थोड़ा हानिकारक है। जीवन साथी के स्वास्थ्य के लिए दिक्कत हो सकता है। तथा जीवनसाथी से वैचारिक मतभेद करा सकता है। इस दौरान थोड़ा संयम रखने की जरूरत है और विवेक से काम लेने की जरूरत है। हालांकि आप काफी व्यवहार कुशल और बात करने की कला में माहिर हैं। आप हर स्थिति से निपटने में सक्षम भी हैं।
उपाय: ॐ भगवते वासुदेवाय नमः मंत्र का एक माला नित्य जाप करें और भगवान विष्णु को फल का भोग लगाकर लोगों में वितरण करें।

कर्क : आपके लिए गुरु का उदित होना काफी लाभकारी है। आत्मबल में वृद्धि कराएगा। पुराने भावनात्मक कष्टों से निकलने में मदद करेगा। साथ ही साथ अध्यात्म की ओर मन केंद्रित करेगा। धार्मिक कार्यों में भी रुचि बढ़ेगी। नई ऊर्जा के साथ अपने कार्य-पेशे में अच्छा लाभ लेने में भी सक्षम होंगे। बृहस्पति आपको किसी सम्मानित प्रतिष्ठित व्यक्ति का भी सहयोग दिलाने में सहायक होगा।
उपाय : नित्य श्री विष्णु की आराधना के बाद हल्दी और चंदन का तिलक करें और तभी घर से बाहर निकलें, काफी लाभकारी होगा।

सिंह: पुरानी समस्याओं का अंत होगा। जीवन को गति देने के लिए उत्साह बढ़ेगा। यदि आप किसी अचल संपत्ति के क्रय हेतु प्रयत्नशील है, तो उसमें सफलता मिलेगी। माता एवं बहन के सहयोग से कोई कार्य संपन्न होगा। जीवन साथी के लिए भी काफी अच्छा समय कहा जाएगा। सुख-सुविधाओं में बढ़ोत्तरी के योग बन रहे हैं। मन को थोड़ा आध्यात्मिक केंद्रित करने की चेष्टा करें।
उपाय : बृहस्पति का पूरा लाभ लेने के लिए प्रत्येक पूर्णिमा को सत्यनारायण भगवान की कथा का आयोजन करें या खुद कथा करने की चेष्टा करें।

कन्या : चतुर्थ एवं सप्तमेश गुरु का तृतीय स्थान मे होना तथा उदित होकर पर उसका मजबूत होना, संबंधों में कटुता का सूचक है। जीवनसाथी के स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ सकता है तथा माता एवं बहन से वैचारिक मतभेद हो सकते हैं। विपरीत लिंगी संबंधों में आकर्षण बिना वजह की तनाव में वृद्धि कर सकता है। भावनाओं पर संयम रखें। अनावश्यक व्यय पर नियंत्रण करें।
उपाय: दाल, गेहूं, हल्दी, वस्त्र एवं वस्त्र का प्रत्येक बृहस्पतिवार को किसी ब्राह्मण को दान करने का प्रयास करें और दक्षिणा दें।

तुला: नकारात्मक विचारों को मन पर हावी न होने दें। तृतीय एवं षष्ठेश गुरु की प्रबलता थोड़ा सा वातावरण में तनाव का सूचक है। कुछ भावनात्मक एवं पारिवारिक मुद्दे परेशान कर सकते हैं। अनावश्यक व्यय से भी मन परेशान होगा। जीवनसाथी से कुछ मुद्दों पर वैचारिक मतभेद की आशंका जरूर है, परंतु शनि आपके लिए काफी लाभकारी है और हर स्थिति से संभालने में सहायक होगा। आवेश में न आएं और हर बात सबके सामने न बयां करें।
उपाय: प्रत्येक बृहस्पतिवार को बरगद के वृक्ष के नीचे 5 दीपक जलाएं। नित्य भगवान विष्णु की आराधना करें और केले का भोग लगाएं। प्रसाद स्वरूप स्वयं खाएं और औरों को भी खिलाएं।

