मप्र चुनाव: टॉप ब्रेकिंग न्यूज | MP ELECTION: TOP BREAKING NEWS

19 October 2018

नेताओं के सभी रिश्तेदार हटाए जांएगे | भोपाल। जिन अफसरों के रिश्तेदार राजनीतिक पार्टी में हैं, उन्हें फील्ड पोस्टिंग से हटा दिया गया है। यदि कुछ अफसर अभी फील्ड पोस्टिंग में हैं तो उन्हें भी हटाया जाएगा। पिछले चुनाव की तुलना में इस बार बेहतर व्यवस्थाएं हैं। सोशल मीडिया पर लगातार नजर रखी जा रही है। भावनाएं भड़काने वाली पोस्ट करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। यह बात प्रभारी डीजीपी और पुलिस हाउसिंग कारपोरेशन के चेयरमैन वीके सिंह ने गुरुवार को पुलिस मुख्यालय में मीडिया से चर्चा में कही। डीजीपी ऋषि कुमार शुक्ला के अस्वस्थ होने पर वीके सिंह छह सप्ताह के लिए प्रभारी डीजीपी नियुक्त हुए हैं।

2. सपा प्रत्याशियों की दूसरी लिस्ट

भोपाल। विधानसभा चुनावों के लिए समाजवादी पार्टी ने अपनी दूसरी सूची जारी कर दी है। इसमें दो उम्मीदवारों के नाम तय किए गए हैं। खजुराहो में समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने इन दो उम्मीदवार के नामों का ऐलान किया। अखिलेश यादव ने कहा कि वर्तमान प्रदेश अध्यक्ष गौरी यादव सिलवानी से और पूर्व सपा प्रदेश अध्यक्ष अशोक यादव ग्वालियर ग्रामीण सीट से चुनाव लड़ेंगे।

3. प्रशासन ने आप का होर्डिंग हटाया, चुनाव आयोग से शिकायत

भोपाल। आम आदमी पार्टी द्वारा चुनाव आयोग की अनुमति लेकर न्यू मार्केट में लगाई गई होर्डिंग को प्रशासन ने रात में हटा दिया है। अब इसे लेकर आम आदमी पार्टी ने चुनाव आयोग से शिकायत की है। आप के प्रदेश संयोजक आलोक अग्रवाल ने ट्वीट करके लिखा कि एक समर्पित कार्यकर्ता ने अपने गहने बेचकर यह होर्डिंग लगवाया था, सभी अनुमतियां ली गयी थी। फिर भी रात को इसे हटा दिया। एसडीएम कह रहे हैं निगम ने किया और निगम कह रही है एसडीएम ने किया। कितना भय है इन्हें आम आदमी पार्टी से? उन्होंने बताया है कि हमने मुख्य चुनाव अधिकारी से शिकायत की है। उन्होंने कहा कि आम आदमी न डरेगा और न ही हारेगा।

4. भाजपा को मिला 10 करोड़ रुपए चंदा

भोपाल। राजनीतिक दलों की पॉलिटिकल फंडिंग के लिए रिजर्व बैंक द्वारा जारी किए गए इलेक्टोरल बॉन्ड को प्रदेश में अब तक कोई खरीदार नहीं मिला है पर भाजपा ने चुनाव से पहले आजीवन सहयोग निधि और प्रत्याशियों को मिलने वाले चुनावी चंदे के अलावा 10 करोड़ रुपए का फंड जुटा लिया है। यह राशि 500, 1000 और 2000 रुपए के कूपन जारी करके 230 विधानसभाओं से जुटाई गई है।

5. तीन एसडीएम को कारण बताओ नोटिस

भोपाल। भारत निर्वाचन आयोग की अनुमति के बिना मतदाता सूची से नाम हटाने की कार्रवाई करना तीन एसडीएम को भारी पड़ गया। सूची के अंतिम प्रकाशन के बाद जैसे ही ईआरओ नेट पोर्टल में फार्म अपडेशन शुरू हुआ तो इन रिटर्निंग अधिकारियों ने फार्म-7 अपलोड कर नाम काटने की कार्रवाई शुरू कर दी। इसके लिए भारत निर्वाचन आयोग से अनुमति नहीं ली गई। ऐसे में तीनों क्षेत्र के रिटर्निंग ऑफिसर एसडीएम संजय श्रीवास्तव, मनोज उपाध्याय और राजीवनंदन श्रीवास्तव को संभागायुक्त कवींद्र कियावत ने शोकाज नोटिस जारी कर दिया है। इस नोटिस का जवाब इन अधिकारियों को सात दिन के अंदर देना है। जवाब देने के बाद इन अधिकारियों पर कार्रवाई की जाएगी।

