LOKSABHA CHUNAV HINDI NEWS यहां सर्च करें




SCHOOLS में पढ़ाई तो ब्लैकबोर्ड पर ही, MOBILE APP बस नकल के लिए | EDUCATION NEWS

27 November 2018

नई दिल्ली। भारत कभी विश्वगुरू हुआ करता था। भारत के टीचर्स आज भी पूरी दुनिया को पढ़ा रहे हैं। एक रिपोर्ट के मुताबिक, दुनियाभर के देशों में औसतन 35% ब्लैकबोर्ड रह गए हैं, अब वहां मोबाइल एप से स्मार्टफोन पर पढ़ाई हो रही है लेकिन भारत के स्कूलों में अभी भी 67% पढ़ाई ब्लैकबोर्ड पर हो रही है। मोबाइल एप का उपयोग केवल नकल के लिए किया जा रहा है। 

हाल ही में ब्रिटेन की कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी के संगठन कैम्ब्रिज असेसमेंट इंटरनेशनल एजुकेशन ने एक सर्वे किया। इसी साल मार्च से मई में किए गए सर्वे में दुनियाभर से 20 हजार टीचरों और बच्चों को शामिल किया गया। भारत से इसमें 4453 टीचर और 3927 छात्रों की राय ली गई।

सब्जेक्ट को लेकर अपडेट रहने में SMARTPHONE मददगार

सर्वे के मुताबिक, भारतीय कक्षाओं में स्मार्टफोन, टैबलेट या व्हाइट बोर्ड (पेन से लिखा जाने वाला) का इस्तेमाल काफी कम होता है। शोध के मुताबिक, दुनिया के महज एक तिहाई छात्रों ने पढ़ाई के दौरान ब्लैकबोर्ड या चॉक के इस्तेमाल की बात कही। वहीं भारत में ऐसा कहने वाले दो तिहाई छात्र हैं। सर्वे में बताया कि ज्यादातर देशों में स्मार्टफोन-टैबलेट के साथ पेन-पेपर-ब्लैकबोर्ड का इस्तेमाल होता है। रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि स्मार्टफोन के जरिए पढ़ाने से टीचर बच्चों से न केवल ज्यादा जुड़े रहते हैं बल्कि वे विषय को लेकर ज्यादा अपडेट भी रह सकते हैं।

केवल DEVICE देना ही काफी नहीं

एक अन्य रिपोर्ट में बताया गया है कि छात्रों को केवल इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस देने भर से उन्हें काबिल नहीं बनाया जा सकता। 2005 में पेरू में स्कूली छात्रों में कम्प्यूटर की तादाद बढ़ाने के लिए वन लैपटॉप पर चाइल्ड कार्यक्रम शुरू किया गया था। लेकिन छात्रों के गणित और भाषा पर इसका बेहद कम प्रभाव पड़ा।



-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

Suggested News

Loading...

Advertisement

Popular News This Week

 
-->