सर्दियों में छुट्टियां बिताने के लिए TOURIST DESTINATION | NATIONAL NEWS

NEW DELHI: दिसंबर के महीने में भारत के बहुत सारे हिस्सों में ठंड अपने चरम सीमा पर होती है। इसलिए ठंड के इस मौसम का आनंद उठाना है तो साउथ इंडिया के इन जगहों पर जरूर जाए। दिसंबर में दक्षिण भारत की यात्रा आपके मन को बहुत ही आराम पहुंचाएगी। अपने खूबसूरत पर्यटन स्थलों के कारण भारत की दुनियाभर में एक अलग पहचान है। सर्दी ने आपके दरवाजे पर दस्तक दे दी है। दिसंबर माह में आप क्रिसमस की छुट्टियों का भरपूर मजा ले सकते हैं। बर्फबारी और वाइड लाइफ के शौकीन इस मौसम का भरपूर मजा दिसंबर में उठा सकतें हैं। एक खुशनुमा मौसम किसी भी जगह पर घूमने के लिए बहुत ही अच्छा होता है। पेश है दिसंबर माह में छुट्टियां बिताने के लिए शीर्ष भारतीय पर्यटक स्थल:-  

गोवा/GOA 


समुद्र तट, आकर्षक चर्च, मंदिर, पुराने किले और प्रकृति प्रेमियों को गोवा बहुत भाता है। सुंदर और साफ समुद्र तट, लहराते पेड़, कर्निवाल, मांडवी नदी के तट पर क्रूज की सवारी का आनंद उठा सकते हैं। दिसंबर माह में घूमने के लिए सबसे अच्छी जगह गोवा है। कई पर्यटक तो लजीज सी-फूड और सबसे लोकप्रिय पेय फेनी का मजा लेने के लिए खासतौर पर गोवा आते हैं। 

मनाली/MANALI 


कुल्लू घाटी के प्रमुख पर्यटक स्थल मनाली में आकर हर कोई अपने आपको स्वर्ग में पाता है। पहाड़ों और देवदार के पेड़ प्राकृतिक सौंदर्य पर्यटकों को काफी लुभाती है। मनाली को रंगबिरंगे फूलों की घाटी भी कहा जाता है। बर्फ गिरने के कारण दिसंबर के महीने में यहां हरियाली दूर-दूर तक देखने को नहीं मिलती। पहाड़ों, पेड़ों और घरों पर बर्फ की सफेद चादर फैली होती है। आप एडवेंचर के शौकीन हैं तो ट्रैकिंग, माउंटेनियरिंग, स्कीइंग, पैरा ग्लाइडिंग आदि का मजा ले सकते हैं। मनाली में बर्फबारी की खूबसूरत नजारा देखने के लिए सैलानियों की भीड़ दिसंबर में बढ़ने लगती है। 

ऊटी / OOTY 


ऊटी को उदगमंडलम के रूप में जाना जाता है और इसे लोकप्रिय हिल स्टेशनों की रानी भी कहा जाता है। यह नीलगिरि जिले की राजधानी है और भारत में सबसे खूबसूरत पहाड़ी में से एक है। नीलगिरि की व्याख्या ब्लू पर्वत के रूप में की गई है। यह सौंदर्य स्थलों के साथ एक विदेशी स्थान भी है। समुद्र के स्तर से लगभग 2240m की ऊंचाई पर स्थित है। ऊटी स्वर्गीय सुंदर स्थलों में से एक है।

दिल्ली / DELHI 

दिल्ली भारत की राजधानी ही नहीं पर्यटन का भी प्रमुख केंद्र भी है। दिल्ली सर्दियों के मौसम में दुनियाभर के पर्यटकों की खास सैरगाह बन जाती है। हर साल लाखों की संख्या में पर्यटक दिल्ली की संस्कृति, कला और प्राकृतिक सौंदर्य को देखने के लिए आते हैं। दिल्ली अपने खूबसूरत उद्यानों और ऐतिहासिक स्मारकों के लिए जाना जाता है। दिल्ली पुराने और नए, प्राचीन और आधुनिक संस्कृतियों औश्र धर्मो का उत्कृष्ट मिश्रण है। इंडिया गेट, लाल किला, राष्ट्रपति भवन, संसद भवन, अक्षरधाम मंदिर, लोटस टेपल, छतरपुर मंदिर, बिरला मंदिर, दिल्ली हाट, गार्डन ऑफ फाइव सेंसिज, मुगल गार्डन, लोदी गार्डन, हुमायूं का मकबरा, जामा मस्जिद, जंतर मंतर, लोधी का मकबरा, संसद भवन, पुराना किला, कुतुब मीनार, सफदरजंगा का मकबरा, लाल किला, राजघाट, भारतीय रेल संग्रहालय, चिड़ियाघर, हस्त शिल्पकला संग्रहालय, चांदनी चौक, कनॉट प्लेस, पालिका बाजार आदि कई प्रमुख पयर्टन स्थल है जिसको देखने देश-विदेश से लाखों लोग आते हैं। इसके अलावा कई प्रमुख मॉल और मेट्रो का सफर भी पर्यटकों की यात्रा को आनंदमयी बना सकता है। 

शिलांग/SHILLONG 


शिलांग भारत के उत्तर-पूर्वी राच्य मेघालय की राजधानी है। शिलांग सुंदर और मनोहर पहाड़ी स्टेशन है। झ्रना और झीलों की प्राकृतिक सुंदरता से शहर की खूबसूरती निखर जाती है। इसे भारत के पूरब का स्कॉटलैंड भी कहा जाता है। पहाड़ियों पर बसा छोटा और खूबसूरत शहर पिकनिक स्पॉट के लिए प्रसिद्ध है। शिलांग में कई सुंदर स्थल है जिनमें वार्डस लेक, उमियाम झील, लेडी हैदरी उद्यान, पोलो ग्राउंड, मिनी चिड़ियाघर, हाथी झरना और शिलांग की पर्वत चोटी प्रमुख है। 

काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान, असम /ASSAM 


काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान मध्य असम में 430 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्रफल में फैला है। यह उद्यान न केवल भारत में वरन पूरे विश्व में एक सींग वाले गैंडे के लिए प्रसिद्ध है। काजीरंगा को वर्ष 1905 में राष्ट्रीय उद्यान घोषित किया गया था। सर्दियों में यहां साइबेरिया से कई मेहमान पक्षी भी आते हैं। काजीरंगा नेशनल पार्क को पर्यटकों के लिए 1 नवंबर से खोल दिया जाता है। यूनेस्को द्वारा घोषित विश्व धरोहरों में से एक काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान साल 2005 में 100 वर्ष का हो गया है। एक सींग वाला गैंडा, हाथी, भारतीय भैंसा, हिरण, सांभर, भालू, बाघ, चीते, सुअर, बिल्ली, जंगली बिल्ली, हॉग बैजर, लंगूर, हुलॉक गिब्बन, भेड़िया, अजगर और अनेक प्रकार की चिड़ियां आदि बड़ी संख्या में पाए जाते हैं।

आगरा / AGRA

यमुना नदी के तट पर स्थित आगरा शहर ऐतिहासिक स्मारकों के लिए प्रसिद्ध है। सन् 1506 में सिकंदर लोधी ने मुगलों का राच्य स्थापित किया था। मुगलों के शासन के दौरान खूबसूरत स्मारक स्थापित किए गए थे जिन्हें देखने आज भी पर्यटक आगरा आते हैं। विश्व के सात अजूबों में ताजमहल एक अनोखा स्थान रखता है। यह खूबसूरत महल प्यार का प्रतीक माना जाता है। ताजमहल को दिल्ली के सम्राट शाहजहां ने महारानी मुमताज महल के लिए निर्मित किया था। हर शुक्रवार को ताजमहल को बंद रखा जाता है। इसके अलावा फतेहपुर सीकरी, बुलंद दरवाजा, एतमादुद्दौला का मकबरा, जामा मस्जिद (आगरा), सिकंदरा मरियम मकबरा, मेहताब बाग आदि दर्शनीय स्थल है। 

जोधपुर / JODHPUR

5वीं शदी में निर्मित किला और महलें यहां आनेवाले पर्यटकों के लिए आकर्षण का प्रमुख केंद्र रहा है। रेगिस्तान के किनारे बसा जोधपुर पूरे विश्व में प्रसिद्ध है। कानरा झील, उम्मेद भवन को देखने पर्यटक खास तौर पर आते हैं। बल्यू सिटी के नाम से प्रसिद्ध जोधपुर शहर की पहचान यहां के महलों और पुराने घरों में लगे छितर के पत्थरों से होती है। 15वीं शताब्दी का विशालकाय मेहरानगढ़ किला, पथरीली चट्टान पहाड़ी पर मैदान से 125 मीटर ऊंचाई पर विधमान है। आठ द्वारों व अनगिनत बुजों से युक्त यह शहर दस किलोमीटर लंबी ऊंची दीवार से घिरा है। जोधपुर के दर्शनीय स्थल मेहरानगढ़ का किला, जसवंत थड़ा उम्मैद महल, गिरडीकोट और सरदार मार्केट, राजकीय संग्राहलय, अरना झरना मरु संग्रहालय आदि है। 

जैसलमेर /JAISALMER

बारहवीं सदीं में सुनहरे पत्थरों से बना जैसलमेर किला राजस्थान में दूसरा सबसे पुराना किला है और बड़ी संख्या में देशी विदेशी पर्यटक इसे देखने आते हैं। जैसलमेर के प्रमुख ऐतिहासिक स्मारकों में सर्वप्रमुख यहां का किला है। जैसलमेर किला का निर्माण 1156 ई. में निर्मित हुआ था। जैसलमेर के किला स्थापत्य का सुंदर नमूना है। रावल जैसल द्वारा निर्मित यह किला जो 80 मीटर ऊंची त्रिकूट पहाड़ी पर स्थित है, इसमें महलों की बाहरी दीवारें, घर और मंदिर कोमल पीले सेंट स्टोन से बने हैं। जैसलमेर किले को जैसलमेर की शान के रूप में माना जाता है और यह शहर के केंद्र में स्थित है। यह सोनार किला या स्वर्ण किले के रूप में भी जाना जाता है क्योंकि यह पीले बलुआ पत्थर का किला सूर्यास्त के समय सोने की तरह चमकता है।

केरल / KERELA


केरल पर्यटकों में बेहद लोकप्रिय है। केरल को गॉड्स ऑन कंट्री नाम (ईश्वर का अपना घर) से पुकारा जाता है। खूशबूदार मसालों के लिए मशहूर केरल अपने खूबसूरत सागर व हरियाली के लिए भी प्रसिद्ध है। कई प्रकार के दर्शनीय स्थल हैं। इन स्थानों पर देश-विदेश से असंख्य पर्यटक भ्रमणार्थ आते हैं । मून्नार, नेल्लियांपति, पोन्मुटि आदि पर्वतीय क्षेत्र, कोवलम, वर्कला, चेरायि आदि समुद्र तट, पेरियार, इरविकुल्लम आदि वन्य पशु केंद्र, कोल्लम, अलप्पुषा, कोट्टयम, एरणाकुलम आदि झील प्रधान क्षेत्र (बैक वाटर रिजन) आदि पर्यटकों के लिए विशेष आकर्षण केंद्र हैं ।