6. cVIGIL एप चालू, अब करें आचार संहिता उल्लंघन की शिकायत

जबलपुर। निर्वाचन आयोग ने विधानसभा चुनाव में आचार संहिता उल्लंघन करने वालों की शिकायत दर्ज कराने सी विजल ऐप तैयार किया है लेकिन तकनीकी समस्या के चलते इस ऐप को अभी तक चालू नहीं किया जा सका था। अब तकनीकी समस्या को दूर कर लिया गया है और शुक्रवार से कोई भी व्यक्ति सी विजल ऐप को डाउनलोड कर उसमें फोटो-वीडियो लिखित शिकायत के साथ भेज सकता है। ऐप में दर्ज होने वाली शिकायतें संबंधित क्षेत्र के रिटर्निंग अधिकारी तक पहुंचेंगी और 100 मिनट के भीतर उसका निराकरण भी किया जाएगा। यदि निराकरण नहीं किया जा सका तो वह निर्वाचन आयोग के कम्प्यूटर पर लाल रंग में नजर आने लगेगी।

7. संविदा कर्मचारियों चुनाव में ड्यूटी लगा दी

म.प्र में चुनावी तैयारिया शुरू हो चुकी है ऐसे समय में कई जिला निर्वाचन अधिकारियों ने संविदा एवं अस्‍थायी कर्मचारियों को चुनावी दायित्‍व से मुक्‍त रखने के आदेश दिए है जो कि नीतिगत एवं नियमसंगत है इसके बाबजूद भी कई जिलों में संविदा कर्मियों एवं अस्‍थायी कर्मचारियों को चुनावी दायित्‍व सौंपे गए है अत: चुनाव आयोग को अवगत करावे कि संविदा कर्मी एवं अस्‍थायी कर्मियों को चुनावी दायित्‍व से मुक्‍त रखा जाए, इससे समस्‍त जिला निर्वाचन अधिकारयों को अवगत करावे ताकि चुनाव कार्य में संलग्‍न अस्‍थायी कर्मचारियों एवं संविदा कर्मियों को पृथक किया जाए ताकि चुनावी तैयारिया एवं चुनाव कुशल स्‍थायी कर्मियों के संचालन में संपन्‍न हो।

8. कांग्रेस के अभी कोई लिस्ट नहीं, सब फर्जी हैं: सिंधिया

प्रचार अभियान समिति के अध्यक्ष व सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने बड़ा बयान दिया है। सिंधिया ने कहा है उम्मीदवारों का नाम अभी तक तय नहीं हुआ है और इस प्रक्रिया में अभी एक और सप्ताह लग सकता है। सिंधिया ने आगे कहा कि ऐसी कोई भी लिस्ट कांग्रेस ने जारी नहीं की है, इसलिए उसके वायरल होने का कोई सवाल ही पैदा नहीं होता है। जो लिस्ट वायरल हो रही है वो किसने बनाई, इस बारे में कुछ नहीं कहा जा सकता।

9. कम अंतर से हारे प्रत्याशियों को टिकट मिलेगा: अजय सिंह

नेता प्रतिपक्ष अयज सिंह ने कहा कि कांग्रेस की लिस्ट अक्टूबर के अंत तक जारी होगी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस की बैठक में इस बात पर सहमति बन चुकी है कि पिछला चुनाव जो उम्मीदवार कम अंतर से हारे थे उन्हें दोबारा मौका दिया जाएगा। उन्होंने यह भी कहा कि इस बात के संकेत हैं कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान इस बार बुदनी से चुनाव नहीं लड़ेंगे। वह संभवत: विदिशा से चुनाव लड़ सकते हैं।

10 शिवराज सिंह जी, #MeToo वालों को टिकट ​मत देना: शशि कर्णावत

भोपाल। कांग्रेस की महिला उत्पीड़न निवारण प्रकोष्ठ की विशेष आमंत्रित सदस्य शशि कर्णावत ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को एक पत्र लिखा। इसमें उन्होंने अकबर को पद से हटाने की मांग की है। उन्होंने लिखा कि एमपी अकबर मध्यप्रदेश से राज्यसभा सांसद हैं। उनका नाम यौन शोषण के मामले में सामने आने के बाद प्रदेश का नाम बदनाम हो रहा है। ऐसे में उन्हें राज्यसभा सदस्य के पद से हटाना उचित होगा। उन्होंने कहा कि बीजेपी में कई ऐसे लोग जो मीटू में फंसे हो सकते हैं। ऐसे लोगों को विधानसभा टिकट नहीं दिया जाना चाहिए। अगर बीजेपी ऐसे लोगों को टिकट देती है तो कांग्रेस मुख्यमंत्री निवास का घेराव करेगी।
मध्यप्रदेश और देश की प्रमुख खबरें पढ़ने, MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए (यहां क्लिक करेंया फिर प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

Loading...

Popular News This Week