Loading...

शिवराज बतायें, आखिर जनता को क्यों न गुस्सा आये: कांग्रेस | MP NEWS

भोपाल। मप्र कांग्रेस कमेटी ने मुख्यमंत्री के उस बयान पर कि ‘‘कांग्रेस सिर्फ वचन पत्र घोषित करती है, उसे पूरा नहीं करती पर पलटवार किया है। जारी प्रेस रिलीज में लिखा है कि कांग्रेस, भाजपा की तरह जुमलेबाजी नहीं करती। कांग्रेस ने जो वचन जनता से किये हैं वह उसे पूरा करने के लिए वचनबद्ध है। 
कांग्रेस ने पूछा शिवराजसिंह पहले बतायें कि उन्होंने जो 33 हजार झूठी घोषणायें पिछले 15 सालों में की है, उनका क्या हुआ? 
शिवराज सिंह ने दो लाख नौकरियां देने का जो वादा किया था, उसका क्या हुआ? 
युवा पूछ रहे हैं कि हमारी नौकरियां किसने छीन ली? 
व्यापमं कांड ने युवाओं की एक पूरी पीढ़ी को बेरोजगार कर दिया। 
महिला कर्मचारियों को अपनी मांगों को लेकर मुंडन तक करवाना पड़ा। 
महिला अतिथि विद्वानों ने अपने दुपट्टे जला दिये लेकिन शिवराज सिंह को जरा भी शर्म नहीं आयी। 

किसानों से कहा कि फसल का दुगना मूल्य दिलवायेंगे, अपनी स्वयं की फसल तो लाखों में बेच दी, लेकिन प्रदेश के बाकी किसान ठगा गये, उन पर गोलिया चलवा दीं। 
व्यापारियों को फायदा पहुंचाने के लिये फसलों के दाम कम कर दिये गये और जब पूरी आवक हो गयी तो फसलों के दाम बढ़ा दिये। 
शिवराज सरकार बिचैलियों के साथ खड़ी नजर आ रही है। 
रेत माफिया ने प्रदेश में 67 लोगों की जान ले ली, लेकिन शिवराजसिंह चुप हैं। 
क्या शिवराजसिंह ने पिछले 14 वर्षां में यही वचन पूरे किये हैं।

कांग्रेस ने कहा कि यही कारण है कि जनता में भाजपा सरकार के प्रति नफरत और गुस्सा भरा है। 
किसानों का गुस्सा शिवराज सिंह भोपाल और मंदसौर की सड़कों पर देख चुके हैं। 
बच्चियों के साथ हुए बलात्कार का गुस्सा पूरे प्रदेश में देख चुके हैं। 
आशा-ऊषा कर्मचारियों का गुस्सा वे मुख्यमंत्री निवास के बाहर देख चुके हैं। 
संत-महात्माओं का गुस्सा पूरे प्रदेश में देख चुके हैं। 
दिव्यांगों का गुस्सा जग जाहिर है। 
साढ़े चार लाख पेंशनर्स उनके ऐरियर्स न मिलने के कारण वे गुस्से में हैं। 
प्रदेश के ढाई लाख संविदा कर्मचारी नियमित होने की बाट देखते-देखते ठगा हुआ महसूस कर रहे हैं और उनके मन में गुस्सा है। 
क्या शिवराज सिंह को इस गुस्से में खुशी नजर आ रही है?
मध्यप्रदेश और देश की प्रमुख खबरें पढ़ने, MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए (यहां क्लिक करेंया फिर प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com