स्ट्रांग रूम की सुरक्षा के लिये कलेक्टर एवं एसपी जिम्मेदार: चुनाव आयोग | MP NEWS

30 November 2018

भोपाल। मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी व्ही. एल. कान्ता राव ने बताया की प्रदेश में मतदान पूर्ण होने के बाद सभी EVM एवं VV Pat स्ट्रॉग रूम में जमा की जा चुकी हैं। कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी तथा पुलिस अधीक्षक जिलों के स्ट्रॉग रूम की सुरक्षा तथा प्रोटोकॉल के सावधानी पूर्वक क्रियान्वयन कर रहे हैं।

श्री राव ने कहा कि सभी 51 जिलों में स्ट्रॉग रूम की सुरक्षा केन्द्रीय सुरक्षा बल द्वारा 24 घण्टे की जा रही है। इसके साथ ही दूसरा घेरा विशेष सशस्त्र बल द्वारा संपादित किया जा रहा है। सुरक्षा व्यवस्था मतगणना पूर्ण होने तक यथावत रहेगी। स्ट्रॉग रूम में डबल लॉक सिस्टम है, जिसकी एक चाबी जिला निर्वाचन अधिकारी के पास तथा दूसरी चाबी संबंधित क्षेत्र के रिटर्निंग अधिकारी के पास है। केन्द्रीय पुलिस बल स्ट्रॉग रूम की आंतरिक परिधि सुरक्षा व्यवस्था में तैनात है तथा राज्य के सशस्त्र पुलिस बल बाहरी परिधि में सुरक्षा के लिए तैनात हैं।

अभ्यर्थियों को स्ट्रांग रूम के सुरक्षा इंतजाम पर गहन नजर रखने के लिए अपने प्रतिनिधियों को तैनात करने के लिए लिखित में सूचना दी गई है। उन्हे आंतरिक परिधि के बाहर रहने की अनुमति दी गई, जहां से वे स्ट्रॉग रूम के प्रवेश द्वार को देख सकें, यदि स्ट्रांग रूम के प्रवेश द्वार को सीधे नहीं देखा जा सकता है तो ऐसी अवस्था में सीसीटीवी की व्यवस्था है जिससे वे स्ट्रांग रूम के प्रवेश द्वार की निगरानी स्क्रीन पर देख सकें। स्ट्रॉग रूम के पास नियंत्रण कक्ष 24 घंटे कार्यशील है। पुलिस अधिकारी के साथ एक राजपत्रित अधिकारी को स्ट्रॉग रूम की सुरक्षा के लिए 24 घंटे ड्यूटी पर रखा गया है। स्ट्रॉग रूम के अंदर एवं आस-पास अग्निशामकों का पर्याप्त इंतजाम किया गया है। केन्द्रीय पुलिस बल द्वारा लॉगबुक रखी जाती है, जिसमें द्वितीय सुरक्षा घेरा अर्थात मध्य परिधि को पार करने वाले व्यक्तियों के नाम, मोबाईल नम्बर, दिनांक, समय, इत्यादि जानकारी की प्रविष्टि की जाती है। जिसमें प्रेक्षकों, जिला निर्वाचन अधिकारियों, पुलिस अधीक्षकों, अभ्यर्थियों, अभिकर्ताओं या किसी अन्य व्यक्ति के दौरे भी शामिल होते है।

स्ट्रॉग रूम की परिधि में आने जाने वाले व्यक्तियों के रिकॉर्ड के लिये केन्द्रीय सुरक्षा बल को video camera उपलब्ध करवाये गये है। स्ट्रॉग रूम में 24 x 7विधुत की उपलब्धता के लिये Power Generator की व्यवस्था सुनिश्चित की गयी है, ताकि स्ट्रॉग रूम की रिकॉर्डिंग/सुरक्षा प्रभावित न हो।

रिटर्निंग ऑफिसर को स्ट्रॉग रूम के आंतरिक परिधि तक प्रत्येक दिन सुबह एवं शाम को दौरा कर लॉगबुक एवं वीडियोंग्राफी की जांच करने के निर्देश दिये गये है। रिटर्निंग ऑफिसर द्वारा प्रतिदिन इसकी रिपोर्ट संबंधित जिला निर्वाचन अधिकारी को भेजी जा रही है। किसी अधिकारी या किसी अन्य राजनैतिक कार्यकर्ता के वाहन सहित किसी भी वाहन को स्ट्रॉग रूम की परिधि के भीतर आने की अनुमति नहीं है, वाहनों से उतरने का बिन्दु बाहरी सुरक्षा परिधि के आगे चिन्हित किया जाता है इसके बाद केवल पैदल मार्ग होता है।

मतगणना के दिन स्ट्रॉग रूम को अभ्यर्थियों/उनके प्रतिनिधियों, रिटर्निंग ऑफिसर एवं प्रेक्षक की उपस्थिति में वीडियोंग्राफी की निगरानी में खोला जावेगा।

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

Loading...

Popular News This Week

 
-->