मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर से मिलने तक नहीं आए नाराज BJP नेता | MP NEWS

25 November 2018

सबलगढ़(मुरैना)। सबलगढ़ विधानसभा सीट पर चुनाव लड़ रहे भाजपा, कांग्रेस व बसपा प्रत्याशियों के लिए उन्हीं की पार्टी के नेता मुसीबत बने हुए हैं। जिनको टिकट नहीं मिला उनकी नाराजगी अब तक दूर नहीं हो सकी है। कारण है कि डैमेज कंट्रोल के लिए तीनों पार्टियों के नेताओं ने भी अब तक कोई प्रयास नहीं किए हैं। इस हाल में प्रत्याशी अपने बलबूते पर चुनाव प्रचार को गति दे रहे हैं। मुसीबत भाजपा प्रत्याशी सरला रावत के लिए अधिक हैं क्योंकि उनकी पार्टी के 11 नेता टिकट न मिलने से नाराज हैं। 

अरसे से भाजपा के लिए काम कर रहे नेताओं में भाजपा जिला मंत्री मनु शर्मा, किसान मोर्चा के प्रदेश महामंत्री विनोद जादौन, ग्रामीाण् मंडल अध्यक्ष आनंद सिंह सिकरवार, नगर अध्यक्ष रामजीलाल बंसल, अशोक पाराशर टेंटरा, अजब सिंह सिकरवार, शिवेन्द्र शर्मा, डा.पदम सिंह जादौन, बादशाह रावत मंडी उपाध्यक्ष, सुमित्रा भीमसेन रावत पूर्व जनपद अध्यक्ष, वीर सिंह रावत पूर्व मंडल अध्यक्ष ने विधानसभा चुनाव का टिकट पाने के लिए भोपाल से लेकर दिल्ली तक जोर लगाया लेकिन इनमें से किसी भी नेता को टिकट के योग्य नहीं समझा गया। इसके चलते ये नेता भाजपा के शीर्ष नेतृत्व की नीतियों से खफा होकर घर बैठ गए हैं। 

भाजपा प्रत्याशी सरला रावत के चुनाव प्रचार में इन नेताओं की सक्रियता क्षेत्र में नजर नहीं आ रही है। इन नेताओं के मन में गुस्सा है लेकिन वे इसलिए मुंह नहीं खोल रहे क्योंकि इन नेताओं को अनुशासनात्मक कार्रवाई का डर भी सता रहा है। इन नेताओं को विधायक मेहरबान सिंह रावत के कहने पर केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने मान-मनौवल के लिए ग्वालियर बुलाया था लेकिन इनमें से एक भी नेता ग्वालियर नहीं पहुंचा। 

BJP के ये पदाधिकारी पहुंचे मंत्री Narendra Sing Tomar के बुलाने पर 

सबलगढ़ में भाजपा व भाजयुमो की राजनीति से जुडे आठ से 10 पदाधिकारी पुष्पराज शर्मा अध्यक्ष युवा मोर्चा,मोनू मरैया महामंत्री जिला किसान मोर्चा, दिलीप शर्मा पूर्व सरपंच कुल्होली, शरद पाराशर, बल्लू शुक्ला सरपंच पति नेंपरी, सियापोश शर्मा, वासुदेव शर्मा व विवेक गुरु पार्षद आदि पदाधिकारी, केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर के बुलाने पर ग्वालियर उनके बंगले पर पहुंचे। इन पदाधिकारियों से भी मंत्री तोमर ने सरला रावत के चुनाव प्रचार के लिए उन्हें कोई खास गाइडलाइन नहीं दी तो कुछ समय बाद ये नेता ग्वालियर से सबलगढ़ वापस हो लिए। 

कुछ CONGRESS नेता भी प्रचार से नदारद: 

सैद्धांतिक राजनीति के धनी व कांग्रेस नेता बैजनाथ कुशवाह को सबलगढ़ से कांग्रेस का टिकट मिलने के बाद पार्टी के वे नेता असंतुष्ट हो गए जिनका सबलगढ़ क्षेत्र के मतदाताओं पर राजनीतिक प्रभाव है। कांग्रेस के त्रिलोक चौधरी से लेकर राजेन्द्र मरैया, गोपाल गुप्ता, संजय फक्कड़, बूंदी लाल रावत आदि नेताओं की सक्रियता चुनाव प्रचार में नजर नहीं आ रही है। इस हाल में बैजनाथ कुशवाह के समर्थक, शुभचिंतक व कांग्रेसजनों ने चुनाव प्रचार की कमान को अपने हाथों में लेकर हर मतदाता तक पहुंचने के अभियान को गति प्रदान की है। 

BSP नेताओं की नाराजगी का असर: 

सबलगढ़ सीट से जिला पंचायत सदस्य कमल रावत ने भी टिकट मांगा था लेकिन उन्हें टिकट नहीं मिला। लालसिंह केवट को प्रत्याशी बनाए जाने के बाद से बसपा का एक बड़ा वर्ग चुनाव प्रचार में शामिल नहीं देखा जा रहा है।

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

Loading...

Popular News This Week

 
-->