वृश्चिक: राशि में उदित गुरु उत्साह में वृद्धि करेगा। साथ ही साथ स्वास्थ्य में भी लाभ देगा। मन को अध्यात्मिक और धार्मिक विचारों से भी प्रभावित करेगा। घर में मांगलिक कार्यों को संपन्न कराने में भी सहयोग करेगा। विद्यार्थियों के लिए काफी लाभकारी साबित होगा। दिसंबर माह में थोड़ा सा जीवनसाथी से वैचारिक मतभेद की आशंका है अतः छोटी-छोटी बातों को बहस का मुद्दा ना बनने दें।
उपाय: आपके लिए शिव आराधना तो काफी शुभ है लेकिन यदि साथ में विष्णु भगवान का कोई श्लोक भी पढ़ लें तो अति उत्तम होगा। साथ में दूध में हल्दी मिलाकर के पीने से आपके अंदर उत्साह का संचार होगा।

धनु: राशि का स्वामी गुरु का उदित होना आपके लिए काफी लाभकारी होगा। विशेषकर स्वास्थ्य लाभ एवं रोजगार के लिए काफी सहायक साबित होगा। अध्यापन, मीडिया तथा लेखन से जुड़े व्यक्तियों के लिए काफी लाभकारी समय कहा जाएगा। द्वादशस्त गुरु का होना कुछ चिंताओं का भी सूचक होता है। कुछ महत्वपूर्ण जिम्मेदारियों को लेकर के आप चिंतित भी होंगे, परंतु आप उसे पूर्ण भी करेंगे।
उपाय : नित्य हल्दी, कुमकुम एवं चंदन को मिश्रित कर तिलक लगावें और तत्पश्चात बाहर निकलें। साथ में नित्य गायत्री मंत्र का जाप करें। आपके लिए काफी लाभकारी होगा।

मकर: एकादश भाव में उदित गुरु थोड़ा सा कार्यों में अवरोधक हो सकता है। साथ ही आय में रूकावट बन सकता है, परंतु घर परिवार के सहयोग से स्थिति समान्य होगी। परिवार में किसी बुजुर्ग या माता के स्वास्थ्य को लेकर मन परेशान होगा। भविष्य को लेकर कुछ चिंताएं आपके मन में घर करेंगी। किसी प्रणय संबंध को लेकर के मन दुविधा ग्रस्त होगा। भावनाओं पर नियंत्रण रखने की चेष्टा करें।
उपाय : बृहस्पतिवार को पीली वस्तुओं का दान करें। और प्रत्येक पूर्णिमा को सत्यनारायण भगवान की कथा सुनने की चेष्टा करें।

कुंभ:  जिम्मेदारियों एवं कार्य क्षेत्र में कठिनाइयां के मध्य आप का संघर्ष काबिले तारीफ है। दशम घर में उदित गुरु कुछ नए रास्ते बनाएगा, परंतु चापलूस लोगों से बच के रहना होगा। कुछ लोग आपको धोखा दे सकते हैं। कुछ पारिवारिक कठिनाइयां भी मन को दुखद करेंगे। जीवन साथी के स्वास्थ्य के प्रति थोड़ा ध्यान रखने की आवश्यकता है। कुछ अनावश्यक खर्चों से भी मन परेशान होगा।
उपाय: नित्य विष्णु आराधना करें। साथ में पांच फलों का भोग लगाएं एवं घर में नियमित धार्मिक अनुष्ठानों का आयोजन करें। विशेषकर प्रत्येक पूर्णिमा को सत्यनारायण भगवान के कथा-पूजन का आयोजन करें।

मीन: भाग्य स्थान में बृहस्पति का उदित होना काफी लाभकारी दिख रहा है। कार्याे में व्यस्त करेगा। आय के  मार्ग खुलेंगे। साथ ही साथ मन को भी धार्मिक और आध्यात्मिक विचारों से प्रभावित करेगा। आपके उत्साह में वृद्धि करेगा। थोड़ा सा जीवन साथी के स्वास्थ्य के प्रति ध्यान देने की आवश्यकता है। वैसे जीवनसाथी का पूर्ण सहयोग प्राप्त होगा। कुछ संतुलित ढंग से कार्य करने की आवश्यकता है और आवेश में कोई निर्णय ना लें।
उपाय : गायत्री मंत्र का जाप करें। एक रुद्राक्ष की माला धारण करें। हल्दी, कुमकुम व चंदन का तिलक लगाकर घर से बाहर निकलें।

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

Loading...

Popular News This Week

 
-->